किसानों का भरोसेमंद : आईआईएल

इंसेक्टिसाइड्स इंडिया लिमिटेड ने 30.50 करोड़ रुपये के साथ अपने पहले क्वॉर्टर में नेट प्रॉफिट पर 67 प्रतिशत की ऊंचाई दर्ज की

पहले क्वॉर्टर के मुख्य बिंदु

- पिछले फिस्कल के पहले क्वॉर्टर में 18.22 करोड़ का प्रॉफिट था, जबकि इस बार वही 30.50 करोड़ रुपये है।

- पिछले फिस्कल के पहले क्वॉर्टर में कंपनी का रेवेन्यू 292 करोड़ रुपये था, जबकि इस बार वही 345.62 करोड़ रुपये है

- पिछले फिस्कल के पहले क्वॉर्टर में पीबीटी 25.50 करोड़ रुपये था, जबकि इस बार वही 42.15 करोड़ है

  इंसेक्टिसाइड इंडिया लिमिटेड आईआईएल देश की प्रमुख एग्रो केमिकल्स कंपनी है। 30 जून 2017 को पहला क्वॉर्टर खत्म होने तक इसने नेट प्रॉफिट पर 67 प्रतिशत की बढ़त दर्ज की। जहां पिछले फिस्कल के पहले क्वॉर्टर तक इनका प्रॉफिट 18.22 करोड़ था, वहीं इस बार यह बढ़ कर 30.50 करोड़ रुपये तक पहुंच गया।

अपने नए और रचनात्मक उत्पादों के द्वारा 30 जून 2017 तक पहले क्वॉर्टर के खत्म होने तक कंपनी की सेल्स में 16 प्रतिशत की बढ़त यानी कि 345.62 करोड़ की बढ़त दर्ज की गई। पिछले फिस्कल के इसी क्वॉर्टर में कंपनी की सेल्स 298 करोड़ रुपये थी।

30 जून तक पहले क्वॉर्टर के प्रॉफिट बिफोर टैक्स ;पीबीटीद्ध में भी 65 प्रतिशत की बढ़त देखी गई। पिछले फिस्कल के पहले क्वॉर्टर तक यह 25.50 करोड़ था।

इंसेक्टिसाइड् इंडिया लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर राजेश अग्रवाल के मुताबिक, ‘हमने पिछले वर्ष कुछ नए उत्पाद लॉन्च किए थे, जिन्हें अच्छी प्रतिक्रिया मिली, इसलिए इस वर्ष भी हम कुछ नए उत्पाद लॉन्च करने की तैयारी में हैं। कायाकल्प - मिट्टी के लिए एक क्रांतिकारी बायोलॉजिकल उत्पाद, हम पिछले क्वॉर्टर में ही लॉन्च कर चुके हैं। हम बहुत खुश हैं कि हमारे सभी उत्पाद पसंद किए जा रहे हैं और ये सभी कंपनी को फायदा पहुंचा रहे हैं। हमें किसानों से सकारात्मक प्रतिक्रियाएं मिल रही हैं इसलिए उम्मीद कर सकते हैं कि आगे भी कंपनी इस उत्पादों के जरिये फायदे में रहेगी। अभी तक मॉनसून भी काफी अच्छा रहा है और इसका फायदा भी हमें मिला है।‘

हाल के वर्षों में आईआईएल अपने प्रोडक्ट बैंक्वेट को लगातार बढ़ाता गया है। अपने बेस्ट सेलिंग ब्रैंड्स नुवान, पल्सर, हकामा, लेथल, विक्टर, थिमेट और मोनोसिल की सूची में उसने कई नए और खास उत्पादों को लॉन्च किया है। 2014 में आईआईएल ने अपना पहला बायोप्रोडक्ट, माइकोराजा लॉन्च किया था। पिछले वर्ष भारत में कंपनी ने एक नया पोस्ट इमर्जेंस हर्बिसाइड ग्रीन लेबल लॉन्च किया था, एडवांस्ड तकनीक के इस्तेमाल के साथ यह भारत में पहली बार बनाया गया। कुछ ही समय पहले कंपनी ने भारतीय बाजार में नया बायोलॉजिकल उत्पाद कायाकल्प लॉन्च किया है, जिसके द्वारा बहुत ज्यादा इस्तेमाल की जा चुकी मिट्टी को दोबारा प्रयोग करने लायक बनाया जाता है।

Comments