1. बाजार

भारत में ही पाम ऑयल तेल का उत्पादन करेगी पतंजलि, 5 लाख लोगों को मिलेगा रोजगार

सिप्पू कुमार
सिप्पू कुमार

योग गुरु बाबा रामदेव

आम बजट 2021 की सराहना करते हुए योग गुरु बाबा रामदेव ने इसे देश के लिए फायदेमंद बताया है. इसके साथ ही उन्होंने घोषणा की है कि आम जनता के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए उनकी कंपनी पतंजलि पॉम ऑयल के उत्पाद में करीब पांच लाख लोगों को रोजगार प्रदान करेगी.

भारत में होगा तेल उत्पादन

पॉम ऑयल के उत्पादन पर बल देते हुए रामदेव ने मीडिया से कहा कि उनकी कंपनी कृषि और खाद्य उत्पादन के क्षेत्र में अभी तक लाखों लोगों को रोजगार दे चुकी है और आने वाले समय में उनका लक्ष्य इंडोनेशिया एवं मलेशिया की तरह अपने ही देश में तेल उत्पादन का होगा.

बचेगा करोड़ो रूपया

रामदेव ने बताया कि वर्तमान में पॉम ऑयल मंगाने के लिए भारत करीब 2 लाख करोड़ रूपए विदेशों पर खर्च करता है, ऐसे में अगर देश के अंदर उत्पादन शुरू हो जाए तो इससे एक तरफ लोगों का सामाजिक और आर्थिक विकास होगा, वहीं दूसरी तरफ विदेशों में जाने वाला यह पैसा भी बचेगा.

इंडोनीशिया और मलेशिया से आता है तेल

खाद्य तेलों की उपयोगिता के बारे में कहते हुए रामदेव ने बताया कि देश में न सिर्फ “पतंजलि उनका उत्पादन करेगी, बल्कि मैन्यूफैक्चरिंग, मार्केटिंग, ब्रांण्डिंग और अन्य देशों को एक्सपोर्ट भी करेगी.” वैसे आपको बता दें कि इस समय भारत में इंडोनीशिया से 70 प्रतिशत और मलेशिया से 30 प्रतिशत पाम ऑयल आयात होता है.

अभी कुछ सालों से भारत ने राजनीतिक कारणों से मलेशिया से पाम ऑयल खरीदना बहुत कम कर दिया है, ऐसे में अगर पतंजलि द्वारा तेल का उत्पादन होता है, तो उसमें देश को बड़ा फायदा हो सकता है.

भारत में मांग

भारत में पाम ऑयल के बिजनेस की अच्छी संभावना है. इकनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में खाने वाले तेलों के मामले में दो तिहाई हिस्सा केवल पाम ऑयल का ही होता है. इस वनस्पति तेल का उपयोग होटलों, ढ़ाबों के साथ-साथ कई अन्य कामों के लिए, जैसे- साबुन निर्माण, फेशवॉश आदि बनाने के लिए किया जाता है.  

English Summary: baba ramdev said patanjali will produce palm oil in india and give five lakh job

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News