MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

बरसात में चूहों का बढ़ जाता है आतंक, जानें इनसे बचाव का तरीका

हर साल बरसात के दौरान फसलों पर चूहों का प्रकोप बढ़ जाता है. ऐसे में इनसे बचाव के लिए किसान घरेलू नुस्खों को अपनाकर अपनी फसलों की सुरक्षा कर सकते हैं.

रवींद्र यादव
Terror of rats
Terror of rats

देश में खरीफ की फसल पककर तैयार हो चली है. इस दौरान किसानों को फसल की Post Harvesting loss का खतरा बना रहता है. देश के किसान अगले महीने से फसलों की कटाई में लग जाएंगे. ऐसे में इन फसलों में चूहों के आक्रमण का खतरा बना रहता है. इन चूहों से फसलों में लेप्टोस्पायरोसिस और स्क्रब टाइफस नाम की बीमारियां फैलती है. इनसे बचाव के लिए आप घरेलू तरीको का इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके अलावा फसलों को होने वाले किसी भी प्रकार के नुकसान से बचने के लिए फसलों का बीमा भी जरुर कराना चाहिए.

रोगों के प्रकार

कृषि विभाग के अनुसार, लेप्टोस्पायरोसिस और स्क्रब टाइफस नाम के रोग बैक्टीरिया के कारण होते हैं. यह जीवाणु आमतौर पर झाड़ीनुमा पौधों और नमी वाली जगहों पर पनपते हैं. यह चूहे के शरीर पर भी पनपते हैं और उनकी मदद से पूरी फसलों पर फैल जाते हैं. इससे देखते-देखते खेत की पूरी फसल ख़राब हो जाती है.

बरसात के समय बढ़ता है चूहों का प्रभाव

कृषि विशेषज्ञों के अनुसार, भारी बारिश के कारण चूहों और छछूंदरों के बिलो में पानी भर जाता है. ऐसे में वह सुरक्षित जगह की तलाश में गोदामों में प्रवेश कर जाते हैं. किसानों को इस मौसम में खास सतर्क रहने की जरुरत होती है. इससे फसलों को नुकसान होने का खतरा तो बना ही रहता है और साथ ही खुद को भी प्लेग जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है.

ये भी पढें: यूपी के बांदा में पुलिस ने लगाया पशुओं को लेकर आगाह करने का ये बोर्ड? जानें क्या है इस तस्वीर का पूरा सच?

रोकथाम का तरीका

इस रोग से बचने के आप नीम के पानी का छिड़काव फसलों पर करना चाहिए. इसके अलावा आप काली मिर्च या लाल मिर्च को पीसकर पकी हुई फसल समय-समय पर छिड़कते रहें. इससे आप अपनी फसल को इन चूहों और छछूंदरों के प्रकोप से बचा सकते हैं.

English Summary: Terror of rats increases in rains crop prevention from rats Published on: 26 September 2023, 05:44 PM IST

Like this article?

Hey! I am रवींद्र यादव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News