1. सफल किसान

री-यूज तकनीक बागवानी का कमाल, देशभर में प्रसिद्ध हुए राजा बोस

भागलपुर (बिहार) के भीखनपुर में रहने वाले 44 साल के राजा बोस इन दिनों मीडिया के लिए खास आकर्षण बने हुए हैं. दरअसल उन्होंने अपने घर को ही गार्डन में तब्दील कर, उसे बॉटनिकल वंडरलैंड का नाम दे दिया है. अपने ही घर की छत, दीवार, बालकनी और जमीन में वो 500 से अधिक प्रजाति के पौधों को उगाते हैं. लेकिन राष्ट्रीय स्तर टेबल टेनिस खेलने वाले राजा बोस कभी बागवानी के लिए जाने जाएंगें, ऐसा उन्होंने सोचा नहीं था. चलिए आपको बताते हैं, फिर कैसे शुरू हुआ उनका यह सफर.

बेंगलुरू में मिली प्रेरणा

बोस के मुताबिक वर्ष 1986 का वो साल था, जब वो जूनियर स्तरीय स्कूली प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए बेंगलुरू गए थे. अब गए तो वो प्रतियोगिता में भाग लेने थे, लेकिन वहां उनकी नजर बागवानी के अनोखे तरीकों पर पड़ी. उन्होंने देखा कि प्रायः आमतौर पर बेकार समझी जाने वाले उत्पादों को बागवानी के लिए उपयोग किया जा रहा था.

री-यूज तकनीक से बागवानी

आज राजा बोस प्लास्टिक की बोतलों, खाली डब्बों, खराब कंटेनर आदि को बागवानी कार्यों के लिए उपयोग करते हैं. इस कार्य से जहां री-यूज मुहिम को बढ़ावा मिल रहा है, वहीं पर्यावरण भी सुरक्षित हो रहा है.

tree

पौधों की भरमार

राजा बोस का घर किसी बगीचे से कम नहीं है. आप बस नाम लीजिए और आपको उसका पौधा मिल जाएगा. उनके यहां आम, नारंगी, चीकूं, नींबू, चेरी, शरीफा, पपीता, मौसमी आदि सभी फल उपलब्ध है. बड़े पौधों को भी जापानी टेक्नोलॉजी से छोटा कर वो अपने घर में लगा लेते हैं. इतना ही नहीं औषधीय पौधें जैसे लेमन ग्रास, इन्सुलिन, जेटरोफा, तुलसी, पत्थरचूड़, सहाबहरा, अश्वगंधा भी उनके यहां पाया जाता है.

मिल चुके हैं कई आवार्ड

बागवानी के लिए राजा बोस को जिला एवं राज्य स्तर पर कई तरह के अवार्ड मिल चुके हैं. कृषि मेलों में उनके पौधे हमेशा की तरह आकर्षण के केंद्र होते हैं.

(आपको हमारी खबर कैसी लगी? इस बारे में अपनी राय कमेंट बॉक्स में जरूर दें. इसी तरह अगर आप पशुपालन, किसानी, सरकारी योजनाओं आदि के बारे में जानकारी चाहते हैं, तो वो भी बताएं. आपके हर संभव सवाल का जवाब कृषि जागरण देने की कोशिश करेगा)

ये खबर भी पढ़े: Monsoon 2020: मानसून के आगमन से सोयाबीन किसानों की जगी उम्मीद !

English Summary: raja bose of bihar well known for re use gardening technology know more about re use gardening and tips

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News