Farm Activities

सरसों फसल में कीट नियंत्रण

सरसों के तेल का उपयोग सब्जी, अचार, खाने के अन्य व्यंजन बनाने में काम में आता है. सर्दी के मौसम में सरसों का तेल लगाने से शरीर मुलायम व चुस्त बना रहता है तथा त्वचा भी सुरक्षित रहती है. सरसों का तेल पशुओं को खिलाने व उनके शरीर पर लगाने के काम भी आता है. लेकिन सरसों की फसल में बीजाई से कटाई तक विभिन्न प्रकार के कीटों का भी आक्रमण होता है जिनका सही समय पर उचित प्रबंधन नहीं किया जाए तो फसल चौपट हो जाती है, जिसके कारण किसानों को अच्छा उत्पादन नहीं मिल पाता है. सरसों के प्रमुख कीट निम्न प्रकार के हैं -

पेंटेड बग

यह कीट सरसों की फसल में सबसे पहले आता है. सरसों के उगते ही इस कीट का आक्रामण हो जाता है. यह कीट पौधों का रस चुसकर नुकसान पहुंचाता है. यह त्रिकोण आकार का काला-भूरा कीट होता है, जिसके शरीर पर सफेद भूरे चिन्ह होते हैं.

प्रबंधन

सिंचाई करते समय क्रूड ऑयल इमल्सन का प्रयोग करें. प्रकोप दिखाई देते ही 4 मि.ली. नीम का तेल एक लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें, इसमें 5 ग्राम कर्बोरिल धूल का भुरकाव 15 से 20 किलो प्रति हेक्टेयर के हिसाब से करे. यह प्रकोप कम नहीं तो मेलाथियान 50 ई.सी. दवा को 1.0 मि.ली. प्रति लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करें.

आरामक्खी

यह कीट फसल जब 25 से 30 दिन की हो जाती है तब नुकसान करता है. यह छोटे पौधों के तने और पत्तियों को काटती है, जिससे पौधों की बढ़वार रुक जाती है. इस कीट की केवल लट्टे ही सुबह व शाम के समय नुकसान करती है. इसकी मक्खी नारंगी पीले व लट्ट स्लेटी हरे रंग की होती है जिसका सिर काले रंग का होता है.

प्रबंधन

लट्टों को एकत्रित करके नष्ट कर देना चाहिए. नत्रजन का प्रयोग संतुलित मात्रा में ही करना चाहिए. लार्वा परजीवी एम्फाक्रोडम पोफलेंस का प्रयोग करना चाहिए. इसके प्रकोप को रोकने के लिए मिथाइल पैराथियान 2 प्रतिशत चुर्ण 20 से 25 किलो हेक्टेयर के हिसाब से भुरकाव करें. मेलाथियान 50 ई.सी दवा को 1.0 मि.ली. मात्रा प्रति लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करें.

मोयला

इस कीट का प्रकोप फसल में फूल आने या उसके बाद शुरु होता है तथा दिसंबर-जनवरी में संख्या बढ़ जाती है. इसकी मादा सीधे निम्फ पैदा करती है. अधिक नमी व बदल युक्त मौसम इस कीट का प्रकोप बढ़ाने में सहायक होते हैं. यह कीट पौधे के विभिन्न भाग जैसे पत्ती, शाखा, फूल, फली आदि का रस चुसकर नुकसान करता है. यह कीट हरे, काले व पीले रंग का होता है तथा इसके निम्फ व व्यस्क दोनों ही रस चुसकर पौधे क नुकसान पहंचाते हैं.

प्रबंधन

आर्थिक स्थिति का ध्यान रखें. नत्रजन का अधिक प्रयोग न करें. ग्रसित प्ररोहों को तोड़कर नष्ट कर दें. 4 से 5 प्रति बीघा के हिसाब से पीले रंग के चिपचिपे ट्रेप्स का प्रयोग करें. लेडीबर्ड बीटल व क्राइसोपरला कार्निया का संरक्षण करें तथा 50000-100000 अंडे या सूंडी प्रति हैक्टेयर के हिसाब से छिड़कें. नीम के 5 प्रतिशत अर्क या 1.25 लीटर नीम का तेल 100 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें. डाइमेथीएट 30 ई.सी. मेटाकसस्टोक्स 25 ई.सी. का 1 से 2 मि.ली. प्रति लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें.



Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in