1. सफल किसान

पोर्टेबल बहुउद्देशीय मशीन किसानों का काम करेगी आसान, कीमत है बहुत सस्ती!

Dharambir Kamboj- First Portable Multipurpose Food Processing Machine

आपने सफलता की कहानियां तो बहुत पढ़ी और सुनी होगी, लेकिन आज जिसके बारे में हम बात करने वाले हैं, उन्होंने कृषि क्षेत्र में अपना लोहा मनवा लिया है. जी हां, हरियाणा के किसान धर्मबीर काम्बोज (Haryana farmer Dharambir Kamboj) के पास आइवी लीग संस्थानों से इंजीनियरिंग जैसी कोई डिग्री नहीं है. फिर भी वह एक ऐसे आविष्कारक हैं, जो हजारों लोगों के लिए ग्रामीण उद्यमिता और रोजगार (Rural Entrepreneurship and Employment) को सक्षम कर रहे हैं. तो आइये जानते हैं कृषि क्षेत्र में इनके बेहतरीन अविष्कार के बारे में.

संघर्ष से सफलता की ओर बढ़ते कदम (Steps from Struggle to Success)

58 वर्षीय कम्बोज अद्वितीय कार्यों को करने के लिए आवश्यक समय और प्रयास को कम करने के लिए विभिन्न मशीनों और उपकरणों के निर्माण के साथ काम कर रहे हैं. जड़ी-बूटियों, फलों, बीजों, सब्जियों को संसाधित करने के लिए पहली पोर्टेबल बहुउद्देशीय खाद्य प्रसंस्करण मशीन (First Portable Multipurpose Food Processing Machine) के लिए जाने जाने वाले कंबोज ने आविष्कार के साथ अपना पहला प्रयास 1975 में किया था, जब वह छठी कक्षा में थे.

”कम्बोज ने कहा कि "मैंने सबसे पहले एक धुंआ रहित चूल्हा बनाया था, मैं और मेरा दोस्त स्कूल बंक करते थे और अलग-अलग प्रयोग करते थे. मैंने कभी भी कुछ भी डिजाइन करने या निर्माण करने का कोई औपचारिक प्रशिक्षण नहीं लिया था. बचपन से ही मैं कुछ अनोखा बनाने के बारे में सोचता था. साथ ही इन्होंने इमरजेंसी लाइट, बोरवेल मशीन का डिज़ाइन, भूकंप घड़ी, लगभग 40 प्रयोगों को आजमाया हुआ है.

रिक्शा चालक से किसानी तक का सफर (Journey from Rickshaw Driver to Successful Farmer)

कंबोज को अपने परिवार का भरण-पोषण करने के लिए दिल्ली में लगभग दो साल तक रिक्शा चलाना पड़ा था. इससे पहले 1987 में एक सड़क दुर्घटना ने उन्हें हरियाणा में अपने गांव दामला में फिर से खेती करने के लिए मजबूर किया था. 2007 में अजमेर की यात्रा के दौरान किसानों के साथ अपनी बातचीत में, काम्बोज ने आंवला को संसाधित करने और गुलाब से गुलाब जल निकालने में चुनौती को महसूस किया था.

कम्बोज का आगे कहना है कि “मैंने एक ऐसी मशीन बनाने के बारे में सोचा जो कम समय और मेहनत दोनों कर सकती है. जबकि मैंने यह मशीन बनाई थी, लेकिन शुरुआत में गुणवत्ता ठीक नहीं थी. उस समय बाजार में ऐसी मशीनें नहीं थीं.

2012 में, नेशनल इनोवेशन फाउंडेशन (National Innovation Foundation) की मदद से, हमने मशीन की गुणवत्ता में सुधार के लिए एक नया डिज़ाइन और मॉडल पेश किया, आज मान लीजिए संतरे का रस निकालने के लिए मशीन एक घंटे में करीब 200 लीटर जूस निकालने में सक्षम है." मशीन के पहले प्रोटोटाइप के साथ आने में उन्हें आठ महीने से अधिक का समय लगा था.

पोर्टेबल बहुउद्देशीय खाद्य प्रसंस्करण मशीन की खासियत (Features of Portable Multipurpose Food Processing Machine)

जड़ी-बूटियों, फलों, बीजों, सब्जियों को संसाधित करने के अलावा यह मशीन अन्य कार्यों जैसे चूर्णन, मिश्रण, स्टीमिंग, प्रेशर-कुकिंग, और जूस, तेल या जेल निकालने के अलावा तापमान नियंत्रण और ऑटो कट-ऑफ सुविधा के साथ एक बड़े प्रेशर कुकर के रूप में भी कार्य करती है. नेशनल इनोवेशन फाउंडेशन द्वारा मशीन को पेटेंट और मान्य किया गया था. बता दें कि इस मशीन की कीमत 75,000 से 1,80,000 तक है.

2017 में काम्बोज ने अपनी कंपनी धरमबीर फूड प्रोसेसिंग प्राइवेट लिमिटेड (Dharambir Food Processing Pvt Ltd) को स्थापित किया था. जबकि इनके पास भारत और लगभग 15 देशों नाइजीरिया, केन्या, नैरोबी, युगांडा, तंजानिया, जिम्बाब्वे और अन्य में ग्राहक हैं और साथ ही लगभग 16 कंपनियां हैं जिन्होंने खरीदने के लिए काम्बोज से संपर्क किया है.

लेकिन इस पर कम्बोज का कहना है कि "मैं अपने तरीके से व्यवसाय करना चाहता था. सोना कोयो स्टीयरिंग सिस्टम्स (जिसे अब JTEKT इंडिया के नाम से जाना जाता है), पतंजलि और अन्य ने इन मशीनों को बनाने के लिए हमसे संपर्क किया था पर मुझे अपनी तरह से काम करने का शौक है."

अब तक 8 हज़ार लोगों को दिया रोजगार (So far 8 thousand people have been given employment)

कम्बोज आगे कहते हैं कि “पहले हमारे पास बहुत कम उत्पादन था, लेकिन इसके बाद हमारा टर्नओवर भी बढ़ा. वहीं पिछले साल हमने लगभग 1 करोड़ रुपये का कारोबार किया. सोशल मीडिया के माध्यम से, हम मशीन के संचालन और रोजगार पैदा करने के लिए कई लोगों को प्रशिक्षित करने में सक्षम थे".

कंपनी 5 वर्षों में अपनी खाद्य प्रसंस्करण मशीन को लगभग 100 देशों में निर्यात करने का इरादा रखती है. इस वित्तीय वर्ष में कारोबार को 2 करोड़ रुपये और वित्त वर्ष 27 तक लगभग 10 करोड़ रुपये तक बढ़ाने का लक्ष्य है. कंबोज अब तक करीब 900 मशीनें बेच चुके हैं. जिससे करीब 8,000 लोगों को रोजगार मिला है.

English Summary: Portable multipurpose machine will make the work of farmers easy, the price is very cheap!

Like this article?

Hey! I am रुक्मणी चौरसिया. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters