MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

ज़ायटॉनिक प्रौद्योगिकी: कृषि में परिवर्तन का नया आयाम

ज़ायटॉनिक तकनीक कृषि में आशाजनक प्रगति लाती है जो मृदा स्वास्थ्य, जल संरक्षण और संतुलित जैविक पोषण के महत्वपूर्ण मुद्दों को संबोधित करती है. यह परिवर्तनात्‍मक दृष्टिकोण कृषि प्रक्रियाओं को अनुकूलित करने के लिए अत्याधुनिक तकनीकों और टिकाऊ प्रक्रियाओं को जोड़ता है.

KJ Staff
ज़ायटॉनिक प्रौद्योगिकी: कृषि में परिवर्तन का नया आयाम
ज़ायटॉनिक प्रौद्योगिकी: कृषि में परिवर्तन का नया आयाम

मिट्टी, पानी और संतुलित फसल पोषण सफल कृषि के तीन प्रमुख स्तंभ हैं. इनका प्रभावी उपयोग अच्छी फसल पैदावार प्राप्त करने, पारिस्थितिकी तंत्र को बनाए रखने और भोजन की बढ़ती वैश्विक मांग को पूरा करने के लिए आवश्यक है. ज़ायटॉनिक जैसी नवीन तकनीकों का उद्भव इन प्रमुख पहलुओं को एक साथ संबोधित करता है.  यह मिट्टी को स्वस्थ बनाता है, फसलों के लिए पानी की उपलब्धता और पौधों को संतुलित पोषण उपलब्ध करते हुए कृषि में क्रांति लाने का वादा करता है.

कृषि में मिट्टी, पानी और पोषण का महत्व

  1. मिट्टी: मिट्टी को अक्सर "पृथ्वी की त्वचा" कहा जाता है. यह एक जटिल और गतिशील पारिस्थितिकी तंत्र है जो कृषि के लिए नींव के रूप में कार्य करता है. पौधों की वृद्धि के लिए मिट्टी का स्वास्थ्य सर्वोपरि है, क्योंकि यह सीधे पोषक तत्वों की उपलब्धता और जल-धारण क्षमता को प्रभावित करता है. हालाँकि, कटाव, संघनन और पोषक तत्वों की कमी के कारण मिट्टी का क्षरण वैश्विक खाद्य सुरक्षा के लिए एक गंभीर खतरा है. मृदा स्वास्थ्य की वर्तमान स्थिति काफी चिंताजनक है और कृषि स्थिरता को खतरे में डाल रही है.
  2. पानी: किसी भी फसल के लिए पानी आवश्यक है. पौधों को प्रकाश संश्लेषण और पोषक तत्व ग्रहण सहित विभिन्न शारीरिक प्रक्रियाओं के लिए पानी की आवश्यकता होती है. हालाँकि, अकुशल सिंचाई पद्धतियों से पानी की बर्बादी और पर्यावरणीय गिरावट आ रही है. कृषि में सबसे अधिक (७०% तक) पानी की खपत होती है और बदलती जलवायु परिस्थितियों के कारण प्रभावी फसल वृद्धि के लिए सही मात्रा और सही समय पर पानी की उपलब्धता एक चुनौती बनती जा रही है.
  3. पोषण: पौधों की वृद्धि और विकास के लिए संतुलित पोषण महत्वपूर्ण है. पौधों के पूर्ण वृद्धि एवं विकास के लिए कई प्रकार के मुख्य और सूक्ष्म पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है. पोषक तत्वों में असंतुलन या कमी के परिणामस्वरूप विकास रुक सकता है, पैदावार कम हो सकती है और बीमारियों की आशंका हो सकती है. फसलों/मिट्टी में पोषण के रासायनिक आदानों पर वर्तमान निर्भरता से फसल की गुणवत्ता में गिरावट आ रही है और मिट्टी के स्वास्थ्य पर भी बुरा प्रभाव पड़ रहा है. विभिन्न खाद्य फसलों का समग्र पोषण मूल्य काफी कम हो गया है, जिससे मनुष्यों में भी पोषण असंतुलन पैदा हो गया है.

ज़ायटॉनिक तकनीक कृषि में आशाजनक प्रगति लाती है जो मृदा स्वास्थ्य, जल संरक्षण और संतुलित जैविक पोषण के महत्वपूर्ण मुद्दों को संबोधित करती है. यह परिवर्तनात्‍मक दृष्टिकोण कृषि प्रक्रियाओं को अनुकूलित करने के लिए अत्याधुनिक तकनीकों और टिकाऊ प्रक्रियाओं को जोड़ता है.

  1. मृदा स्वास्थ्य संवर्धन: ज़ायटॉनिक तकनीक मृदा स्वास्थ्य को पुनर्जीवित करने और स्थाई बनाए रखने पर केंद्रित है. इसमें भौतिक मृदा संरचना, कार्बनिक पदार्थ प्रबंधन के साथ बेहतर लाभकारी मृदा जैविक शक्ति को शामिल करना और मिट्टी की संरचना और सूक्ष्मजीव विविधता में सुधार के लिए बेहतर कृषि संबंधी प्रक्रियाएँ शामिल हैं. मिट्टी के स्वास्थ्य को बढ़ाकर, ज़ायटॉनिक तकनीक पौधों के लिए आवश्यक पोषक तत्वों की उपलब्धता बढ़ाती है, रासायनिक उर्वरकों की आवश्यकता को कम करती है और फसल पौधों का अनुकूल और स्वस्थ विकास करती है.
  2. जल संरक्षण: कृषि में पानी की कमी एक बढ़ती हुई चिंता है, जिससे कुशल जल प्रबंधन अनिवार्य हो गया है. ज़ाय टॉनिक तकनीक लंबे समय तक पानी को बनाए रखने के लिए मिट्टी की संरचना में सुधार करती है, भविष्य की उपलब्धता के लिए भूजल को रिचार्ज करने के लिए वर्षा जल के बेहतर प्रवाह का उपयोग करती है, अंततः भविष्य की पीढ़ियों के लिए टिकाऊ कृषि के लिए इस बहुमूल्य संसाधन को संरक्षित करती है.
  3. संतुलित पौध पोषण: ज़ायटॉनिक तकनीक निरंतर मिट्टी में बढ़ी हुई जैविक गतिविधि के माध्यम से पौधों को संतुलित पोषण प्रदान करती है. यह रासायनिक उर्वरकों के माध्यम से पोषक तत्वों के असंतुलन को कम करती है और पौधों की सही समय पर आवश्यक पोषण लेने की क्षमता को बढ़ाती है. इससे रासायनिक उर्वरकों के प्रयोग को कम करने में भी मदद मिलती है. यह दृष्टिकोण सुनिश्चित करता है कि पौधों को सही मात्रा में सही पोषक तत्व प्राप्त हों, जिससे रसायनों के पर्यावरणीय प्रभाव कम किया जा सके.
ज़ायटॉनिक प्रौद्योगिकी: कृषि में परिवर्तन का नया आयाम
ज़ायटॉनिक प्रौद्योगिकी: कृषि में परिवर्तन का नया आयाम

ज़ायटॉनिक और पारंपरिक कृषि पद्धतियों के बीच तालमेल

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ज़ाय टॉनिक तकनीक पारंपरिक कृषि पद्धतियों का पूरक है. यह पारंपरिक कृषि के साथ सहजता से एकीकृत होता है, जिससे किसानों को धीरे-धीरे अधिक टिकाऊ तरीकों में बदलाव करने की अनुमति मिलती है. यह तालमेल सुनिश्चित करता है कि किसान अपनी कृषि पद्धतियों में मौलिक परिवर्तन किए बिना बेहतर मृदा स्वास्थ्य, जल संरक्षण और संतुलित पोषण से लाभ उठा सकते हैं.

स्वस्थ मिट्टी, पानी की उपलब्धता और पोषण कृषि के अपरिहार्य घटक हैं, और खाद्य उत्पादन के भविष्य के लिए उनका स्थायी प्रबंधन महत्वपूर्ण है. ज़ायटॉनिक तकनीक एक आशाजनक समाधान का प्रतिनिधित्व करती है जो इन प्रमुख पहलुओं को एक साथ संबोधित करती है, मिट्टी को स्वस्थ बनाती है, सिंचाई में पानी का संरक्षण करती है और पौधों को संतुलित पोषण प्रदान करती है. 

ज़ायटॉनिक और इसी तरह के नवाचारों को अपनाने से, कृषि वैश्विक चुनौतियों के सामने अधिक उत्पादक, पर्यावरणीय रूप से टिकाऊ और लचीला बन सकता है. यह तकनीक कृषि और धरती के लिए अधिक टिकाऊ और समृद्ध भविष्य की आशा की किरण का प्रतिनिधित्व करती है.

English Summary: zytonic technology new dimension of transformation in agriculture farming innovation agricultural technology Published on: 14 October 2023, 12:42 AM IST

Like this article?

Hey! I am KJ Staff. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News