MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

अंक-2: जैविक खेती रासायनिक पद्धति की तुलना में सरल व टिकाऊ विकल्प

देश के किसान भाइयों के लिए जैविक खेती को कृषि की वर्तमान रासायनिक पद्धति की तुलना में बहुत ही ज्यादा सरल व टिकाऊ विकल्प माना गया है.

KJ Staff
Organic Farming Part- 2
Organic Farming Part- 2

फर्टिलाइजर के प्रयोग एवं भारी मशीनें (जैसे ट्रैक्टर रोटावेटर आदि) से की जा रही गहरी जुताई से मिट्टी में भीतर एक ठोस परत बनती जाती है। असल में वह मिट्टी को दो भागों में बांट देती है। एक वह जो हमें जुताई के बाद ऊपर से देख रही है और दूसरी वह जो उस परत के नीचे हैं जिसमें पुरानी जड़े और जीवाश्म आदि जैविक तत्व मौजूद है।

अब किसानों को यह सीख दी जाती है कि बीज को गहरा रोपे ताकि गहराई में मौजूद जैविक तत्वों को प्राप्त कर पायें लेकिन भीतर बन चुकी वह कठोर परत पौधों की जड़ों को गहराई में दबे जैविक तत्व तक पहुंचने नहीं देती। एक तो इसमें किसानों की दुगनी मेहनत और समय लगता है और दुसरा वह ठोस परत पौधों की जड़ों को दुसरी तरफ नहीं पहुंचने देती।

इसी के स्थान पर यदि सर्फेस कल्टीवेशन (सतह पर हल्के साधनों से की जाने वाली जुताई) की जाए तो इस समस्या का हल हो सकता है। मिट्टी में पुरानी दबी जड़े जब बैक्टीरिया/ फंगस द्वारा सड़ा दी जाती है तो इसके दो फायदे होते हैं। एक तो वहां कार्बन/ह्यूमस आदि जैविक तत्व उपस्थित होने के साथ-साथ बैक्टीरिया और फगंस की संख्या में वृद्धि होती है। दूसरा ने पौधों की जड़ों को तेजी से गहराई में जाने के लिए पहले से बना एक रास्ता मिल जाता है जो पौधों को मजबूत बनाता है।

ट्रैक्टर के प्रयोग से एक नुकसान यह भी है कि मिट्टी की सघनता बढ़ने से नीचे का पानी ऊपर या ऊपर का पानी नीचे नहीं जा पाता। जल किसी समतल तलाब की तरह खेत में फैलता है या बह जाता है। भूमि से पौधों को केवल वहीं जल मिल पाता है जो भूमि की ऊपरी सतह में है।

ये भी पढ़ें: अंजीर की खेती कैसे करें, कितनी होगी कमाई

घनत्व बढ़ने से पौधों की जड़ें बहुत गहराई तक नहीं पहुंच पाती कि वे स्वत: ही पौधे के लिए गहराई में जाकर जल ढोने का काम कर सके।

पहले अंक पर जाने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.
रबीन्द्रनाथ चौबे कृषि मीडिया बलिया उत्तरप्रदेश।

English Summary: Simple and sustainable option than organic farming chemical method Published on: 18 June 2023, 05:06 PM IST

Like this article?

Hey! I am KJ Staff. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News