Farm Activities

जैविक कृषि में वर्मी खाद का महत्व और उत्पादन तकनीकी

Importance of earthworm manure in organic agriculture

भारत में पुराने समय से ही जैविक कृषि ही की जाती थी परंतु जनसंख्या वृद्धि के कारण अनाज की कमी को पूरा करने के लिए हरित क्रांति का आगमन हुआ जिससे फसल की पैदावार में तो बढ़ोतरी हुई परंतु इससे भूमि की उपज क्षमता पर विपरित असर पड़ा. वातावरण, पेयजल, स्वास्थ्य पर भी इसका दुष्प्रभाव पड़ा. इन सब चीजों को  ध्यान में रखते हुए जैविक कृषि को बढ़ावा देने का प्रयास किया जा रहा है. विश्व में 154 देशों में जैविक कृषि को  बढ़ावा दिया जा रहा है. कृषि उत्पादन में रसायन रहित पदार्थों,  स्वस्थ जलवायु, पौधों व जमीन संरक्षण के लिए केवल जैविक खेती ही एक मात्र विकल्प है. जैविक खेती करने हेतु वर्मी कम्पोस्ट बनाने की प्रक्रिया में निम्नलिखित बातों पर ध्यान देना जरूरी होता है-

स्थान का चुनाव

जिन स्थानों पर वर्षा का पानी एकत्र न होता हो, उन स्थानों का चुनाव करना चाहिये. आस-पास स्वच्छ पानी होना चाहिए ताकि कार्बनिक पदार्थों को हमेशा नम रखा जा सके. चूँकि सदैव निगरानी की आवश्यकता पड़ती है. अतः घर के आसपास ही यह कार्य करना उचित होता है.

केंचुए की प्रजाति का चुनाव

खाद बनाने के लिए केंचुए की उन प्रजातियों का चुनाव करना चहिए जो कार्बनिक पदार्थों को अधिक मात्रा में खाने की क्षमता रखते हो तथा जो मौसम के उतार चढ़ाव को सहन कर सके तथा प्रजनन क्षमता भी अच्छी हो.

कार्बनिक अपशिष्टों का चयन

जिस जगह यह कार्य प्रारम्भ किया जा रहा हो उस स्थान पर कार्बनिक अपशिष्टों की उपलब्धता, जैसे गोबर, हरा पदार्थ, पेड़ पौधों की पत्तियाँ उचित मात्रा में एवं सस्ती कीमत पर उपलब्ध हों.

Modern farming vermicompost

भण्डारण की व्यवस्था

व्यवसायिक स्तर पर भण्डारण के लिए छायादार शेड उपलब्ध होना आवश्यक है, ताकि तैयार खाद को एकत्र कर उचित नमी बनाये रखते हुए भण्डारित किया जा सकें, क्योंकि वर्मीकम्पोस्ट में नमी कम होने अथवा कम्पोस्ट सूख जाने पर इसकी गुणवत्ता प्रभावित होती है.

शत्रुओं से बचाव

प्रकृति में केचुए के काफी शत्रु है जैसे मनुष्य (मछली पकड़ने में), सर्प, मेंढक, छिपकली, चिड़िया यह सभी केंचुओं को अधिक खाते हैं. दीमक, लाल चीटीं यह केंचुए को क्षति पहुँचाते हैं. अतः इनके द्वारा क्षति को रोकने के सम्पूर्ण प्रयास की आवश्यकता होती है.             

उत्पादन के उपयोग की व्यवस्था

तैयार खाद को कहाँ उपयोग किया जाना है, इसकी योजना पहले से बनाना आवश्यक है. यदि स्वयं खेती में प्रयोग करना हो तो आवश्यकता के अनुसार ही योजना बनानी चाहिए. यदि बाजार में बेचना हो तो मार्केटिंग की व्यवस्था की रणनीति तैयार करना तथा रेडवर्म को बेचने की व्यवस्था करना आवश्यक है.

उत्पादन इकाई संरचना निर्माण

50 से 75 टन प्रतिवर्ष वर्मी कम्पोस्ट उत्पादन हेतु 12 गुणा 20 फीट आकार का पक्का प्लेटफार्म बनाया जाता है जिसके ऊपर 15 गुणा 25 फीट आकार को शेड लगाया जाता है ताकि छाया बनी रहे और वर्षा का पानी अन्दर न आये. सम्पूर्ण प्लेटफार्म के चारो ओर 2 फीट ऊँची दीवार बनाकर दीवार के ऊपर से शेड की ऊँचाई तक मुर्गा जाली लगानी आवश्यक है. ताकि केंचुए के दुश्मनों से केंचुओं को बचाया जा सके. अन्दर जाने के लिए एक दरवाजा भी आवश्यक है, जिसे आवश्यकतानुसार ही खोला जाय.

how to sell vermicompost in india

बेड निर्माण

बनाये गये प्लेटफार्म में 3 गुणा 18 फीट की तीन बेड 4 इंच मोटी बालू अथवा बजरी अथवा बालू के ऊपर 1 से 2 इंच मोटी परत घास-फूस की लगा देनी चाहिए, इसके उपरान्त 2 फीट चैड़ी 1.5 फिट ऊंची बेड गोबर एवं अन्य कार्बनिक अपशिष्टों की लगानी चाहिए.

रेड वर्म का प्रयोग

तैयार तीन बेडों में अनुमानित 18-20 कुन्तल कार्बनिक अपशिष्ट प्रयोग किया जाता है. इस प्रकार क्यारी जो 2 गुणा 15 गुणा 18 फीट की है, में अनुमानित 6-7 कुन्तल गोबर एवं अन्य पदार्थ प्रयुक्त किये जाते हैं, में 25-30 किग्रा० रेडवर्म डाला जाता है, जो इस क्यारी के पदार्थ के अधिकतम एक माह में खा लेते हैं. इस प्रकार तीन बेडों में प्रयुक्त 20 कुन्तल गोबर एवं अन्य पदार्थों को 75 किग्रा० रेड वर्म एक माह में खाद बनाने में समर्थ होते है. रेडवर्म अपने वजन के बराबर प्रतिदिन भोजन ग्रहण करते है. अतः रेड वर्म की मात्रा के आधार पर ही खाद की मात्रा का आँकलन किया जा सकता है. प्लेटफार्म का आकार पर खाद उत्पादन की मात्रा का कोई आंकलन नहीं किया जा सकता. खाद उत्पादन की मात्रा इस बात पर निर्भर करती है कि केंचुओं की कितनी मात्रा का कैसे प्रबन्धन किया गया है.

कच्चे माल में क्या प्रयोग करें ?

विभिन्न जानवरों का गोबर, भेड़, बकरियों की मेंगनी, घोड़े की लीद, मुर्गी फार्म का कचरा.

फसलों के तने, पत्तियों, खरपतवारों के अवशेष, सड़ी-गली बगीचे की पत्तियॉ, गन्ने की खोई आदि.

लकड़ी का बुरादा, छाल, गूदा, सूती फटे पुराने कपड़े, कागज, केले की पत्तियॉ, रसोई घर का कूड़ा.

बायोगैंस संयत्र से निकलने वाली सेलरी, खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों की अपशिष्ट आदि.

सावधानियां

प्रति सप्ताह बेड को एक बार हाथ अथवा पन्जे से पलट देना चाहिए ताकि गोबर पलट जाये और वायु संचार हो जाये ताकि बेड में गर्मी न बढ़ने पाये.

किसी भी प्रकार ताजा गोबर न प्रयोग किया जाये क्योंकि ताजा गोबर गर्म होता है, इससे केंचुए मर सकते हैं.

बेड में सदैव 35-40 प्रतिशत नमी बनायी रखी जाये इसके लिए मौसम के अनुसार समय-समय पर पानी का छिड़काव करते रहना चाहिये. वर्षा ऋतु में पानी छिड़कने की आवश्यकता बहुत कम पड़ती है. शरद ऋतु में दूसरे-तीसरे दिन पानी का छिड़काव एवं ग्रीष्म ऋतु में रोजाना पानी छिड़काना चाहिए.

सांप, मेंढक, छिपकली से बचाव हेतु मुर्गा जाली प्लेटफार्म के चारो और लगानी चाहिए ताकि दीमक, चींटी से बचाव हेतु प्लेटफार्म के चारों तरफ नीम का काढ़ा प्रयोग करते रहना चाहिए.

बेड का तापमान 8 से 30 डिग्री सेंग्रे. से कम-ज्यादा न होने दिया जाये, 15 से 25 डिग्री. सेग्रे. तापमान पर यह सर्वाधिक क्रियाशील रहते है तथा खाद शीघ्र बनती है.

हवा का संचार पर्याप्त बना रहे किन्तु रोशनी कम से कम रहे इस बात का ध्यान रखना चाहिए.                                            



Share your comments