बासमती चावल की बढ़ती मांग विदेशों में होगा निर्यात : सऊदी अरब

आज हम बात कर रहे हैं बासमती चावल की जिसकी मांग आजकल बढ़ रही है.  देश में ही नहीं अब विदेशों में भी इसकी मांग बढ़ रही है जिससे बासमती चावल की खेती करने वालों को बहुत फायदा हो रहा है. अब देश में ही नहीं विदेश के लोग भी बासमती चावल को भारत से निर्यात करवा रहे हैं, जिससे  किसानो के साथ -साथ सरकार को भी बहुत फायदा हो रहा  है.

चावल आपूर्ति के मुकाबले मांग में आई तेजी को पूरा करने के लिए स्टॉकिस्टों के उठान बढ़ने के कारण राष्ट्रीय राजधानी के थोक अनाज बाजार में आज  बासमती चावल  की कीमत में 100 रुपये प्रति क्विन्टल की तेजी आई. हालांकि मामूली कारोबार के बीच अन्य अनाजों की कीमतों में स्थिरता रही. बाजार सूत्रों ने कहा कि उत्पादक क्षेत्रों से आपूर्ति में गिरावट के कारण सीमित स्टॉक रहने के मुकाबले स्टॉकिस्टों और चावल मिलों की मांग बढ़ने के कारण बासमती चावल की कीमतों में तेजी आई है. दिल्ली में चावल बासमती कॉमन और चावल बासमती पूसा..1121 किस्म की कीमतें 100 रुपये की तेजी के साथ क्रमश: 7,000 से 7,100 रुपये और 5,750 से 5,800 रुपये प्रति क्विन्टल हो गई.

अब सऊदी अरब जैसे देश भी हमसे बासमती चावल निर्यात करवा रहे हैं,  इससे सरकार को काफी फ़ायदा हो रहा है और इसकी कीमतें बढ़ने से किसानों को भी अधिक लाभ प्राप्त होगा जिससे आम जनता को थोड़ी अपनी जेब ढ़ीली करनी पड़ सकती है.

मनीशा शर्मा, कृषि जागरण

Comments