MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

बारिश में धान के अलावा इन फसलों की खेती से  किसानों को मिलेगा डबल लाभ

अगर आप भी इस बारिश के मौसम में धान की फसल (Paddy Crop) के अलावा अन्य फसल की खेती करके अधिक लाभ कमाना चाहते हैं, तो यह लेख एक बार जरूर पढ़ें. ताकि आप भी इन फसलों की खेती कर सकें.

लोकेश निरवाल
Rainfed crop
Rainfed crop

हमारे देश के ज्यादातर किसान भाई यह सोचते हैं कि वह बारिश के मौसम में सिर्फ अपने खेत में धान की ही फसल की बुवाई कर सकते हैं, लेकिन ऐसा नहीं है. किसान अगर चाहे तो वह अपने खेत में वर्षा के सीजन में धान के अलावा या फिर धान फसल के साथ अन्य फसलों की बुवाई करके भी अच्छा लाभ पा सकता है. 

अब आप सोच रहे होंगे कि धान के साथ किन फसलों को उगाया जाएं, जिससे समय पर आपको अच्छी पैदावार भी मिल जाए और लाभ भी प्राप्त हो. तो आइए इस लेख में उन फसलों के बारे में जानते हैं कि जिन्हें आप बरसात के मौसम में भी उगा सकते हैं.

बारिश वाली फसल (Rainfed crop)

बारिश के मौसम में धान की खेती के साथ किसान भाई सब्जियों की खेती करें. ऐसी कई सब्जियां हैं, जिनकी खेती अन्य फसलों के साथ सरलता से की जा सकती है. जैसे कि- सिंघाड़ा की खेती, टमाटर की खेती, बैंगन की खेती, अनार की खेती आदि.

आइये इन सब्जियों के बारे में थोड़ा विस्तार से जानते हैं...

सिंघाड़े की खेती (Water Chestnut Farming): बारिश के मौसम में किसानों के लिए सिंघाड़े की खेती से लाभ कमाना सबसे अच्छा विकल्प है. वर्षा के सीजन में इसकी खेती में अधिक खर्चा भी नहीं होता है. बता दें कि जून-जुलाई के महीने में किसान अपने खेत में धान की बुवाई के साथ सिंघाड़े भी बो सकते हैं. यह फसल लगभग 6 महीने में अच्छे से तैयार हो जाती है.

टमाटर की खेती (Tomato Cultivation): बारिश का मौसम टमाटर की खेती के लिए सबसे अच्छा मौसम माना जाता है. खेत में इसके बीज लगाने के बाद अंकुरित होने में लगभग 7 से 14 दिन का समय लगता है और फिर यह फसल पूरी तरह से 50 से 60 दिनों के अंदर तैयार हो जाती है.

बैंगन की खेती (Cultivation of Brinjal): यह बारिश के मौसम में उगने वाली सब्जी है. ऐसे में किसान धान की बुवाई के साथ बैंगन की खेती करके भी अच्छा लाभ पा सकते हैं.

अनार की खेती (Farming of Pomegranate): अनार की रोपण बारिश के मौसम में अच्छे से होती है. एक बार इसके पौध लग जाएं तो यह 120-130 दिनों के बाद फल देने लगते हैं और फिर किसान इसे बाजार में बेचकर अच्छा लाभ प्राप्त कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें: धान की फसल के प्रमुख रोग और उनका पर्यावरण के अनुकूल प्रबंधन

इन सब्जियों की भी करें खेती

अगर आप ऊपर बताई गई फल-सब्जियों की खेती (Cultivation of Vegetables) नहीं करना चाहते हैं, तो किसान भाई इसके अलावा अन्य सब्जियों की खेती भी कर सकते हैं, जिसकी मांग भारतीय बाजार में सबसे अधिक होती है. इन सब्जियों का नाम कुछ इस प्रकार से है. पालक, मर्ची, धनिया, खीरा, करेला, लौकी, भिंडी, बीन्स, कद्दू व पत्ता गोभी आदि सब्जी की खेती धान की फसल के साथ कर सकते हैं.

English Summary: Cultivation of these crops other than paddy in rain, farmers will get double benefit Published on: 03 July 2023, 04:07 PM IST

Like this article?

Hey! I am लोकेश निरवाल . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News