MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

Mushroom Farming: मशरूम उगाने की तीन बेहतरीन तकनीक, कम लागत में मिलेगा अच्छा उत्पादन, किसान को होगी मोटी कमाई

Mushroom Growing Techniques: अगर आप भी मशरूम के उत्पादन से अच्छी मोटी कमाई करना चाहते हैं, तो मशरूम उगाने की ये तीन बेहतरीन तकनीक आपके लिए काफी मददगार साबित हो सकती है. जिन तकनीक की हम बात कर रहे हैं, वह शेल्फ तकनीक, पॉलीथीन बैग तकनीक और ट्रे तकनीक हैं. यहां जानें इन तकनीकों से जुड़ी पूरी जानकारी-

लोकेश निरवाल
मशरूम उगाने की बेहतरीन तकनीक
मशरूम उगाने की बेहतरीन तकनीक

देश के किसानों के लिए मशरूम एक नकदी फसल है, जो उन्होंने कम लागत में अच्छा मुनाफा कमाकर देती है. इन दिनों देश-विदेश के बाजार में मशरूम की मांग सबसे अधिक है, जिसके चलते बाजार में इनकी कीमत में भी काफी बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. ऐसे में किसान अपने खेत में अगर मशरूम की खेत करते हैं, तो वह अच्छा मोटा लाभ प्राप्त कर सकते हैं. इसी क्रम में आज हम किसानों के लिए मशरूम की तीन बेहतरीन तकनीक की जानकारी लेकर आए हैं, जिसकी मदद से मशरूम की पैदावार काफी अधिक होगी.

बता दें कि जिस तकनीक की हम बात कर रहे हैं, वह शेल्फ तकनीक, पॉलीथीन बैग तकनीक और ट्रे तकनीक है. आइए मशरूम की इन तीनों तकनीक के बारे में विस्तार से जानते हैं-

मशरूम उगाने की तीन बेहतरीन तकनीक/ Three Best Techniques For Growing Mushrooms

मशरूम उगाने की शेल्फ तकनीक:  मशरूम उगाने की इस बेहतरीन तकनीक में किसान को मजबूत लकड़ी के एक से डेढ़ इंच मोटे तख्ते से एक शैल्फ बनाना होता है, जिन्हें लोहे की कोणों वाली फ्रेमों से जोड़कर रखना होता है. ध्यान रहे कि मशरूम उत्पादन के लिए जिन फट्टे का इस्तेमाल किया जा रहा है. वह अच्छी लकड़ी के होना बेहद जरूरी है, ताकि वह खाद व अन्य सामग्री का भार सरलता से उठा सके. शेल्फ की चौड़ाई करीब 3 फीट और साथ ही शैल्फों के बीच की दूरी डेढ़ फुट तक होनी चाहिए. इस तरह से किसान मशरूम की शैल्फों को एक दूसरे के ऊपर करीब पांच मंजिल तक मशरूम को उगाया जा सकता है.

मशरूम उगाने की पॉलीथीन बैग तकनीक: मशरूम उगाने की पॉलीथीन बैग तकनीक किसानों के द्वारा सबसे अधिक अपनाई जाती है. इस तकनीक में किसानों को अधिक मेहनत करने की भी जरूरत नहीं होती है. यह तकनीक एक कमरे में आसानी से की जा सकती है. पॉलीथीन बैग तकनीक में 25 इंच लंबाई और 23 इंच चौड़ाई वाले 200 गेज माप के पॉलीथीन के लिफाफों की ऊंचाई 14 से 15 इंच और मशरूम पैदा करने का 15 से 16 इंच का व्यास होता है. ताकि मशरूम का विकास अच्छे से हो सके.

ये भी पढ़ें: ऑयस्टर (ढींगरी) मशरूम उत्पादन के लाभ तथा औषधीय महत्व

मशरूम उगाने की ट्रे तकनीक:  मशरूम उगाने की यह तकनीक काफी सरल है. इसमें  तकनीक की मदद से किसान मशरूम को एक स्थान से दूसरे स्थान पर आसानी से ले जा सकते हैं. क्योंकि इसमें मशरूम का उत्पादन एक ट्रे के माध्यम से किया जाता है. मशरूम उगाने के लिए एक ट्रे का साइज 1/2 वर्ग मीटर और 6 इंच तक गहरी होती है. ताकि उसमें 28 से 32 किग्रा तक खाद आसानी से आ सकें.

English Summary: Three best techniques for growing mushrooms Farming Mushroom production mushroom ki kheti mushroom price Published on: 28 January 2024, 11:23 AM IST

Like this article?

Hey! I am लोकेश निरवाल . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News