Farm Activities

इस पेड़ की खेती कर बनें करोड़पति, पौध की कीमत 50 रूपये

अगर देश के किसानों को खेती करने के लिए बीज, सिंचाई करने के लिए यंत्र तथा खेत की तैयारी आदि में प्रयुक्त होने वाली उपकरणों को सही समय पर मुहैया करवाया जाए तो वो भी करोड़पति बन सकते हैं. बस जरूरत है उन्हें सही समय पर खेती करने का तरीका बताने की. जैसा कि हम सब जानते है कि भारत एक कृषि प्रधान देश है और यहां के ज्यादातर किसान मौसमी सब्जियों, फलों और अनाजों की खेती करते हैं. लेकिन आज हम आपको एक ऐसे पेड़ के बारे में बताएंगे जिसकी खेती करने पर मुनाफा ही मुनाफा होता है. हालांकि, इसकी खेती करने के बाद किसानों को थोड़ी सी सब्र की जरूरत होती है. क्योंकि इस पेड़ को तैयार होने में अन्य पेड़ों के अपेक्षा थोड़ा ज्यादा समय लगता हैं.

आमतौर पर यह देखने को मिल जाता है की किसान अपने बगीचों या खेतों के किनारे फलों के पेड़ लगाते हैं, ताकि उनके फल देने के सीजन आने पर उन्हें बेचकर ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमाया जा सके. इन सबके बीच अगर चंदन का पेड़ लगा लिया जाए तो ये आपको सालों तक मुनाफा देता रहेगा. चंदन की खेती में इतना मुनाफा है की जितना किसी भी सरकारी या प्राइवेट स्कीम में नहीं मिल सकता. इसके पेड़ 15-20 सालों में काटने लायक हो जाते है.  इसकी खेती करने में जितनी लागत आती है. उतना अगर आप 15-20 साल तक किसी भी स्कीम में पैसा लगाएंगे तो भी इतना मुनाफा नहीं हो सकता जितना की इसको बेचने के बाद आपको होगा. बता दे कि चंदन की लकड़ी औसतन 6 से 7 हजार रुपए प्रति किलो की दर से बाजारों में बिकती है, अगर क्वालिटी अच्छी हो तो 10 हजार रुपए किलो तक दाम आसानी से मिल जाते हैं.

चंदन की खेती

चंदन की खेती करने के लिए किसानों को सबसे पहले चाहिए चंदन के बीज या फिर छोटा सा पौधा.  लाल चंदन के बीज  बाजार में 2000 रुपए किलो के लगभग मिल जाएंगे. किसान चाहें तो किसी नजदीकी नर्सरी से पौधे भी खरीद सकते हैं. गौरतलब है कि चंदन का पेड़ लाल मिट्टी में अच्छी तरह से उगता है. इसके अलावा चट्टानी मिट्टी, पथरीली मिट्टी या चूनेदार मिट्टी में भी ये पेड़ उगाया जाता है. हालांकि, गीली मिट्टी और ज्यादा मिनरल्स वाली मिट्टी में ये पेड़ तेजी से नहीं उग पाता.

बुवाई का समय

अप्रैल और मई का महीना चंदन की बुवाई के लिए सबसे उत्तम होता है. पौधे बोने से पहले अच्छी और गहरी जुताई करनी जरूरी होती है. अगर आपके पास काफी जगह है तो एक खेत में 30 से 40 सेमी की दूरी पर चंदन के बीजों को बो दें. मानसून के पेड़ में ये पौधे तेजी से बढ़ते हैं, लेकिन गर्मियों में इन्हें सिंचाई की जरूरत होती है. चंदन के पेड़ को 5 से 50 डिग्री सेल्सियस टेम्प्रेचर वाले इलाके में लगाना सही माना जाता है. इसके लिए 7 से 8.5 पीएच वाली मिट्टी उत्तम होती है. 1  एकड़ भूमि में औसतन 400 पेड़ लगाए जाते है.



Share your comments