आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. खेती-बाड़ी

कृषि विज्ञान केंद्र: भारतीय किसानों की प्रगति में सहायक

KJ Staff
KJ Staff

कृषि विज्ञान केंद्र: भारतीय किसानों की प्रगति में सहायक

डॉ. डी.एस. कोठारी की अध्यक्षता में द्वितीय शिक्षा आयोग (1964-66) ने सिफारिश की कि,  ग्रामीण क्षेत्रों से बड़ी संख्या में आने वाले लड़कों और लड़कियों की प्रशिक्षण आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए,  पूर्व और पोस्ट मैट्रिक स्तर पर कृषि एवं संबद्ध क्षेत्रों में व्यावसायिक शिक्षा प्रदान करने के लिए, विशेष संस्थानों की स्थापना के लिए, एक जोरदार प्रयास किया जाना चाहिए.  

आयोग ने आगे सुझाव दिया कि, ऐसे संस्थानों का नाम 'कृषि पॉलिटेक्निक' रखा जाए, वर्ष 1966-72 के दौरान शिक्षा मंत्रालय, कृषि मंत्रालय, योजना आयोग, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) और अन्य संबद्ध संस्थानों द्वारा आयोग की सिफारिश पर पूरी तरह से चर्चा हुई.  अंत में, आईसीएआर ने अभ्यास करने वाले किसानों, स्कूल छोड़ने वालों और क्षेत्र स्तर के विस्तार कार्यकर्ताओं को व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए, कृषि विज्ञान केंद्र को नवीन संस्थानों के रूप में स्थापित करने का विचार रखा.

कृषि शिक्षा पर आईसीएआर की स्थायी समिति ने अगस्त, 1973 में हुई अपनी बैठक में देखा कि कृषि विज्ञान केंद्रों (केवीके) की स्थापना राष्ट्रीय महत्व के लिए आवश्यक है , जो कृषि उत्पादन में तेजी लाने के साथ-साथ, कृषक समुदाय की सामाजिक-आर्थिक स्थितियों में सुधार करने में भी मदद करेगी.  इस योजना को लागू करने में सभी संबंधित संस्थानों से सहायता ली जाना चाहिए. इसलिए, इस योजना को लागू करने के लिए और एक विस्तृत योजना तैयार करने के लिए, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) ने कृषि में व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए, कृषि विज्ञान केंद्रों (केवीके) के संस्थागत डिजाइन तैयार करने के लिए 1973 में सेवा मंदिर, उदयपुर के डॉ. मोहन सिंह मेहता की अध्यक्षता में एक समिति नियुक्त की.  समिति ने 1974 में अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की.

पहला केवीके, पायलट आधार पर, 1974 में तमिलनाडु कृषि विश्वविद्यालय, कोयंबटूर के प्रशासनिक नियंत्रण के तहत पुडुचेरी (पांडिचेरी) में स्थापित किया गया था. तब से, सभी राज्यों में केवीके स्थापित किए गए हैं, और केवीके की संख्या लगातार बढ़ रही है. भारतीय कृषि परिदृश्य कई चुनौतियों का सामना करता है, जिसमें छोटे किसानों का उच्च प्रतिशत, आपूर्ति श्रृंखला के बुनियादी ढांचे की कमी और मौसमी परिस्थितियाँ शामिल है.

15 अगस्त, 2005 को स्वतंत्रता दिवस के भाषण के अवसर पर, भारत के माननीय प्रधानमंत्री ने घोषणा की कि, 2007 के अंत तक देश के प्रत्येक ग्रामीण जिलों में एक केवीके होना चाहिए. इससे दसवीं योजना के अंत में केवीके की कुल संख्या 551 हो गई है. वर्तमान में देश में कुल 722 कृषि विज्ञान केन्द्र हैं, जो किसानों के विकास हेतु कार्यरत हैं.

कृषि विज्ञान केंद्र का परिचय एवं महत्व

केवीके, राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रणाली (एनएआरएस) का एक अभिन्न अंग है, KVK योजना को भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR/आईसीएआर), कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग (DARE/डेयर) के तहत, शत-प्रतिशत केंद्रीय वित्त पोषण के ज़रिये संचालित किया जा रहा है. जिसका उद्देश्य प्रौद्योगिकी मूल्यांकन, शोधन और प्रदर्शनों के माध्यम से कृषि और संबद्ध उद्यमों में स्थान विशिष्ट प्रौद्योगिकी मॉड्यूल का मूल्यांकन करना है. केवीके कृषि प्रौद्योगिकी के ज्ञान और संसाधन केंद्र के रूप में कार्य कर रहे हैं जो जिले की कृषि अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए सार्वजनिक, निजी और स्वैच्छिक क्षेत्र की पहल का समर्थन कर रहे हैं और एनएआरएस को विस्तार प्रणाली और किसानों से जोड़ रहे हैं.

कृषि विज्ञान केंद्र (KVK) भारत में एक कृषि प्रसार केंद्र है. कृषि विज्ञान केंद्र, कृषि विस्तार में एक परिवर्तनात्मक  जिला स्तरीय संस्थान है. कृषि विज्ञान केंद्र का अर्थ है "फ़ार्म साइंस सेंटर". आमतौर पर एक स्थानीय कृषि विश्वविद्यालय से जुड़े, ये केंद्र भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद और किसानों के बीच अंतिम कड़ी के रूप में काम करते हैं, और इसका उद्देश्य व्यावहारिक, स्थानीय सेटिंग में कृषि अनुसंधान को लागू करना है. सभी KVK पूरे भारत में 11 कृषि प्रौद्योगिकी अनुप्रयोग अनुसंधान संस्थानों(Agricultural Technology Application Research Institutes/भाकृअनुप-अटारी/ICAR-ATARIs) में से एक के अधिकार क्षेत्र में आते हैं.

भारत में केवीके कृषि विश्वविद्यालयों, आईसीएआर संस्थानों, संबंधित सरकारी विभागों और कृषि में काम करने वाले गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) को स्वीकृत हैं. यह मुख्य रूप से प्रौद्योगिकी और किसान के बीच की खाई को पाटने के उद्देश्य से प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण पर काम करता है.

कृषि विज्ञान केन्द्र एक नवीनतम विज्ञान आधारित संस्था है जिसमें विभिन्न प्रकार के प्रशिक्षण दिये जाते हैं, जो कि किसानों को स्वावलम्बी बनने में सहायता प्रदान करता है. ये किसानों को स्वावलम्बी बनाने के साथ उनको ज्ञान तथा तकनीकी ज्ञान भी प्रदान करता है.  कृषि विज्ञान केंद्र (KVK) ग्रामीण किसानों को नई तकनीकों को हस्तांतरित करके, उन्हें समर्थन देने के लिए देश में स्थापित किए गए हैं.  सभी केवीके निरंतर आधार पर उत्पादन, उत्पादकता और शुद्ध कृषि आय बढ़ाने के लिए अनुसंधान संस्थान में प्रौद्योगिकी के उत्पादन और स्थान विशिष्ट किसान क्षेत्रों में इसके आवेदन के बीच समय अंतराल को कम करने की दिशा में काम कर रहे हैं.

कृषि विज्ञान केंद्र (KVK) भारत में कृषि आधारित ऐसे विस्तार केंद्र है, जिनका काम किसानों को खेती की नई-नई जानकारियों से परिचित कराना है. खेती-बाड़ी करने वाले किसानों और कृषि से संबंधित रोजगार में शामिल लोगों के लिए, कृषि विज्ञान केंद्र ज्ञान के भंडार हैं. साधारण शब्दों में कहें तो कृषि विज्ञान केंद्र किसानों की हर समस्या का समाधान है.  लेकिन जानकारी के अभाव में किसान इन केंद्रों से मिलने वाले लाभ को नहीं ले पाते हैं. किसानों को खेती की नवीनतम जानकारी के साथ-साथ प्रशिक्षण की सुविधा मिले, इसी को ध्यान में रखकर हमारे देश में जिला स्तर पर कृषि विज्ञान केंद्रों की स्थापना की गई है. कृषि विज्ञान केंद्र ऐसी संस्थाएं हैं, जो किसानों के लिए प्रशिक्षण से लेकर विभिन्न कृषि उत्पादन प्रणालियों के अंतर्गत नई तकनीक, बीज एवं रोपण सामग्री को किसानों के खेत पर परीक्षण आदि करने तक के कार्य करती हैं. कृषि विज्ञान केंद्र किसानों के लिए प्रशिक्षण, कृषि उत्पादन बढ़ाने की नई तकनीक और कृषि व्यवसाय के बारे में सटीक जानकारी प्रदान करते हैं.

केवीके की प्रभावशीलता को मापना मुश्किल है, क्योंकि एक केवीके द्वारा बड़ी संख्या में किसानों को सेवा दी जाती है और केवीके और किसानों के बीच बड़े पैमाने पर ऑफ़लाइन संचार होता है. इस कारण से, पिछले 20 वर्षों में अनुसंधान ने केवीके की क्षमता पर ध्यान केंद्रित किया है ताकि वे किसानों के साथ अपने संचार के बेहतर प्रबंधन के उद्देश्य से आईसीटी का उपयोग कर सकें. केवीके के अपने लाभार्थियों के साथ संचार के पूरक, मौसम की जानकारी और बाजार मूल्य निर्धारण जैसी सलाह साझा करते हुए, अनुप्रयोगों की अधिकता विकसित की गई है.

Krishi Vigyan Kendra

जबकि केवीके से अपनी परियोजनाओं को शुरू करने की उम्मीद की जाती है, उनसे स्थानीय क्षेत्रों में सरकारी पहलों का विस्तार करने के लिए एक संसाधन केंद्र के रूप में भी काम करने की उम्मीद की जाती है. वर्तमान राष्ट्रीय सरकार के कार्यक्रम "2022 तक किसानों की आय को दोगुना करना" कृषि उत्पादकता में वृद्धि, प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना और प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना जैसी विकास पहलों के साथ-साथ, तकनीकी नवाचार पर अधिक ध्यान देने का आह्वान करता है. सरकार को उम्मीद है कि केवीके इन नई सरकारी पहलों के बारे में सूचनाओं के प्रसार में सहायता करेंगे.

कृषि विज्ञान केन्द्र की बुनियादी अवधारणायें :

कृषि विज्ञान केन्द्र निम्नलिखित  तीन बुनियादी अवधारणाओं पर कार्य करता है-

1. कृषि विज्ञान केन्द्रकार्य अनुभवके माध्यम से शिक्षा प्रदान करेगा और इस प्रकार तकनीकी शिक्षा से संबंधित होगा, जिसे प्राप्त करने हेतु साक्षर होना अनिवार्य नहीं है.

2. केन्द्र केवल विस्तारकर्मियों जो कि कार्यरत है, और अभ्यासरत किसानों और मछुआरों को प्रशिक्षित करेगा. दूसरे शब्दों में कार्यरत तथा स्वरोजगार की चाहत रखने वालों की जरूरतों को पूरा करेगा.

3. कृषि विज्ञान केन्द्र के लिये कोई समान पाठ्यक्रम नहीं होगा. पाठ्यक्रम और कार्यक्रम, आवश्यकता के आधार पर तथा प्राकृतिक संसाधन की उपलब्धता के अनुसार होगा.

पाँचवीं पंचवर्षीय योजना के तहत 18 कृषि विज्ञान केन्द्रों की स्थापना की गई थी. वर्ष 1984 में  44 नए  कृषि विज्ञान केन्द्र स्थापित किये गये थे. 1 अप्रैल 1992 में आठवीं पंचवर्षीय योजना के तहत एक बैठक मेंनेशनल डेमोन्सट्रेशन’ (48 जिलों में), ‘ऑपरेशनल अनुसंधान कार्यक्रम’, (152 केन्द्र) तथालैब टू लैडको कृषि विज्ञान केन्द्र में समाहित कर दिया गया था.

कृषि विज्ञान केन्द्र का उद्देश्य :

कृषि विज्ञान केन्द्र खेती किसानी तथा ग्रामीण विकास हेतु प्रतिपल कार्यरत है. इनके निम्नलिखित उद्देश्य हैं-

1. नवीनतम कृषि प्रौद्योगिकी के विकास एवं उसके त्वरित विस्तार और अंगीकरण के बीच के समय अंतराल को कम करने की दृष्टि से, किसानों के साथ सरकारी विभागों जैसे कृषि/बागवानी/मत्स्य/पशु विज्ञान और गैर सरकारी संगठनों के कार्यकर्ताओं के समक्ष प्रदर्शन.

2. किसानों की सामाजिक-आर्थिक स्थिति के अनुसार, प्रौद्योगिकियों का परीक्षण और सत्यापन तथा उत्पादन की कमी और प्रौद्योगिकियों के यथोचित संशोधन हेतु दृष्टिगत अध्ययन.

3. किसानों/खेत पर काम करने वाली महिलाओं, ग्रामीण युवकों और क्षेत्र स्तर पर कार्यरत प्रसारकों कोक्रियामूलक शिक्षणऔरक्रियामूलक ज्ञानपद्धति से प्रशिक्षण प्रदान करना.

4. जिला स्तरीय विकास विभागों जैसे कृषि/बागवानी/मत्स्य/पशु विज्ञान और गैर सरकारी संगठनों और उनके प्रसार कार्यक्रमों को, प्रशिक्षण कार्यों और संचार संसाधनों के साथ समर्थन देना.

कृषि विज्ञान केन्द्र, इस प्रकार कृषि शोध में खेत पर प्रशिक्षण, व्यावसायिक प्रशिक्षण और नवीनतम तकनीकों के हस्तान्तरण के साथ, जिले में समग्र ग्रामीण विकास के लिये प्रतिबद्ध, आधार स्तर पर कार्य करने वाली अग्रणी संस्थान है. कृषि विज्ञान केन्द्र की गतिविधियों में प्रौद्योगिकी मूल्यांकन, शोधन और हस्तान्तरण प्रमुख हैं. जो कि अनुसंधान संस्थानों और ग्रामीणों के बीच की खाई को पाटने में सहयोग करता है, यह संस्था नई विकसित प्रौद्योगिकी उत्पादों आदि को प्रदर्शन और किसानों, ग्रामीण युवाओं और प्रसार कर्मियों के बीच प्रशिक्षण के माध्यम से, क्षेत्र स्तर पर अंगीकृत करने में सहायता प्रदान करती है.

केवीके का मापदंड

कृषि विश्वविद्यालयों, राज्य विभागों, आईसीएआर संस्थानों, अन्य शैक्षणिक संस्थानों या गैर सरकारी संगठनों सहित विभिन्न मेजबान संस्थानों के तहत एक केवीके का गठन किया जा सकता है. आईसीएआर वेबसाइट के अनुसार संचालित 700 केवीके में विभाजित हैं- राज्य कृषि विश्वविद्यालयों के तहत 458, केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालयों के तहत 18, आईसीएआर संस्थानों के तहत 64, गैर सरकारी संगठनों के तहत 105, राज्य के विभागों या अन्य सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के तहत 39, और अन्य विविध शैक्षिक के तहत 16 संस्थान है. नई कृषि प्रौद्योगिकियों के परीक्षण के उद्देश्य से एक केवीके के पास लगभग 20 हेक्टेयर भूमि होनी चाहिए.

वैज्ञानिक सलाहकार समिति की बैठक

वैज्ञानिक सलाहकार समिति की बैठक, वर्ष में दो बार प्रत्येक केवीके द्वारा आयोजित की जाती  है, जो केवीके की कार्य योजना, प्रगति, क्षेत्र और प्रशासनिक समस्याओं की समीक्षा करता है.

केवीके की  जिम्मेदारियां

ऑन-फार्म परीक्षण:  प्रत्येक केवीके,आईसीएआर संस्थानों द्वारा विकसित नई तकनीकों, जैसे बीज किस्मों या नवीन कृषि विधियों का परीक्षण करने के लिए, एक छोटे से फार्म का संचालन करता है. यह किसानों को हस्तांतरित करने से पहले, स्थानीय स्तर पर नई तकनीकों का परीक्षण करने की अनुमति देता है.

फ्रंट-लाइन प्रदर्शन: केवीके के खेत और आस-पास के गांवों से इसकी निकटता के कारण, यह किसानों के खेतों पर नई तकनीकों की प्रभावकारिता दिखाने के लिए कार्यक्रम आयोजित करता है.

क्षमता निर्माण: नई तकनीकों के प्रदर्शन के अलावा, केवीके किसानों के समूहों के साथ, आधुनिक कृषि तकनीकों पर चर्चा करने के लिए, क्षमता निर्माण अभ्यास और कार्यशालाओं का भी आयोजन करता है.

प्रशिक्षण: केवीके द्वारा प्रशिक्षण का प्रमुख फोकस "करकर सीखना और करके सिखाना" के सिद्धांत को विकसित करते हुए व्यावहारिक कार्य अनुभव प्रदान करना है. इसके अंतर्गत जिले के अभ्यास करने वाले किसान, खेतिहर महिलाएं, बेरोजगार गांव के युवा, स्कूल छोड़ने वाले, ग्राम विस्तार कार्यकर्ता और विकास एजेंट शामिल हैं. केन्द्र इन लोगों को स्वरोजगार देने के लिये मुर्गी पालन, बकरी पालन, डेयरी और मत्स्य पालन का प्रशिक्षण देता है और महिलाओं को सशक्त करने के लिये गृह विज्ञान से संबंधित प्रशिक्षण जैसे- सिलाई, बुनाई, अचार बनाना, पापड़ बनाना आदि दिया जाता है. प्रशिक्षण पाठ्यक्रमों के लिए अनुवर्ती सूचना समर्थन के रूप में क्षेत्र दिवसों, कृषि यात्राओं, किसान मेला, रेडियो टॉक,सामूहिक चर्चा, फार्म साइंस क्लब आदि के माध्यम से गैर-औपचारिक शैक्षिक कार्यक्रमों का विकास और आयोजन करना होता है. पर्यवेक्षित परियोजनाओं के माध्यम से युवा पीढ़ी में कृषि और संबद्ध विज्ञान और वैज्ञानिक खेती के लिए रुचि और रुचि पैदा करने के लिए ग्रामीण स्कूलों और गांवों दोनों में, कृषि विज्ञान क्लबों का आयोजन होता है.

कृषि विज्ञान केन्द्र किसान भाईयों, बहनों एवं ग्रामीण युवाओं के लिये एक वर्ष में 30-50 आवश्यकता के आधार पर प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करता है. यह केन्द्र की सबसे महत्त्वपूर्ण क्रिया है.

सलाहकार सेवाएं: आईसीटी के बढ़ते उपयोग के कारण, केवीके ने रेडियो और मोबाइल फोन के माध्यम से, किसानों को मौसम संबंधी सलाह या बाजार मूल्य निर्धारण जैसी जानकारी प्रदान करने के लिए, प्रौद्योगिकियों को लागू किया है. ग्रामीण निरक्षरों और स्कूल छोड़ने वालों को, कुछ सामान्य शिक्षा प्रदान करना ताकि उन्हें न केवल अच्छे किसान बल्कि बेहतर नागरिक भी बनाया जा सके.

बहु-क्षेत्रीय समर्थन: केवीके अपने स्थानीय नेटवर्क और विशेषज्ञता के माध्यम से, विभिन्न निजी और सार्वजनिक पहलों की पेशकश और समर्थन करता है. सरकारी अनुसंधान संस्थानों के लिए किसानों की एक विस्तृत श्रृंखला के साथ, सर्वेक्षण करते समय केवीके के नेटवर्क का लाभ उठाना बहुत आम है.

अन्य विस्तार गतिविधियां: कृषि विज्ञान केन्द्र अन्य विस्तार गतिविधियों जैसे फील्ड डे, किसान गोष्ठी, सेमिनार,किसान मेला, किसान फील्ड स्कूल, फार्म एडवाइजरी सर्विसेज,कृषि प्रदर्शनी,साहित्य प्रकाशन,मृदा और जल परीक्षण जागरूकता शिविरों, पूर्व प्रशिक्षुओं की बैठक, पशु स्वास्थ्य शिविर आदि में भाग लेता है और आयोजित करता है.मोबाइल द्वारा वॉइस (Voice) मैसेज आदि के द्वारा, किसानों को नवीनतम तकनीकी जानकारी प्रदान कर, उनकी कार्यक्षमता तथा कौशल को बढ़ाता है.

केवीके द्वारा नियमित आधार पर कृषि अनुसंधान में हो रही प्रगति के साथ, विस्तारकर्मियों को अद्यतन करने के लिए,प्रशिक्षण आयोजित करना होता है. केवीके फसल उत्पादन, बागवानी, पशु विज्ञान (पशुधन और कुक्कुट), पौध संरक्षण के क्षेत्रों में, मत्स्य पालन और कृषि में महिलाओं को सेवाएं प्रदान करता है. केवीके की अन्य सेवाएं मिट्टी और जल परीक्षण, उद्यमिता के लिए महत्वपूर्ण इनपुट की आपूर्ति, राज्य  और केंद्र के प्रायोजित कार्यक्रमों के कार्यान्वयन, निगरानी और मूल्यांकन की दिशा में हैं.

केवीके द्वारा किसानों और ग्रामीण युवाओं के लिए कृषि और संबद्ध व्यवसायों में, लघु और दीर्घकालिक व्यावसायिक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम आयोजित किया जाता है, जिसमें खेतों में अधिक उत्पादन और स्वरोजगार पैदा करने के लिए "करकर सीखने" पर जोर दिया जाए.

इन गतिविधियों में से प्रत्येक में, केवीके स्थानीय जलवायु और उद्योग के लिए विशिष्ट फसलों और विधियों पर ध्यान केंद्रित करता है. इस निर्णय को प्रभावित करने वाले कुछ कारक हैं: मिट्टी के प्रकार, उगाई जाने वाली फसलें, पानी की उपलब्धता, मौसमी तापमान और डेयरी और जलीय कृषि जैसे संबद्ध क्षेत्र है. स्थानीय कारकों को संबोधित करने के अलावा, केवीके उन प्रथाओं को अपनाने के लिए भी अनिवार्य है जो लाभकारी कृषि, जलवायु स्मार्ट कृषि और आहार विविधीकरण के साथ संरेखित हों. कुछ केवीके संस्थानों और स्थानीय समुदाय के बीच तालमेल को सुविधाजनक बनाने के लिए, सामाजिक गतिविधियों की मेजबानी भी करते हैं. केवीके की सफलता का श्रेय डॉ. मंगला राय को जाता है.

कृषि विज्ञान केंद्र का योजना अवधि-वार विकास

योजना अवधि (Plan Period)

केवीके की संख्या (No.of KVKs)

IV(1969–1974)

1

V(1974–1978)

29

VI(1980–1985)

89

VII(1985–1990)

183

VIII(1992–1997)

261

IX(1997–2002)

276

X(2002–2007)

551

XI(2007–2012)

630

XII(2012–2017)

669

2017-18, 2018-19, 2019-20, 2020-21 & 2021-22

722

(मई 2021 तक स्थापित कुल केवीके)

कृषि विज्ञान केंद्र का मेजबान संस्थान-वार वितरण

संगठन (Organization)

कृषि विज्ञान केंद्र (KVKs)

राज्य कृषि विश्वविद्यालय (State Agricultural University)

472

केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय (Central Agricultural University)

22

आईसीएआर संस्थान (ICAR Institutes)

66

गैर सरकारी संगठन (Non-government Organization)

104

सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम (Public Sector Undertaking)

3

राज्य सरकार (State Govt.)

38

केंद्रीय विश्वविद्यालय (Central University)

3

डीम्ड विश्वविद्यालय (Deemed University)

8

अन्य शैक्षणिक संस्थान (Other Educational Institution)

5

संपूर्ण कृषि विज्ञान केंद्र (TotalKrishi Vigyan Kendras)

721

(जुलाई 2020 तक स्थापित कुल केवीके)

कृषि विज्ञान केंद्र का अटारी ज़ोन-वार और राज्य-वार वितरण

कृषि विज्ञान केंद्र

(Krishi Vigyan Kendras)

केवीके की संख्या

(No.of KVKs)

अटारी, ज़ोन I, लुधियाना (ATARI, Zone I, Ludhiana)

70 केवीके (70 KVKs)

 

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh)

13

 

जम्मू और कश्मीर (Jammu and Kashmir)

18

     

 

लद्दाख(Ladakh)

04

 

पंजाब (Punjab)

22

 

उत्तराखंड (Uttarakhand)

13

अटारी, ज़ोन II,जोधपुर (ATARI, Zone II, Jodhpur)

63 केवीके (63 KVKs)

 

दिल्ली (Delhi)

01

 

हरियाणा (Haryana)

18

 

राजस्थान (Rajasthan)

44

अटारी, ज़ोन III,कानपुर (ATARI, Zone III, Kanpur)

86 केवीके (86 KVKs)

 

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh)

86

अटारी, ज़ोन IV,पटना (ATARI, Zone IV, Patna)

68 केवीके (68 KVKs)

 

बिहार (Bihar)

44

 

झारखण्ड (Jharkhand)

24

अटारी, ज़ोन V, कोलकाता (ATARI, Zone V, Kolkata)

59 केवीके (59 KVKs)

 

अंडमान व निकोबार द्वीप समूह (A & N Islands)

03

 

उड़ीसा (Odisha)

33

 

पश्चिम बंगाल (West Bengal)

23

अटारी, ज़ोन VI, गुवाहाटी (ATARI, Zone VI, Guwahati)

47 केवीके(47 KVKs)

 

असम (Assam)

26

 

अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh)

17

 

सिक्किम (Sikkim)

04

अटारी, ज़ोन VII, बारापानी (ATARI, Zone VII, Barapani)

43 केवीके (43 KVKs)

 

मणिपुर (Manipur)

09

 

मेघालय  (Meghalaya)

07

 

मिजोरम (Mizoram)

08

 

नागालैंड (Nagaland)

11

 

त्रिपुरा (Tripura)

08

अटारी, ज़ोन VIII, पुणे (ATARI, Zone VIII, Pune)

81 केवीके(81 KVKs)

 

महाराष्ट्र (Maharashtra)

49

 

गुजरात (Gujarat)

30

 

गोवा (Goa)

02

अटारी, ज़ोन IX, जबलपुर (ATARI, Zone IX, Jabalpur)

82 केवीके(82 KVKs)

 

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh)

28

 

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh)

54

अटारी, ज़ोन X, हैदराबाद (ATARI, Zone X, Hyderabad)

75 केवीके (75 KVKs)

 

तमिलनाडु (Tamil Nadu)

32

 

पुदुचेरी (Puducherry)

03

 

आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh)

24

 

तेलंगाना (Telangana)

16

अटारी, ज़ोन XI, बेंगलुरु (ATARI, Zone XI, Bengaluru)

48 केवीके (48 KVKs)

 

कर्नाटक (Karnataka)

33

 

केरल (Kerala)

14

 

लक्षद्वीप (Lakshadweep)

01

संपूर्ण कृषि विज्ञान केंद्र (TotalKrishi Vigyan Kendras)

722

(मई 2021 तक स्थापित कुल केवीके)

कृषि विज्ञान केंद्र, पिछले चार दशकों से आईसीएआर द्वारा डिजाइन और पोषित एक योजना व्यवस्था है, जो एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी क्योंकि इसमें निम्नलिखित अनूठी विशेषताएं हैं:

तकनीकी जनशक्ति और संपत्ति के मामले में मूल्यवान संसाधनों का निर्माण.

स्थानीय विशिष्टता के अनुरूप प्रौद्योगिकियों की पुष्टि.

ऑन और ऑफ फार्म प्रशिक्षण .

कृषक समुदाय की प्रशिक्षण आवश्यकताओं की पहचान करना.

सीमांत प्रौद्योगिकियों का प्रदर्शन.

हितधारकों के बीच क्षमता निर्माण.

तकनीकी अनुप्रयोग, सूचना और आदानों में अग्रणी मोर्चा.

योजना, कार्यान्वयन, क्रियान्वयन और मूल्यांकन में भागीदारी दृष्टिकोण.

ATMA के माध्यम से राज्य विस्तार कार्यक्रम को समर्थन.

ग्रामीण समुदाय के लिए गृह निर्माण और पोषण शिक्षा के क्षेत्रों में अतिरिक्त प्रशिक्षण सुविधाएं प्रदान करना.

संबंधित संगठन के सहयोग से एकीकृत ग्रामीण विकास की आवश्यकताओं के अनुरूप, घरेलू शिल्प, कुटीर उद्योग आदि जैसे अन्य महत्वपूर्ण क्षेत्रों को शामिल करने के लिए प्रशिक्षण सुविधाओं को धीरे-धीरे बढ़ाना.

उच्च माध्यमिक विद्यालयों के,व्यावसायिक कृषि के शिक्षकों और छात्रों को केंद्र की व्यावहारिक सुविधाएं प्रदान करना.

प्रशिक्षण कार्यक्रम किसानों को कार्य अनुभव के माध्यम से 'टीचिंग बाय डूइंग' और 'लर्निंग बाय डूइंग' के सिद्धांतों को लागू करने के लिए, नवीनतम ज्ञान प्रदान करने के लिए डिजाइन किए गए थे. केवीके का मुख्य लक्ष्य ग्रामीण क्षेत्र में स्कूल छोड़ने वाले सभी किसानों, कृषि महिलाओं और कृषि युवाओं को कृषि और संबद्ध उद्यमों में जरूरतों और आवश्यकताओं के अनुसार प्रशिक्षण प्रदान करना है. पाठ्यक्रमों को डिजाइन करते समय, कृषि प्रणाली की अवधारणा के साथ-साथ खेती की स्थिति को भी ध्यान में रखा जाता है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि जिन उद्यमों में उन्हें प्रशिक्षित किया गया है, वे व्यावसायिक और पारिस्थितिक रूप से व्यवहारिक, टिकाऊ और लाभदायक हैं. इस तरह के व्यावसायिक प्रशिक्षण उन्हें स्वरोजगार के माध्यम से खुद को बनाए रखने और उन्हें आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने में मदद करते हैं और इस प्रकार उन्हें शहरी क्षेत्रों में प्रवास करने के लिए हतोत्साहित करते हैं.

प्रौद्योगिकी मूल्यांकन और शोधन की अवधारणा, अधिक से अधिक वैज्ञानिकों-किसान जुड़ाव और कृषि समुदाय के लिए अनुसंधान प्रणालियों द्वारा उत्पन्न कृषि प्रौद्योगिकियों तक पहुंच सुनिश्चित करने के लिए भागीदारी मोड पर आधारित है. इसके लिए कृषि विज्ञान केन्द्रों की भूमिका समग्र कृषि और ग्रामीण विकास के लिए, इसके विभिन्न अनुसंधान और प्रौद्योगिकी हस्तांतरण तंत्र के माध्यम से अत्यधिक महत्वपूर्ण है.

योजना बनाने, लागू करने, क्रियान्वित करने और मूल्यांकन में सहभागी दृष्टिकोण.

स्थानीय विशिष्टता के अनुरूप प्रौद्योगिकियों की पुष्टि.

तकनीकी जनशक्ति और संपत्ति के मामले में मूल्यवान संसाधनों का निर्माण.

कृषिविज्ञान केंद्र भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) और किसानों के बीच एक कड़ी के रूप में काम करते हैं और व्यावहारिक, स्थानीय सेटिंग में कृषि अनुसंधान को लागू करने का लक्ष्य रखते हैं.

कृषि विज्ञान केंद्र - केवीके पोर्टल :

कृषि विज्ञान केंद्रों की ऑनलाइन समीक्षा कर, उच्च स्तर पर निगरानी प्रबंधन एवं किसानों को सूचना एवं सलाह उपलब्ध कराने के लिए, 8 जुलाई 2016 को कृषि विज्ञान पोर्टल(http://kvk.icar.gov.inकी शुरुआत की गयी  है. किसान अपने जिले में स्थित केवीके के बारे में इस पोर्टल से पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

कृषि विज्ञान केंद्र पोर्टल की मुख्य विशेषताएं :-

पोर्टल द्वारा कृषि विज्ञान केंद्रों की ऑनलाइन निगरानी का प्रावधान किया गया है, जिसके अंतर्गत कृषि विज्ञान केंद्रों द्वारा नियमित रूप से किए गए कार्यों का विवरण लेना एवं मासिक रूप से प्रगति रिपोर्ट प्राप्त करना सम्मिलित है.

इस पोर्टल के माध्यम से कृषि विज्ञान केंद्रों पर, समय-समय पर उपलब्ध होने वाली विभिन्न सेवाओं के बारे में जानकारी प्राप्त की जा सकती है.

मौसम एवं बाजार की सूचनाएं भी इस पोर्टल के द्वारा किसान प्राप्त कर सकते हैं.

आने वाले कार्यक्रमों का भी विवरण इस वेबसाइट पर उपलब्ध है, जिससे किसान एवं प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले ग्रामीण युवक कार्यक्रमों का लाभ उठा सकेंगे.

प्रश्न पूछने एवं उत्तर प्राप्त करने की भी व्यवस्था की गई है. जिससे किसान अपने प्रश्नों का उत्तर प्राप्त कर सकेंगे.

संबंधित जिले के बारे में भी कृषि एवं कृषि से संबंधित विषयों की सूचना पोर्टल पर उपलब्ध हैं.

किसान एवं अधिकारी अपना पंजीकरण कर बहुत सारी सूचनाएं प्राप्त कर सकते हैं.

कृषि विज्ञान केंद्र पोर्टल का उद्देश्य:

पोर्टल का उद्देश्य वेब और मोबाइल प्रौद्योगिकी का उपयोग, कृषि वैज्ञानिकों की प्रौद्योगिकियों को किसानों तक त्वरित और प्रभावी ढंग से स्थानांतरित करने के साथ-साथ, कृषि विज्ञान केंद्रों (केवीके) की गतिविधियों को ट्रैक करने के लिए करना है.

केवीके का विजन:

कृषक समुदाय के सामाजिक और आर्थिक कल्याण में समग्र सुधार के लिए, निरंतरता में कृषि-पारिस्थितिकी तंत्र के परिप्रेक्ष्य में, उपयुक्त प्रौद्योगिकियों का जायजा लेना.

केवीके प्रणाली: अधिदेश और गतिविधियां:

KVK का अधिदेश अनुप्रयोग और क्षमता विकास के लिए प्रौद्योगिकी / उत्पाद का मूल्यांकन, शोधन और प्रदर्शन करना है.

जनादेश को प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए, प्रत्येक केवीके के लिए निम्नलिखित गतिविधियों की परिकल्पना की गई है:

विभिन्न कृषि प्रणालियों के तहत, कृषि प्रौद्योगिकियों की स्थान विशिष्टता का आकलन करने के लिए ऑन-फार्म परीक्षण.

किसानों के खेतों पर, प्रौद्योगिकियों की उत्पादन क्षमता स्थापित करने के लिए फ्रंटलाइन प्रदर्शन.

आधुनिक कृषि प्रौद्योगिकियों पर अपने ज्ञान और कौशल को अद्यतन करने के लिए, किसानों और विस्तार कर्मियों का क्षमता विकास.

जिले की कृषि अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए सार्वजनिक, निजी और स्वैच्छिक क्षेत्र की पहल का समर्थन करने के लिए, कृषि प्रौद्योगिकियों के ज्ञान और संसाधन केंद्र के रूप में काम करना.

किसानों को रुचि के विभिन्न विषयों पर, आईसीटी और अन्य मीडिया माध्यमों का उपयोग करते हुए, कृषि परामर्श प्रदान करना.

इसके अलावा, केवीके गुणवत्तापूर्ण तकनीकी उत्पादों (बीज, रोपण सामग्री, जैव नियंत्रण एजेंट, पशुधन) का उत्पादन करते हैं और इसे किसानों को उपलब्ध कराते हैं, मशरूम की खेती, इसका स्पॉन उत्पादन, सूक्ष्म सिंचाई प्रौद्योगिकी और स्थानीय मवेशियों की नस्ल में सुधार के लिए, कृत्रिम गर्भाधान केवीके की कुछ अनूठी गतिविधियाँ हैं.

अग्रिम पंक्ति विस्तार गतिविधियों का आयोजन करते हैं, चयनित कृषि एवं नई खोज की पहचान करते हैं और उनका दस्तावेजीकरण करते हैं और केवीके के अधिदेश के भीतर चल रही योजनाओं और कार्यक्रमों के साथ जुड़ते हैं.

केवीके, इस प्रकार, व्यावसायिक प्रशिक्षण, नवीनतम तकनीकों के हस्तांतरण, कृषि अनुसंधान पर और इस प्रकार, जिले में समग्र ग्रामीण विकास के लिए लाइट हाउस के रूप में कार्य करने के लिए, प्रतिबद्ध डाउन-टू-अर्थ संस्थान हैं. केवीके की गतिविधियों में प्रौद्योगिकी मूल्यांकन, शोधन और हस्तांतरण, अनुसंधान संस्थानों में, विकसित प्रौद्योगिकी के बीच की खाई को पाटना और किसानों द्वारा प्रौद्योगिकी / उत्पादों आदि के प्रदर्शन और किसानों के प्रशिक्षण के माध्यम से क्षेत्र स्तर पर इसे अपनाने का लक्ष्य शामिल है.

कृषि विज्ञान केंद्र का वर्तमान परिवर्तन:

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद का 87 वां स्थापना दिवस ,पुरस्कार समारोह और 9वां राष्ट्रीय कृषि विज्ञान केंद्र सम्मेलन 25-26 जुलाई, 2015 को पटना में आयोजित किया गया था.  जहाँ 26 जुलाई, 2015 को विदाई समारोह के अवसर पर, केंद्रीय कृषि मंत्री द्वारा कृषि विज्ञान केन्द्रों के सशक्तिकरण के लिये, अतिमहत्त्वपूर्ण कदम उठाए गये थे जो निम्नवत हैं-

45 नये जिलों व 645 बड़े जिलों में अतिरिक्त कृषि विज्ञान केन्द्रों की स्थापना की स्वीकृति दी गई है. श्वेत क्रांति लाने के लिए पशुधन सुधार की आवश्यकता पर भी जोर दिया.

कृषि विज्ञान केन्द्र के विषय वस्तु विशेषज्ञ (SMS) के पद को,वैज्ञानिक के रूप में परिवर्तित करके कर्मचारियों को सम्मान दिया गया है.

कृषि विज्ञान केन्द्र

कार्यक्रम समन्वयक के पद को प्रधान (हेड) कृषि विज्ञान केन्द्र के रूप में परिवर्तित करके जिलों की भूमिका में, कृषि विज्ञान केन्द्र की प्रमुख स्थिति को मजबूत करने का प्रयास किया है.

कृषि विज्ञान केन्द्रों में वैज्ञानिकों की संख्या 6 से बढ़ाकर 10 किया गया है एवं दो तकनीशियन के पद सृजित किये गये है. इस प्रकार कृषि विज्ञान केन्द्र में वैज्ञानिक एवं तकनीशियन पदों की संख्या 16 से बढ़कर 22 हो गयाहै.

3 नये क्षेत्रीय परियोजना निदेशालय (Zonal Project Directorate) जिनका परिवर्तित नाम कृषि प्रौद्योगिकी अनुप्रयोग अनुसंधान संस्थान (Agricultural Technology Application Research Institute) कर दिया गया है, जिसे सृजित कराकर उनकी संख्या को 8 से 11 किया गया है, जिससे कृषि विज्ञान केन्द्रों की मॉनीटरिंग अच्छी हो सके.पटना, पुणे व गुवाहटी में नये संस्थान स्थापित किया गया है. क्षेत्रीय परियोजना निदेशक के पद को परिवर्तित नाम निदेशक के रूप में कर दिया गया है.

केंद्रीय कृषि मंत्रीजी द्वारालैब टू लैंडकार्यक्रम के तहत पानी, मिट्टी की उर्वरता, कृषि उत्पाद प्रसंस्करण पर विशेष बल दिया जा रहा है, जिसके लिये चार नये कार्यक्रम शुरू किये गये हैं, इनमें फार्मर-फ़र्स्ट, आर्या ( कृषि में युवाओं को आकर्षित करना और बनाए रखना ) , स्टूडेन्ट रेडी, मेरा गाँव मेरा गौरव हैं.

किसान कॉल सेंटर का कृषि विज्ञान केंद्र से संबंध

भारतीय किसान देश के किसी भी गाँवों या शहरों या राज्यों से, किसान कॉल सेंटर के लिए एक देशव्यापी आम ग्यारह अंकों का टोल फ्री नंबर 1800-180-1551 या 1551 ( Kisan Call center Toll Free No is 1800-180-1551 OR 1551 ) पर  कभी भी किसी समय सप्ताह के सातों दिन और साल के 365 दिन सुबह 6.00 बजे से रात 10.00 बजे तक बात कर सकते है और अपनी सभी प्रकार के फसलों, रेशमपालन, मुर्गीपालन, मधुमक्खीपालन, पशुपालन, उद्यानिकी, फल, सब्जी और फूलों की खेती से जुड़ी  समस्याओं के समाधान के उपाय जान सकते है और कृषि की योजनओं के बारे में भी जानकारी ले सकते है . यह नंबर निजी सेवा प्रदाताओं सहित सभी दूरसंचार नेटवर्क के मोबाइल फोन और लैंडलाइन के माध्यम से सुलभ है. इस नंबर पर कॉल करने का कोई भी चार्ज नहीं लगता है, यह बिलकुल फ्री है, इस सेवा के तहत किसान अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं, जिनका समाधान 24 घंटे के अंदर कृषि विशेषज्ञों और विषय वस्तु विशेषज्ञों द्वारा उपलब्ध करा दिया जाता है . किसान कृषि विश्वविद्यालय के कृषि विशेषज्ञों और कृषि विज्ञान केन्द्रों के कृषि विषय वस्तु विशेषज्ञों (बागवानी, पशुपालन, मत्स्य पालन, कुक्कुट पालन, मधुमक्खी पालन, रेशम उत्पादन, जलीय कृषि, कृषि इंजीनियरिंग, कृषि विपणन, जैव-प्रौद्योगिकी, गृह विज्ञान आदि ) के माध्यम से, अपने सवालों के जवाब पाने के लिए निकटतम किसान कॉल सेंटर से संपर्क कर सकते हैं.

Kisan Call Centre

Kisan Call Center

किसान कॉल सेंटर (केसीसी) योजना की शुरुआत, कृषि मंत्रालय और भारत सरकार के प्रयास के द्वारा 21 जनवरी 2004 को हुई थी . परियोजना का मुख्य उद्देश्य किसानों को जवाब देना है. ये कॉल सेंटर सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कवर करते हुए 21 अलग-अलग स्थानों पर काम कर रहे हैं. किसान कॉल सेंटर एजेंटों को फार्म टेली एडवाइजर (एफटीए) के रूप में जाना जाता हैजिन प्रश्नों का उत्तर फार्म टेली एडवाइजर (एफटीए) द्वारा नहीं दिया जा सकता है, उन्हें कॉल कॉन्फ्रेंसिंग मोड में उच्च स्तरीय विशेषज्ञों को स्थानांतरित कर दिया जाता है. ये विशेषज्ञ राज्य कृषि विभागों, आईसीएआर और राज्य के विषय वस्तु विशेषज्ञ कृषि विश्वविद्यालय और कृषि विज्ञान केन्द्रों के विषय वस्तु विशेषज्ञ होते हैं.

किसान कॉल सेंटर का उद्देश्य है  कि, किसानो की समस्यों का निवारण तुरंत हो सके साथ ही किसानो को जानकारी वहां की स्थानीय भाषा में मिल  सके, जिससे कोई भी किसान अपनी समस्याओं को कृषि विशेषज्ञ को आसानी से समझा सके . यही कारण है कि  सभी राज्यों और जगहों के हिसाब से किसान कॉल सेंटर वहां की स्थानीय भाषा जैसे हिंदी, मराठी, गुजराती, तेलगु,मणिपुरी,पंजाबी, कश्मीरी,हरियाणवी, बंगाली, भोजपुरी, छत्तीसगढ़ी, तमिल , मलयालम,असमिया, उड़िया इत्यादि कई भाषओं में आप सीधे इनसे बात कर सकते है. यह देश के किसानो को 22 भाषों में जानकारी देते है. किसान अपनी शिकायत ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से भी दर्जकर सकते हैं और इस पोर्टल के माध्यम से भी सरकार द्वारा जारी की गई कृषि संबंधित नई योजनाओं के बारे में जानकारी भी ले सकते हैं.

किसान कॉल सेंटर (KCC) के नंबर पर कॉल करके, किसान भाई स्वयं को रजिस्टर कर सकते है. इसमें अगर कॉल तुरंत रिसीव नहीं होती है तो, किसान को बाद में किसान कॉल सेंटर से कॉल किया जाता है, ताकि किसान की समस्या का समाधान किया जा सके. किसान कॉल सेंटर (KCC) में रजिस्टर (mkisan.gov.in) करने पर, किसानो को टेक्स्ट मैसेज या वॉयस  मैसेज भी भेजा जाता है,किसानों के प्रश्नों के सही, सुसंगत और त्वरित उत्तर की सुविधा के लिए, डीएसी एंड एफडब्ल्यू (DAC & FW) के आईटी प्रभाग द्वारा 20 अगस्त  2014 से एक किसान ज्ञान प्रबंधन प्रणाली (केकेएमएस) विकसित की गई है. किसान ज्ञान प्रबंधन प्रणाली (KKMS) की अपनी स्वतंत्र वेबसाइट (http://dackkms.gov.in) है.

निष्कर्ष

कृषि विज्ञान केन्द्र किसानों के लिये ज्ञान का केन्द्र है, जिसमें किसान खेत पर परीक्षण, अग्रिम पंक्ति प्रदर्शन तथा अन्य विस्तार गतिविधियों के माध्यम से, कृषि की आधुनिक तकनीकियों की जानकारी प्राप्त करता है. कृषि विज्ञान केन्द्र किसानों को परम्परागत खेती के साथ, वैज्ञानिक खेती की जानकारी भी प्रदान करता है जिसका उपयोग करके किसान सामाजिक-आर्थिक रूप से सुदृढ़ हो रहा है. कृषि विज्ञान केन्द्र क्षेत्रीय स्तर पर बहुत प्रभावशाली है.  ये किसानों को ऑन-कैम्पस तथा ऑफ-कैम्पस प्रशिक्षण देता है, जो उनकी खेती से संबंधित क्षेत्रीय समस्या का समाधान करता है.

कृषि विज्ञान केन्द्रों को अधिक किसान उपयोगी और आधुनिक बनाने के लिये मिट्टी एवं पानी की जाँच सुविधा, एकीकृत कृषि प्रणाली, आई.सी.टी. (सूचना और संचार प्रौद्योगिकी ) का उपयोग, उन्नत बीज उत्पादन एवं प्रसंस्करण, जलसंचयन और सूक्ष्म सिंचाई तथा सौर ऊर्जा के उपयोग जैसी इकाइयाँ शामिल की जा रही हैं.

यदि आप भी एक किसान हैं और खेती की जानकारी नि:शुल्क लेना चाहते हैं तो अपने जिले के नजदीकी कृषि विज्ञान केंद्र से संपर्क कर सकते हैं. आप कृषि विज्ञान केंद्र की अधिकारिक वेबसाइट https://kvk.icar.gov.in/ पर जाकर ज्यादा जानकारी ले सकते हैं.

लेखक का नाम -  डॉ. अंजनी कुमार, निदेशक, भाकृअनुप-अटारी, जोन – IV, पटना- 801506 (बिहार), भारत.

सह लेखक का नाम - डॉ. मो. मोनोबरुल्लाह, प्रधान वैज्ञानिक, फसल विज्ञान विभाग, आईसीएआर-आरसीईआर, पटना - 800014 (बिहार), भारत.
डॉ. अख्तर अली खान, प्रोफ़ेसर, कीट विज्ञान विभाग, एसकेयूएएसटी, कश्मीर, शालीमार, श्रीनगर- 190025 (जम्मू-कश्मीर), भारत.
डॉ. अशोक कुमार शर्मा, प्रधान वैज्ञानिक (कृषि प्रसार), आईसीएआर-डीआरएमआर, भरतपुर - 321303 (राजस्थान), भारत.
डॉ. हादी हुसैन खान, रिसर्च एसोसिएट, आईसीएआर-डीआरएमआर- अपार्ट,  धुबरी -783324 (असम), भारत.

English Summary: krishi vigyan kendra - helpful in the progress of indian farmers

Like this article?

Hey! I am KJ Staff. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News