1. खेती-बाड़ी

मसूर की इन उन्नत क़िस्मों से मिलेगा अधिक उपज

स्वाति राव
स्वाति राव

Varities Of Masoor

मसूर दलहनी फसलों की प्रमुख फसल है. मसूर की खेती आमतौर पर भारत के सभी राज्यों में की जाती है. वहीं, मसूर में पाए जाने वाले पोषक तत्व हमारी सेहत के लिए बहुत लाभदायी होते हैं. मसूर की अच्छी पैदावार के लिए जरुरी उनकी अच्छी किस्मों की जानकारी होना है. तो आज हम अपने इस लेख में आपको मसूर की अच्छी और उन्नत किस्मों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनसे पैदावार भी अच्छी होगी और किसानों को अच्छा लाभ भी मिलेगा.

मसूर की उन्नत किस्में (improved varieties of lentils)

वी एल मसूर 1 (V L Masoor 1)

मसूर की यह किस्म 165 – 165 दिनों में पककर तैयार हो जाती है. इस किस्म की खासियत यह है कि इसकी औसतन उपज 10- 12 क्विंटल प्रति हेक्टेयर होती है. इस किस्म की मसूर दाल का छिलका काला होता है एवं इसका दाना छोटे आकार का होता है. वहीं, बीज मध्यम आकार के होते हैं.

वी एल मसूर 4 (V L Masoor 4)

मसूर की यह किस्म 170  – 175 दिनों में पककर तैयार हो जाती है. इस किस्म की खासियत यह है कि इसकी औसतन उपज 12 – 14 क्विंटल प्रति हेक्टेयर होती है. इस किस्म की मसूर दाल का छिलका काला होता है एवं इसका दाना छोटे आकार का होता है. इस किस्म की खेती अल्मोड़ा  में की जाती है.

वी एल मसूर 103 (V L Masoor 103)

मसूर की यह किस्म 170 – 175 दिनों में पककर तैयार हो जाती है. इस किस्म की खासियत यह है कि इसकी औसतन उपज 12 – 14 क्विंटल प्रति हेक्टेयर होती है. इस किस्म की मसूर दाल का छिलका भूरा होता है एवं इसका दाना छोटे आकार का होता है.

वी एल मसूर 125 (V L Masoor 125)

मसूर की यह किस्म 160 – 165 दिनों में पककर तैयार हो जाती है. इस किस्म की खासियत यह है कि इसकी औसतन उपज 18 – 20 क्विंटल प्रति हेक्टेयर होती है. इस किस्म की मसूर दाल का छिलका काले रंग का होता है एवं इसका दाना छोटे आकार का होता है

वी एल मसूर 126 (V L Masoor 126)

मसूर की यह किस्म 125 - 150 दिनों में पककर तैयार हो जाती है. इस किस्म की खासियत यह है कि इसकी औसतन उपज 12 – 16 क्विंटल प्रति हेक्टेयर होती है. इस किस्म की मसूर दाल का छिलका काला  होता है एवं इसका दाना छोटे आकार का होता है. इस किस्म की पौधे की ऊँचाई 30 – 35 से.मी. होती है. इस किस्म की खेती भारत के सम्पूर्ण राज्यों में की जाती है

मसूर की ये उन्नत किस्में खेती के लिए बहुत लाभदायी हैं. इन किस्मों से किसान भाई अधिक पैदावार कर सकेंगे एवं इन किस्मों से किसान अच्छी आय भी अर्जित कर सकता है. 

ऐसे ही फसलों की उन्नत किस्मों की जानकारी जानने के लिए जुड़े रहिये कृषि जागरण हिंदी पोर्टल से. 

English Summary: improved varieties of masoor, will give more yield

Like this article?

Hey! I am स्वाति राव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News