Government Scheme

घर में बेटी है तो खाते में आएंगे 15,000 रुपए, जानिए कैसे

साल 2015 प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने बेटियों के भविष्य को उज्जवल करने के लिए एक अभियान चलाये थे. उस अभियान का नाम बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ था.  अब इसी अभियान के अंतर्गत उतर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने एक स्कीम लांच की है. इस योजना के तहत यदि आपके घर में छोटी बच्ची जन्म लेती है या पहले से है तो आपके के बैंक खाते में डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के माध्यम से  15 हजार सम्मान राशि आएगी. इस योजना का लाभ उठाने के लिए आपको ऑनलाइन आवेदन करना पड़ेगा.

बता दें, यदि आपके घर  छोटी बच्ची है तो आपके बैंक खाते में 15,000 आने  हैं. मोदी सरकार की 2020 में बेटियों के लिए चलाई गई सबसे बड़ी योजनाओं में से एक है. बता दें, इस योजना की शुरूआत उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले से की गई थी. मोदी सरकार देश की बेटीओं के लिए कई अन्य प्रकार की योजनाए भी चला रही हैं. इस योजना के शुरूआत करने का मुख्य उद्देश्य बेटियों को आगे बढ़ाना है.

इस योजना का लाभ उठाने के लिए यहाँ से करें आवेदन : -

https://mksy.up.gov.in/women_welfare/citizen/guest_login.php

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना की पात्रता की अहर्ताएं

  • लाभार्थी का परिवार उत्तर प्रदेश का निवासी हो तथा उसके पास स्थायी निवास प्रमाण पत्र हो, जिसमें राशन कार्ड/आधार कार्ड/वोटर पहचान पत्र/विद्युत/टेलीफोन का बिल मान्य होगा.

  • लाभार्थी की पारिवारिक वार्षिक आय अधिकतम रु0-3.00 लाख हो.

  • किसी परिवार की अधिकतम दो ही बच्चियों को योजना का लाभ मिल सकेगा.

  • किसी महिला को द्वितीय प्रसव से जुड़वा बच्चे होने पर तीसरी संतान के रूप में लड़की को भी लाभ अनुमन्य होगा. यदि किसी महिला को पहले प्रसव से बालिका है व द्वितीय प्रसव से दो जुड़वा बालिकायें ही होती हैं तो केवल ऐसी अवस्था में ही तीनों बालिकाओं को लाभ अनुमन्य होगा.

  • यदि किसी परिवार ने अनाथ बालिका को गोद लिया हो, तो परिवार की जैविक संतानों तथा विधिक रूप में गोद ली गयी संतानों को सम्मिलित करते हुये अधिकतम दो बालिकायें इस योजना की लाभार्थी होंगी.

इस योजना की अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर विजिट करें :-

https://mksy.up.gov.in/women_welfare/pdf/ae0a20105201932342.pdf



English Summary: 15,000 if you have a daughter at home, know how

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in