MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

Bumper yield of the crop: भारत में इन प्रमुख कारणों से होती है फसल की बम्पर पैदावार

भारत में निश्चित उत्पादन भूमि के साथ भी आज दुनिया भर में खाद्यान्न के मामले में एक अग्रणी देश बना हुआ है. खाद्यान्न के मामले में भारत आज शीर्ष देशों की सूची में शामिल है. इसका कारण यहां की उन्नत खेती है. तो आइये जानते हैं कि यह खेती किन कारणों से बन जाती है उन्नत खेती.

प्रबोध अवस्थी
crop production in India
crop production in India

आज भारत दुनिया में कृषि क्षेत्र में अग्रणी देशों की श्रेणीं में एक प्रमुख देश के रूप में अपनी जगह बनाये हुए है. देश में आज मोटे अनाजों को लेकर भी एक बड़ी पहल चल रही है, जिससे उत्पादन में तो वृद्धि होगी ही. साथ ही साथ कई अन्य क्षेत्रों में भी भारत को आर्थिक और सामरिक विकास में सहायता मिल रही है. आज हम आपको भारत में फसलों की उत्पादकता से सम्बंधित कुछ ऐसे तरीके के बारे में बताने जा रहे हैं जिनकी सहायता से भारत में किसी भी फसल को किसान कम भूमि में ही ज्यादा पैदावार कर रहे हैं.

कीमती खेती

सटीक खेती में सिंचाई, उर्वरक और कीट प्रबंधन सहित खेती के विभिन्न पहलुओं को अनुकूलित करने के लिए जीपीएस, रिमोट सेंसिंग और डेटा एनालिटिक्स जैसी आधुनिक तकनीक का उपयोग शामिल है. इस दृष्टिकोण ने किसानों को निर्णय लेने और संसाधन की बर्बादी को कम करने में सहायता प्रदान की है. सटीक कृषि तकनीकों का उपयोग करके, भारतीय किसान इनपुट लागत को कम करते हुए फसल की पैदावार में अप्रत्याशित वृद्धि में सक्षम हुए हैं.

फसलों का विविधीकरण

फसल विविधीकरण एक ऐसी तकनीकी है, जिसमें पूरे वर्ष भूमि के एक ही टुकड़े पर विभिन्न प्रकार की फसलों को उगाया जा सकता है. यह अभ्यास न केवल उत्पादकता बढ़ाने में मदद करता है बल्कि ख़राब मौसम की स्थिति या कीटों के कारण फसल का खराब होना जैसे जोखिम को भी कम करता है. भारत में किसान अपने लाभ को बढ़ाने और खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए फसल विविधीकरण अपना रहे हैं.

जैविक खेती

भारत में जैविक खेती आंदोलन ने हाल ही के वर्षों में काफी गति पकड़ी है. जैविक खेती पद्धतियाँ स्थिरता, मिट्टी के स्वास्थ्य और प्राकृतिक आदानों के उपयोग पर ध्यान केंद्रित करती हैं. सिंथेटिक कीटनाशकों और उर्वरकों से बचकर, जैविक किसान मिट्टी की उर्वरता में सुधार करने और स्वस्थ फसल पैदा करने में सक्षम हुए हैं. जैविक उत्पादों की मांग भी बढ़ रही है, जिससे किसानों को बेहतर बाजार अवसर और उनकी फसलों के लिए उच्च कीमतें मिल रही हैं.

अधिक उपज देने वाली फसल की किस्में

1960 के दशक की हरित क्रांति ने HYV चावल और गेहूं जैसी उच्च उपज वाली फसल किस्मों को पेश किया, जिन्होंने भारत में खाद्य उत्पादन बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. पिछले कुछ वर्षों में, नई और उन्नत फसल किस्मों को विकसित किया गया है, विभिन्न कृषि-जलवायु क्षेत्रों के लिए अनुकूलित किया गया है और किसानों को उपलब्ध कराया गया है. ये किस्में अक्सर कीटों और बीमारियों की प्रतिरोधी होती हैं, जिसके परिणामस्वरूप उपज अधिक होती है और फसल का नुकसान कम होता है.

माइक्रो सिंचाई

भारत की कृषि मानसून की बारिश पर अत्यधिक निर्भर है, जिससे यह सूखे और पानी की कमी के प्रति संवेदनशील है. ड्रिप और स्प्रिंकलर सिंचाई सहित सूक्ष्म सिंचाई प्रणालियाँ भारतीय किसानों के बीच लोकप्रिय हो गई हैं. ये प्रणालियाँ सीधे पौधों की जड़ों तक पानी पहुंचाती हैं, पानी की बर्बादी को कम करती हैं और यह सुनिश्चित करती हैं कि शुष्क क्षेत्रों में भी फसलों को सही मात्रा में नमी मिले.

यह भी देखें- कपास की खेती के लिए अपनाएं यह तकनीक, होगी अच्छी कमाई

मृदा स्वास्थ्य प्रबंधन

टिकाऊ कृषि के लिए मृदा स्वास्थ्य बनाए रखना आवश्यक है. मृदा परीक्षण और पोषक तत्व प्रबंधन आधुनिक कृषि पद्धतियों का अभिन्न अंग बन गए हैं. किसान अब मिट्टी की उर्वरता के महत्व के बारे में अधिक जागरूक हैं और मिट्टी की पोषक सामग्री को संरक्षित और बढ़ाने के लिए संतुलित उर्वरक और फसल चक्र जैसी चक्रों को अपना रहे हैं.

एकीकृत कीट प्रबंधन (IPM)

एकीकृत कीट प्रबंधन कीट नियंत्रण के लिए एक प्रमुख भाग है जो जैविक नियंत्रण, फसल चक्र और कीटनाशकों के उपयोग जैसी विभिन्न तकनीकों को जोड़ता है. रासायनिक कीटनाशकों के उपयोग को कम करके और प्राकृतिक कीटों को बढ़ावा देकर, आईपीएम न केवल उत्पादन लागत को कम करता है बल्कि पर्यावरण और मानव स्वास्थ्य पर कीटनाशकों के हानिकारक प्रभावों को भी कम करता है।

यही कारण है कि भारत में निश्चित उत्पादन भूमि के साथ भी आज दुनिया भर में खाद्यान्न  के मामले में एक अग्रणी देश बना हुआ है. अगर आप भी उपर्युक्त विधियों को अपनाते हुए कृषि में वृद्धि करते हैं तो निश्चित रूप से वह कृषि स्थाई और ज्यादा उत्पादकता वाली होगी.

English Summary: These are the main reasons for bumper crop production in India Published on: 14 September 2023, 05:13 PM IST

Like this article?

Hey! I am प्रबोध अवस्थी. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News