MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

New Variety of Wheat: वैज्ञानिकों ने विकसित की गेहूं की नई किस्म एचडी 3385, उपज पर नहीं पड़ेगा मौसम का असर, उत्पादन प्रति हेक्टेयर 70 क्विंटल तक

भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान पूसा ने गेहूं का ऐसा बीज एचडी 3385 तैयार किया है, जिसे केवल अक्टूबर माह में ही बोया जा सकता है. कृषि जागरण से खास बातचीत के दौरान पूसा के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. राजवीर सिंह ने बताया कि तापमान बढ़ने से पहले यह बीज पककर तैयार हो जाएगा.

KJ Staff
पूसा ने गेहूं का नया बीज HD 3385 विकसित किया
पूसा ने गेहूं का नया बीज HD 3385 विकसित किया

New Variety of Wheat: हमारा देश एक कृषि प्रधान देश है. यहां के ज्यादातर किसान खेती पर निर्भर हैं. किसान अच्छी उपज और गुणवत्ता वाले बीजों को उच्च प्राथमिकता देते हैं क्योंकि रबी सीजन में बोई जाने वाली मुख्य गेहूं फसल की नई रोग प्रतिरोधी और गुणवत्ता वाली किस्में अधिक लाभदायक होती हैं, जिससे अधिक उपज के साथ बेहतर मुनाफा होता है. ऐसे में आज हम किसानों को गेहूं के नए बीज एचडी 3385 (HD 3385) के बारे में बताने जा रहे हैं, जो न केवल जलवायु परिवर्तन के लिए उपयुक्त है, बल्कि इसका गेहूं की फसल पर कोई प्रतिकूल प्रभाव भी नहीं पड़ेगा. इसके अलावा इस नए बीज से किसानों को बंपर पैदावार भी मिलेगी.

बता दें कि भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान पूसा ने गेहूं का ऐसा बीज एचडी 3385 (HD 3385) तैयार किया है, जिसे केवल अक्टूबर महीने में ही बोया जा सकता है. कृषि जागरण से खास बातचीत के दौरान पूसा के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. राजवीर सिंह ने बताया कि तापमान बढ़ने से पहले यह बीज पककर तैयार हो जाएगा. उन्होंने आगे कहा कि इस बीज की बुआई अक्टूबर के बाद नवंबर या दिसंबर में की जा सकती है, लेकिन बाद में बुआई करने से इसकी पैदावार पर फर्क पड़ेगा.

उपज 7 टन प्रति हेक्टेयर

बातचीत के दौरान पूसा के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. राजवीर सिंह ने बताया कि मौसम में आए बदलाव के चलते पूसा ने गेहूं का ऐसा बीज तैयार किया है, जिसे अक्टूबर माह में ही बोया जा सकता है. उन्होंने बताया कि इस किस्म की पैदावार 7 टन प्रति हेक्टेयर हो सकती है. तापमान बढ़ने से पहले यह तैयार हो जाएगा. उन्होंने बताया कि अगर इसे नवंबर में बोया जाए तो पैदावार 6 टन और अगर दिसंबर में बोई जाए तो पैदावार 5 टन प्रति हेक्टेयर हो सकती है. यानी अगर समय पर बुआई की जाए तो प्रति हेक्टेयर दो टन तक का फायदा प्राप्त किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें: गेहूं व जौ की फसल के लिए बेहद खतरनाक है चेपा कीट, इसके बचाव के लिए अपनाएं ये विधि

75 कंपनियों से समझौता

बीजों की उपलब्धता के बारे में पूछे जाने पर डॉ. राजवीर सिंह ने बताया कि यह बीज सभी विक्रेताओं के पास उपलब्ध नहीं होगा. उन्होंने कहा कि फिलहाल बीज एचडी 3385 (एचडी 3385) के लिए 75 कंपनियों से समझौता किया गया है.

यह बीज इन्हीं कंपनियों से मिलेगा. साथ ही उन्होंने कहा कि विक्रेताओं की सूची भी जल्द जारी की जाएगी, ताकि किसान इन बीजों को अपने नजदीकी विक्रेताओं से आसानी से खरीद सकें.

English Summary: new variety of wheat New wheat seed HD 3385 developed wheat crop Indian Agricultural Research Institute Pusa seeds wheat cultivation gehu ki kheti Indian Agricultural Research Institute Pusa ICAR Published on: 18 January 2024, 06:57 PM IST

Like this article?

Hey! I am KJ Staff. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News