MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

रबी सीजन में गेहूं की इन किस्मों की होगी बुवाई, इस साल सरकार ने रखा 11.4 करोड़ टन का लक्ष्य

तूफान, ओलावृष्टि या अल नीनो जैसी विषम परिस्थितियों को देखते हुए केंद्र सरकार ने जलवायु-प्रतिरोधी (गर्मी झेल सकने वाली) DBW 327 करण शिवानी, एचडी-3385 जैसी किस्मों की खेती करने का लक्ष्य रखा है. इस रबी सीजन में 11.4 करोड़ टन की रिकॉर्ड गेहूं पैदावार का लक्ष्य रखा गया है.

वर्तिका चंद्रा
wheat variety
wheat variety

Rabi season: फसलों की उपज मिट्टी, मौसम, सिंचाई और अच्छी किस्म के बीजों पर निर्भर होती है. वहीं कभी-कभी मौसम की विषम परिस्थितियों के कारण किसान की फसल की लागत भी नहीं निकल पाती है. किसान आर्थिक स्थिति से खुद भी गुजरता है और उसका परिवार भी इन मुश्किलों का सामना करता है. ऐसे में सरकार ने विषम परिस्थितियों के मद्देनजर एक लक्ष्य रखा है. इस लक्ष्य के तहत गेहूं की बुवाई (Wheat Sowing) के कुल रकबे के 60 प्रतिशत हिस्से में जलवायु-प्रतिरोधी DBW 327 करण शिवानी, एचडी-3385 एम.पी-3288, राज 4079, DBW-110, एच.डी.-2864, एच.डी.-2932 किस्मों की खेती का लक्ष्य निर्धारित किया गया है.

गेहूं की पैदावार 11.4 टन करने का लक्ष्य

केंद्रीय कृषि मंत्रालय (Agriculture Ministry) ने जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों को देखते हुए रबी सीजन में 11.4 करोड़ टन गेहूं पैदावार का लक्ष्य रखा है. वहीं पिछले साल भी सरकार ने समान अवधि में गेहूं का उत्पादन 11.27 करोड़ टन का लक्ष्य रखा था.

केंद्रीय कृषि सचिव मनोज आहूजा ने बनाई रणनीति

केंद्रीय कृषि सचिव मनोज आहूजा ने रबी फसलों (Rabi Crops) की बुवाई की रणनीति पर चर्चा की. जिसमें उन्होंने कहा कि जलवायु पारिस्थितिकी में आए दिन कुछ न कुछ बदलाव हो रहे हैं. इस कारण फसलों में भी प्रभाव पड़ रहा है, तो ऐसे में रणनीति के अनुसार जलवायु-प्रतिरोधी बीजों का इस्तेमाल किया जाना चाहिए.

इसे भी पढ़ें- गेहूं की अधिक पैदावार के लिए वैज्ञानिक विधि से करें बुवाई, इन निम्न बातों का रखें विशेष ध्यान

गर्मी-प्रतिरोधी वाली किस्में के लिए प्रेरित

 देश में 800 से अधिक जलवायु-प्रतिरोधी किस्में उपलब्ध हैं. इन बीजों को ‘सीड रोलिंग’(seed rolling) योजना के तहत सीड चेन (seed chain) में डालने की जरूरत है. किसानों को गर्मी-प्रतिरोधी किस्में उगाने के लिए प्रेरित करना चाहिए. इसके अलावा सभी राज्यों में विशिष्ट क्षेत्रों को चिह्नित करके उगाई जाने वाली अच्छी किस्मों को लेकर नक्शा तैयार करना चाहिए.

गर्मी झेल सकने वाली किस्में

साल 2021 में जल्दी गर्मी आने से गेहूं की पैदावार पर काफी असर पड़ा था. इसको देखते हुए सरकार ने आईसीएआर-आईएआरआई द्वारा विकसित गेहूं की किस्म 'एचडी 3385' को बुवाई के लिए अनुसंशित किया. मालूम हो कि गेहूं की यह उन्नत किस्म बढ़ते उच्च तापमान का सामना करने में सक्षम है. इसके अलावा एम.पी-3288, राज 4079, DBW-110, एच.डी.-2864, एच.डी.-2932 अन्य किस्में है. इसके साथ ही ‘DBW 327 करण शिवानी’, DBW 296 (करण ऐश्वर्या) किस्में भी कम पानी व सूखे की स्थिति में भी अच्छी पैदावार देती हैं.

English Summary: These varieties of wheat will be sown in Rabi season, government give target 114 million tonnes Published on: 27 September 2023, 08:40 PM IST

Like this article?

Hey! I am वर्तिका चंद्रा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News