संरक्षित खेती के लिए अपनाएं गरवारे उत्पाद...

गरवारे वॉल रोप्स लिमिटेड सिंथेटिक रस्सी बनाने वाली एक अग्रणी कंपनी है जिसकी शुरूआत सन 1976 में पद्मभूषण स्व. बी.डी. गरवारे ने की थी। कंपनी अपने ग्राहकों को गुणवत्तायुक्त रस्सी,  कृषि क्षेत्र में प्रयोग की जाने वाली जालियां, मछली पकड़ने के लिए जाल स्पोट्र्स नेट आदि उत्पाद मुहैया करा रही है। कंपनी की वाई और पुणे में फैक्ट्री है। इनका व्यवसाय 75 देशों में है तथा स्पोट्र्स नेट, एक्वाकल्चर क्षेत्र में अग्रणी निर्यातक है। कंपनी भारत में मछली व्यवसाय के उत्पादों में 65 प्रतिशत तथा अन्य औद्योगिक क्षेत्र में 50 प्रतिशत की भागीदारी रखती है। भारत में 5 कार्यालयों, 12 डिपो एवं 600 वितरकों के साथ कार्य कर रही है।

कृषि क्षेत्र में कंपनी शेड नेट, कीट नेट, ओला से बचाने नेट, पक्षी बचाव नेट, अंगूर नेट, फ्लोरीकल्चर नेट, रेशम कीट नेट, मल्च फिल्म, थैले, तालाब की लाइनिंग के लिए पॉली शीट आदि उत्पाद किसानों को दे रही है। कंपनी किसानों की फसल सुरक्षा के प्रति वचनबद्ध है। कंपनी को ब्यूरो ऑफ स्टैंडर्ड सर्टिफिकेट, शेड एवं कीट विरोधी नेट के लिए मिला है। अपने विशिष्ट उत्पादों की वजह से कंपनी अधिक मूल्यवान फसलें उगाने वाले किसानों के मध्य लोकप्रिय है।

कंपनी के विभिन्न उत्पाद निम्न हैं -

शेड नेट: यह पराबैंगनी किरणों को स्थिर करती है जिससे उत्पाद की गुणवत्ता एवं उत्पादन से वृद्धि सुनिश्चित होती है। यह मजबूत, टिकाऊ, विभिन्न रंगों में उपलब्ध है एवं 35 से 75 प्रतिशत तक प्रकाश कम करती है।

कीट विरोधी: नेट उचित मैश, आकार मजबूत एवं टिकाऊ होने के कारण फसलों की कीटों से सुरक्षा करती है। यह 30-50 मैश की सफेद या दूधिया रंग में ग्राहक की आवश्यकता अनुरूप विभिन्न आकार में उपलब्ध है।

तालाब लाइनर: मानसून कम होने के कारण तालाबों में पानी एकत्रित करने के लिए पी.वी.सी तह के साथ टिकाऊ मजबूत तथा पंचर न होने वाली मुलायम लाइनर बनाती है। यह काले रंग में 350-1000 जी.सी.एम में उपलब्ध है।

पॉली फिल्म: कंपनी सफेद एवं पीले रंग में 200 माइक्रोन या अधिक में उपलब्ध है जिसकी गुणवत्ता उपयुक्त है।

ओला बचाव नेट: अधिक मूल्यवान फसलों को ओलों से बचाने के लिए उपयुक्त मजबूत तथा हल्की नेट है जिसे आसानी से फसलों के ऊपर लगाया जा सकता है।

चिड़िया विरोधी नेट: फसलों को पत्तियों से बचाने के लिए यू.वी स्थिर मजबूत नेट है।

अंगूर नेट: अंगूरों की पक्षियों से सुरक्षा के लिए यू.वी स्थिर हल्के वजन की मजबूत और किसी भी केमिकल से अप्रभावित नेट है।

फसल सहारा नेट: बेल वाली फसलों को जमीन से ऊपर सहारा देने के लिए इस्तेमाल की जाती है। यह यू.वी स्थिर कम वजन ज्यादा शक्तिशाली है।

फ्लोरीकल्चर नेट: फूलों की कोमल फसलों को सहारा देने के लिए इस नेट का प्रयोग किया जाता है। यह रसायनों एवं खारे पानी से अप्रभावित है।

सहारा रस्सी: जी.आई तारों के प्रतिस्थापन के लिए कम मूल्य की यह रस्सी जिसमें गांठ लगाने की क्षमता है, यू.वी स्थिर, 8 से 14 गेज वाली, काले रंग की रस्सी टमाटर, बैंगन आदि फसलों को सहारा देने के लिए पॉली हाउस या खेतों में इस्तेमाल की जाती है। यह अधिक वजन झेलने की क्षमता रखती है। अंगूरों में ‘ल’ एंगल के फ्रेम में इस्तेमाल की जाती है।

मल्च फिल्म: यह 25 से 30 माइक्रोन मोटाई वाली यू.वी स्थिर दो फसलों तक चलने वाली फिल्म है। यह नमी बनाए रखती है और खरपतवारों की बढ़वार को रोकती है जिससे जड़ों का विकास अच्छा होता है।

वर्मी बैग: वर्मी कम्पोस्ट बनाने के लिए 12 ग 4 ग 2 फीट के बैग होते हैं जो कि मजबूत वॉटरप्रूफ होते हैं।

वक्त की मांग है कि उपलब्ध कम जमीन में कैसे ज्यादा उत्पादन लिया जाए। इसके लिए सुरक्षित तरीकों से फसलों को उगाए जाने की जानकारी देना अत्यंत आवश्यक है। किसान इन तकनीकों को अपनाकर अधिक मुनाफा कमा सकते हैं। कंपनियों का उत्तरदायित्व है सरकारी व निजी संस्थानों के साथ मिलकर इस तकनीकी को किसान वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धा कर सकें।

Comments