1. सरकारी योजनाएं

कृषि यंत्रों पर 85 प्रतिशत सब्सिडी, जानें कहां और कैसे करना है आवेदन

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Farm Machinery

Farm Machinery

वर्तमान समय में सिंचाई यंत्रों की उपयोगिता काफी बढ़ गई है. हर किसान सिंचाई की नई-नई तकनीक को अपना रहा है, ताकि फसलों की गुणवत्ता और उत्पादकता, दोनों में बढ़ोत्तरी की जा सके. इसको देखते हुए केंद्र व राज्य सरकारों की तरफ से सिंचाई यंत्रों पर सब्सिडी उपलब्ध कराई जाती है. इससे किसानों को बहुत ही कम कीमत पर सिंचाई यंत्र उपलब्ध हो जाते हैं.

इसी कड़ी में हरियाणा सरकार द्वारा किसानों को एक बड़ी खुशखबरी दी गई है. दरअसल, राज्य सरकार किसानों को मिनी स्प्रिंकलर और ड्रिप सिंचाई यंत्रों पर सब्सिडी प्रदान कर रही है. 85 प्रतिशत अनुदान प्रदान किया जा रहा है.

मिनी स्प्रिंकलर और ड्रिप सिंचाई यंत्रों पर सब्सिडी (Subsidy on mini sprinklers and drip irrigation devices)

हरियाणा सरकार द्वारा मिनी स्प्रिंकलर और ड्रिप सिंचाई यंत्रों पर 85 प्रतिशत सब्सिडी प्रदान की जा रही है. इसके अलावा सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली के तहत तालाब और सोलर पंप के लिए भी सब्सिडी दी जा रही है. ऐसे में किसानों को सिंचाई यंत्रों पर मिलने वाली सब्सिडी का लाभ उठाना चाहिए, ताकि इससे पानी की बचत की जा सकते, साथ ही अधिक भू-भाग पर सिंचाई करना संभव हो सके.

सब्सिडी देने का उद्देश्य (Purpose of subsidizing)

हरियाणा सरकार चाहती है अधिक से अधिक किसान सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली को अपनाकर जल संरक्षण में योगदान दें. बता दें कि पिछले कई सालों से जल का दोहन अधिक हो रहा है, जिससे जल स्तर लगातार गिरता जा रहा है. ऐसे में सरकार चिंतित है, इसलिए किसानों को सूक्ष्म प्रणाली के प्रति प्रेरित किया जा रहा है.

किन सिंचाई यंत्रों पर मिल रही है सब्सिडी (Which irrigation equipment is getting subsidy)

इस योजना के तहत सूक्ष्म सिंचाई के लिए तालाब, सोलर पंप, मिनी स्प्रिंकलर/ड्रिप का निर्माण व स्थापना करने के लिए सब्सिडी प्रदान की जा रही है. इस योजना का लाभ किसान व्यक्तिगत रूप से उठा सकते हैं. इसके साथ ही कम से कम चार किसानों का समूह लाभ उठा सकता है.

किन सिंचाई यंत्रों पर कितनी मिल रही है सब्सिडी  (How much subsidy is being given on which irrigation equipments)

व्यक्तिगत रूप में किसानों को वाटर टैंक के निर्माण पर 70 प्रतिशत सब्सिडी दी जा रही है. इसके साथ ही सोलर पंप पर 75 प्रतिशत सब्सिडी मिल रही है. इसके अलावा मिनी स्प्रिंकलर / ड्रिप पर 85 प्रतिशत  सब्सिडी दी जाएगी. इसी तरह किसानों के समूह को वाटर टैंक के निर्माण के लिए 85 प्रतिशत मिलेगी. अगर सोलर पंप पर सब्सिडी चाहिए, तो इस पर 75 प्रतिशत और मिनी स्प्रिंकलर / ड्रिप पर 85 प्रतिशत सब्सिडी मिलेगी. इतना ही नहीं, वाटर टैंक की खुदाई पूरी होने पर सब्सिडी का 20 प्रतिशत, वाटर टैंक का निर्माण पूरा होने पर 40 प्रतिशत और लाभान्वित क्षेत्र में सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली की स्थापना पर 40 प्रतिशत हिस्सा प्रदान किया जाएगा.

खेत में तालाब निर्माण के लिए मिलेगी सब्सिडी  (Subsidy will be available for construction of pond in the farm)

किसानों के लिए अच्छी बात यह है कि इस योजना के तहत सरकार द्वारा ताल निर्माण व पुन:निर्माण के लिए खर्च की 99 प्रतिशत राशि वहन की जाएगी. बस बशर्ते खाल के हिस्सेदार अपने हिस्से का 1 प्रतिशत जमा करने के लिए तैयार होना चाहिए. ध्यान दें कि ‘ऑन फार्म पॉन्ड’ के लिए जमीन हिस्सेदारी किसानों को उपलब्ध करानी होगी. बता दें कि 25 एकड़ जमीन पर ‘ऑन फार्म पॉन्ड’ के लिए 2 कनाल जमीन की उपलब्धता करानी होगी.

सिंचाई यंत्रों पर सब्सिडी के लिए जरूरी दस्तावेज (Documents required for subsidy on irrigation equipment)

अगर किसी किसान भाई को सिंचाई यंत्रों पर सब्सिडी का लाभ लेना है, तो इसके लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होगी.

  • आधार कार्ड
  • बैंक पासबुक के पहले पेज की कॉपी

  • जाति प्रमाणपत्र (केवल अनुसूचित जाति एवं जनजाति कृषकों के लिए)

  • बिजली कनेक्शन का प्रमाणपत्र जैसे बिल

  • मोबाइल नंबर (ओ.टी.पी के लिए)

सिंचाई यंत्रों पर सब्सिडी के लिए आवेदन प्रक्रिया  (Application process for subsidy on irrigation equipment)

अगर आप इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं, तो इसके लिए राज्य सरकार द्वारा एक पोर्टल तैयार किया गया है. इस पर किसान पंजीकरण कर सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली की स्थापना के लिए आवेदन कर सकते हैं. यह पूरी तरह से ऑनलाइन व पारदर्शी है. किसान इस योजना का लाभ उठाने के लिए  ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं.

  • किसान https://dbt.mpdage.org/Agri_Index.aspx पोर्टल पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं.

  • इसके साथ ही किसानों को मोबाइल पर वन टाइम पासवर्ड ओटीपी प्राप्त होगा.

  • इसके बाद किसान लॉग इन कर सकते हैं.

कृषि जागरण ने इस संबंध में सूक्ष्म सिंचाई एवं कमान क्षेत्र विकास प्राधिकरण में बातचीत की है. उनका कहना है कि किसान भाई सिंचाई यंत्रों पर सब्सिडी का लाभ उठाने के लिए जल्द से जल्द आवेदन कर दें. फिलहाल, अभी तक आवेदन की कोई अंतिम तारीख नहीं बताई गई है. किसान भाई इसकी अधिक जानकारी के लिए सूक्ष्म सिंचाई एवं कमान क्षेत्र विकास प्राधिकरण में संपर्क कर सकते हैं. इस योजना की अधिक जानकारी के लिए हेल्पलाइन नंबर 0172-2583940 पर संपर्क कर सकते हैं. किसान भाई सुबह 9 से लेकर शाम 5 बजे तक किसी भी समय संपर्क कर सकते हैं.

English Summary: farmers are getting 85 percent subsidy on mini sprinklers and drip irrigation machines

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News