"तितली तूफान" 140-150 किलोमीटर प्रतिघंटे की तेज रफ्तार हवाओं के साथ उत्तर आंध्र और दक्षिण ओडिशा तट पर

तितली तूफान की वजह से पूरे देश में डर  का साया मंडरा रहा है जिस वजह से ओडिशा और आंध्र प्रदेश में खौफ का मंजर साफ़ देखने को मिल रहा है. "चक्रवती तूफान" तितली  अब 8  से ज्यादा  लोगों की जान ले ली है. निचले इलाकों में अभी तूफान के कारण भारी बारिश होने से बाढ़ जैसे हालात भी हो सकते हैं.  'तितली' से निपटने की तैयारियों का जायजा लिया था. प्रभावित इलाकों में नैशनल डिजास्टर रिस्पॉन्स फोर्स की टीमें जुटी हुई हैं। तेज हवाओं के कारण जगह-जगह पेड़ और बिजली के खंभे गिरने से कई जगहों पर सड़क और संचार मार्ग बाधित हो गया है. जिस वजह से उनसे सम्पर्क करना भी बहुत बड़ी चुनौती बन गया है.

पूर्वी तटीय रेलवे के अनुसार, कई स्थानों पर रेलवे स्टेशन क्षतिग्रस्त हुए हैं. पलासा के स्टेशन को भारी नुकसान हुआ है. रेलवे अधिकारियों की टीम पलासा और ब्रह्मपुर के बीच चक्रवात के प्रभाव का अध्ययन कर रही है. विशाखापत्तनम चक्रवात चेतावनी केंद्र के अनुसार, तितली 140-150 किलोमीटर प्रतिघंटे की तेज रफ्तार हवाओं के साथ पलासा के पास उत्तर आंध्र और दक्षिण ओडिशा तट से होकर गुजरा.

आंध्र के श्रीकाकुलम और विजयनगरम जिले तूफान से प्रभावित हुए हैं, जिसने ओडिशा की सीमा से सटे पलासा तट के पास दस्तक दी. श्रीकाकुलम में बड़े पैमाने पर नारियल के पेड़ उखड़ कर गिर गए. अधिकारियों ने बताया कि श्रीकाकुलम जिले में पांच लोगों की मौत होने जबकि पड़ोसी विजयनगरम जिले में तीन लोगों की मौत होने की सूचना मिली है. मृतकों में छह मछुआरे शामिल हैं. दोनों जिलों में चक्रवाती तूफान के चलते भारी बारिश हुई. सड़कों पर उखड़े हुए पेड़ पड़े होने के कारण यातायात में बाधा आई. राज्य के स्वामित्व वाले सड़क परिवहन निगम ने आंध्र-ओडिशा सीमा क्षेत्र पर सभी बस सेवाओं को रद्द कर दिया. चक्रवात के कारण कई ट्रेनों को रद्द कर दिया गया या उनके मार्ग में परिवर्तन कर दिया

तूफान  की वजह से गयी कई लोगो की जान

गुड़ीवाड़ा के गांव में एक 62 वर्ष की  महिला पर पेड़ गिरने से  उसकी मौत हो गयी, जबकि श्रीकाकुलम  जिले के  एक गांव में घर की छत गिरने से 65 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गयी.  नेशनल हाईवे पर हवा के बहाव से ट्रक पलट गया जिस कारण ड्राइवर को काफी ज्यादा चोट आई. यहां तक की  लोगों के घरों की पानी  की टंकिया भी उड़ कर सड़कों पर आ गई थी. 

यह तूफान दिन प्रतिदिन विकराल रूप लेता नज़र रहा है| अगर सरकार ने  कड़े -कदम उठाये तो पता नहीं और कितने लोगों की जान जाएगी| आपको ऐसे ही आपको "चक्रवत तूफान " तितली की सारी जानकारी आप तक पहुंचते रहेंगे|

मनीशा शर्मा, कृषि जागरण

Comments