1. खेती-बाड़ी

एक एकड़ ज़मीन में आंवला और ऐलोवेरा की खेती

गिरीश पांडेय
गिरीश पांडेय

यदि आपके पास एक एकड़ या इससे अधिक ज़मीन है और आप उसमें मुनाफे की खेती करने के बारे में सोच रहे हैं तो आपके लिए आंवला और ऐलोवेरा से बेहतर कुछ और नहीं हो सकता. आंवला और ऐलोवेरा यूं तो मामूली नज़र आते हैं परंतु इनकी खेती करने वाले आज करोड़ों कमा रहे हैं. आंवलां और ऐलोवेरा का प्रयोग आज बहुत भारी मात्रा में हो रहा है. हर कंपनी को आज अपने उत्पाद के लिए ऐलोवेरा की आवश्यकता है.

क्यों बढ़ रही है मांग

पिछले कुछ सालों में ऐलोवेरा और आंवला की मांग में बहुत उछाल आया है. घरेलू उत्पाद की वस्तुएं बनाने वाली ऐसी कोई कंपनी नहीं है जिसे ऐलोवेरा और आंवला की जरुरत न हो. बाबा रामदेव के उत्पाद पतंजलि ने आज एक बहुत बड़ा बाज़ार खड़ा कर दिया है और पतंजलि ने लगभग पूरे बाज़ार को अपने अधीन कर लिया है. पतंजलि ने अपने उत्पादों में आंवला और ऐलोवेरा की बहुत ब्रांडिंग की है और इसी वजह से आज ऐलोवेरा और आंवला उगाना बहुत लाभदायक हो गया है

कहां बेच कर कमा सकते हैं करोड़ों

आंवला और ऐलोवेरा को आप मंडी में न बेचें क्योंकि ऐसा करने से आपको कोई लाभ नहीं होगा. आप आवंला और ऐलोवेरा को क्रीम बनाने वाली कंपनियों, औषधि बनाने वाली कंपनियों और विदेशी कंपनियों को बेच सकते हैं. आज सनक्रीम, मॉश्चराइज़र और कोल्ड क्रीम से लेकर तमाम तरह की क्रीम बाज़ारों में आ गई है और उसमें यह दावा किया जाता है कि यह पूरी तरह जैविक और प्राकृतिक ऐलोवेरा से बनी हुई है और कस्टमर भी अब इसी तरह के उत्पाद पसंद कर रहे हैं और उसी को खरीद रहे हैं.

शुरु कर सकते हैं अपना व्यवसाय

यदि आपका व्यवसाय अधिक नहीं फैल रहा तो इसके लिए भी एक उपाय यह है कि आप इसका व्यवसाय या बिज़नेस घर से ही शुरु कर सकते हैं और इसमें लागत भी न के बराबर आएगी. आज कईं ऐसे लोग हैं जो बिना किसी सहायता के अपने बिज़नेस को घर से शुरु करते हैं और धीरे-धीरे वह अपना साम्राज्य स्थापित कर लेते हैं.

इंटरनेट बढ़ाएगा आपका व्यवसाय

आजकल ऐसी कईं इंटरनेट साइटें मौजूद हैं जो ऐलोवेरा और आंवला को हाथों-हाथ खरीदना चाहती हैं. वह अपनी कुछ शर्तें और मांगे आपके सामने रखते हैं और यदि आप उन मांगों को पूरा कर लेते हैं तो वह आपको बाज़ार भाव से बेहतर भाव देती हैं.

गिरीश पांडे

English Summary: How to start aloevera and amla farming

Like this article?

Hey! I am गिरीश पांडेय. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News