1. खेती-बाड़ी

3 साल में ही तैयार होगा जामुन का पौधा, प्रति वृक्ष से मिलेगा 60 किलोग्राम फल

कम समय में अगर आप जामुन से बड़ा फायदा लेना चाहते हैं, तो यह खबर आपके लिए है. दरअसल जामुन के एक पेड़ को तैयार करने में कम से कम 8 से 10 साल का समय लगता है, लेकिन छत्तीसगढ़ कृषि महाविद्यालय और अनुसंधान केंद्र कांकेर ने खास जामुन के किस्मों को तैयार किया है. अनुसंधान द्वारा ऐसे छह किस्मों को जीनोटाइप किया गया है, जिसके सहारे केवल तीन वर्षों में ही फल प्राप्त हो सकता है.

एक वृक्ष से 60 किलोग्राम फल

अनुसंधान द्वारा तैयार किए गए इन पौधों में न केवल तीन वर्षों के अंदर ही फल आने लग जाते हैं, बल्कि फलों का उपज भी बढ़ता है. प्राप्त जानकारी के अनुसार एक वृक्ष से 50 से 60 किलोग्राम फल की प्राप्ति हो सकती है. अनुसंधान ने कांकेर, कोड़ागांव, जगदलपुर के विभिन्न वन क्षेत्रों में इन पेड़ों पर सर्वेक्षण किया है.

क्या होता है जीनोटाइप

किसी पौधे को जीनोटाइप करने का मतलब उसके अनुवांशिक भीतरी संरचना में सुधार करते हुए गुणवत्ता एवं उपज को बढ़ाना है. इस क्रिया द्वारा किसी एकल लक्षण और लक्षणों के संदर्भ में, किसी भी पौधे या पौधों के समूह के अनुवांशिक श्रृंगार में बदलाव किया जाता है. जीनोटाइफ पौधों के सभी जीनों या किसी विशिष्ट जीन से संबंधित हो सकता है. इसी क्रिया द्वारा जामुन के पौधों में बदलाव कर फल जल्दी लाया जाता है.

सेहत के लिए भी होगा लाभकारी

जीनोटाइप जामुन सेहत के लिहाज से भी शरीर के लिए फायदेमंद ही रहेगा. इसका सबसे अधिक फायदा मधुमेह के रोगियों को होगा. कुछ विशेषज्ञों का अनुमान है कि जीनोटाइप जामुन कैंसर की लड़ाई में सहायक हो सकता है. वैसे भी जामुन को एंटी कैंसर फलों की श्रेणी में रखा गया है.

(आपको हमारी खबर कैसी लगी? इस बारे में अपनी राय कमेंट बॉक्स में जरूर दें. इसी तरह अगर आप पशुपालन, किसानी, सरकारी योजनाओं आदि के बारे में जानकारी चाहते हैं, तो वो भी बताएं. आपके हर संभव सवाल का जवाब कृषि जागरण देने की कोशिश करेगा)

English Summary: Jamun plant will be ready in 3 years, 60 kg fruit per tree

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News