MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

टमाटर की फसल में तेजी से फैल रहा है यह खतरनाक वायरस, जानें लक्षण और उपाय!

Mosaic Virus Disease: कुकुंबर (ककड़ी) मोज़ेक वायरस (सीएमवी) रोग एक बहुत बड़ी समस्या के तौर पर उभर कर आया है. इस रोग की वजह से बहुत बड़े भू भाग में टमाटर की खेती प्रभावित हुई है, जिसकी वजह से टमाटर उत्पादक किसानों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ रहा है.

डॉ एस के सिंह
टमाटर की फसल में तेजी से फैल रहा है यह खतरनाक वायरस (प्रतीकात्मक तस्वीर)
टमाटर की फसल में तेजी से फैल रहा है यह खतरनाक वायरस (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Cucumber Mosaic Virus Disease: टमाटर में कुकुंबर (ककड़ी) मोज़ेक वायरस (सीएमवी) रोग एक बहुत बड़ी समस्या के तौर पर उभर कर आया है. इस रोग की वजह से बहुत बड़े भू भाग में टमाटर की खेती प्रभावित हुई है, जिसकी वजह से टमाटर उत्पादक किसानों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ रहा है. कुछ वर्षों से मध्य प्रदेश के बुरहान जिले और महाराष्ट्र के जलगांव में केले की खेती में कुकुंबर मोजैक वायरस रोग एक बहुत बड़ी समस्या के तौर पर उभरा है. पहले यह रोग कम महत्व का माना जाता था लेकिन आजकल यह रोग बहुत नुकसान पहुंचा रहा है. सभी किसानों के लिए कुकुंबर मोजैक वायरस रोग के बारे में जानना बेहद जरूरी है.

कुकुंबर मोजैक वायरस रोग क्या है?

कुकुंबर (ककड़ी) मोज़ेक वायरस (सीएमवी) एक पादप रोगज़नक है, जो टमाटर सहित पौधों की एक विस्तृत श्रृंखला को प्रभावित करता है. यह टमाटर की सबसे आम और आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण वायरल बीमारियों में से एक है. सीएमवी से उपज में काफी नुकसान होता है और टमाटर के फलों की गुणवत्ता कम हो जाती है.

टमाटर में सीएमवी द्वारा उत्पन्न रोग के लक्षण

सीएमवी टमाटर के पौधों में विभिन्न लक्षण पैदा करता है, जिसमें पत्तियों पर मोज़ेक पैटर्न (हल्के और गहरे हरे धब्बे), पत्ती विकृति, बौनापन और फलों का आकार कम होना शामिल है. लक्षणों की गंभीरता टमाटर की किस्म और सीएमवी के प्रकार के आधार पर भिन्न हो सकती है.

टमाटर में सीएमवी रोग का संचरण कैसे होता है?

सीएमवी मुख्य रूप से एफिड्स द्वारा फैलता है, जो छोटे कीड़े होते हैं और पौधे के रस पर फ़ीड करते हैं. जब एफिड्स किसी संक्रमित पौधे को खाते हैं, तो वे वायरस प्राप्त करते हैं और फिर जब वे इधर-उधर घूमते हैं तो इसे स्वस्थ पौधों में संचारित करते हैं. सीएमवी दूषित उपकरणों, पौधों के रस और बीजों के माध्यम से भी फैलता है.

टमाटर में सीएमवी रोग का प्रबंध कैसे करें?

चूंकि सीएमवी का कोई इलाज नहीं है, इसलिए प्रबंधन रणनीतियां रोकथाम और नियंत्रण पर ध्यान केंद्रित करती है. यहां कुछ उपाय दिए गए हैं, जिन्हें आप अपना सकते हैं जैसे टमाटर में सीएमवी रोग प्रतिरोधी किस्में.

टमाटर की कुछ किस्मों को सीएमवी के प्रतिरोध के साथ विकसित किया गया है. प्रतिरोधी किस्मों को चुनने से संक्रमण के जोखिम को कम करने में मदद मिलती है.

ये भी पढ़ें: मिट्टी के लिए बेहद फायदेमंद है मछली खाद, जानें तैयार करने की विधि और उपयोग का तरीका

ककड़ी मोज़ेक वायरस (सीएमवी) एक पादप रोगज़नक है, जो टमाटर सहित पौधों की एक विस्तृत श्रृंखला को प्रभावित करता है. हालांकि सीएमवी के प्रति पूर्ण प्रतिरक्षा मौजूद नहीं है. टमाटर की कुछ किस्में ऐसी हैं, जो वायरस के प्रति अलग-अलग स्तर की प्रतिरोधक क्षमता प्रदर्शित करती हैं. ये प्रतिरोधी किस्में बीमारी की गंभीरता को कम करने और उपज के नुकसान को कम करने में मदद कर सकती हैं. 

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि टमाटर की विभिन्न किस्मों के बीच प्रतिरोध का स्तर भिन्न हो सकता है, और कुछ केवल आंशिक प्रतिरोध प्रदर्शित कर सकते हैं. इसके अतिरिक्त, जबकि प्रतिरोधी किस्में सीएमवी के प्रभाव को कम करने में मदद करती हैं, फिर भी इसके प्रसार को रोकने के लिए अच्छा कर्षण उपाय करना महत्वपूर्ण है, जैसे उचित पौधों की स्वच्छता बनाए रखना, कीट वाहकों को नियंत्रित करना और बीमारी के किसी भी लक्षण की निगरानी करना.

रोग संवाहक (वेक्टर) कीड़ों का प्रबंधन

सीएमवी को नियंत्रित करने के लिए एफिड्स का प्रबंधन महत्वपूर्ण है. एफिड संक्रमण के लिए नियमित रूप से अपने टमाटर के पौधों की निगरानी करें और एफिड को नियंत्रित करने के लिए कीटनाशक साबुन, नीम तेल या अन्य कीटनाशकों का उपयोग करते हैं.

खरपतवार नियंत्रण

सीएमवी कई खरपतवार प्रजातियों को संक्रमित करता है, जो वायरस के लिए भंडार के रूप में काम करते हैं. टमाटर के खेतों और उसके आसपास खरपतवारों को नियंत्रित करने से सीएमवी के प्रसार को कम करने में मदद मिलती है.

स्वच्छता

वायरस फैलने की संभावना को कम करने के लिए संक्रमित पौधों, साथ ही आस-पास के किसी भी खरपतवार को हटाकर और नष्ट करके अच्छी स्वच्छता अपनाए.

बीज उपचार

सीएमवी मुक्त बीजों का उपयोग करने या गर्म पानी या अन्य कीटाणुनाशकों से बीजों का उपचार करने से पौधों में प्रारंभिक वायरस लोड को कम करने में मदद मिलती है.

वैकल्पिक मेजबानों की निगरानी और नियंत्रण करें

सीएमवी कुछ सामान्य खरपतवारों सहित विभिन्न अन्य पौधों की प्रजातियों को संक्रमित करता है.  आस-पास के पौधों में सीएमवी संक्रमण के किसी भी लक्षण के लिए अपने बगीचे की निगरानी करें और अपने टमाटर के पौधों में वायरस के प्रसार को रोकने के लिए उन्हें तुरंत हटा दें.

अनुकूलतम विकास परिस्थितियां प्रदान करें

स्वस्थ पौधे सीएमवी सहित बीमारियों के प्रति अधिक प्रतिरोधी होते हैं. सुनिश्चित करें कि आपके टमाटर के पौधों को पर्याप्त धूप, पानी और पोषण मिले. स्वस्थ विकास को बढ़ावा देने के लिए अपने पौधों को उचित रूप से उर्वरित करें, क्योंकि मजबूत पौधे वायरल संक्रमण का सामना करने के लिए बेहतर ढंग से सुसज्जित होते हैं.

परावर्तक मल्च पर विचार करें

परावर्तक मल्च, जैसे चांदी या एल्यूमीनियम रंग का प्लास्टिक, एफिड्स को आपके टमाटर के पौधों पर उतरने से रोकता है. चमकदार सतह एफिड्स को भ्रमित करती है और उनके भोजन और वायरस संचरण को कम करती है.

चींटी प्रबंधन पर विचार करें

चींटियां अक्सर एफिड्स को शिकारियों से बचाती हैं, इसलिए चींटियों की आबादी को नियंत्रित करने से अप्रत्यक्ष रूप से एफिड आबादी को कम करने में मदद मिलती है. चींटियों को अपने टमाटर के पौधों तक पहुंचने से रोकने के लिए चींटियों का चारा लगाएं या अवरोध बनाएं.

वायरस-मुक्त पौध का उपयोग करें

टमाटर के पौधों को बीज से शुरू करते समय, सुनिश्चित करें कि बीज प्रतिष्ठित स्रोतों से आए हैं और वायरस-मुक्त के रूप में प्रमाणित हैं. यह कदम आपके बगीचे में सीएमवी की शुरूआत को कम करने में मदद करता है.

ग्रीनहाउस में टमाटर में सीएमवी रोग को कैसे करें प्रबंधित?

यदि आप ग्रीनहाउस में टमाटर उगा रहे हैं, तो एफिड्स को प्रवेश से रोकने के लिए स्क्रीन जैसी भौतिक बाधाओं को लागू करने पर विचार करें. इसके अलावा, आर्द्रता को कम करने के लिए उचित वेंटिलेशन और वायु प्रवाह सुनिश्चित करें, क्योंकि सीएमवी आर्द्र परिस्थितियों में अधिक आसानी से फैलता है.

याद रखें कि सीएमवी का प्रबंधन निवारक उपायों, शीघ्र पता लगाने और त्वरित कार्रवाई का एक संयोजन है. इन रणनीतियों को लागू करके, आप सीएमवी संक्रमण के जोखिम को कम कर सकते हैं और अपने टमाटर के पौधों की रक्षा कर सकते हैं.

English Summary: cucumber mosaic virus disease in tomato crops symptoms and remedies of mosaic virus Published on: 08 July 2024, 04:24 PM IST

Like this article?

Hey! I am डॉ एस के सिंह. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News