आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. सफल किसान

छोटे से कमरे में इसकी खेती करके कमाएं सालाना 60 लाख रुपये !

सिप्पू कुमार
सिप्पू कुमार
mushroom

जलवायु परिवर्तन की वजह से कृषि क्षेत्र में अमूलचूल परिवर्तन हुआ हैं. इसके वजह से खेती करने का तरीका भी बदला है. इन सभी के मद्देनजर देश के जो सफल किसान है उन्होने पारंपरिक तरीके से खेती करना छोड़ आधुनिक तरीके से खेती करना शुरू कर दिया हैं. नतीजतन उन्हें अच्छा मुनाफा हो रहा है. कुछ इसी तरह के परवीन भी सफल किसान है. परवीन ऐसे किसान है जो जो एक 10×10 के कमरे से 60 लाख रूपये सालाना आमदनी कर रहे हैं। दरअसल परवीन ने मशरूम की कीड़ा जड़ी (Cordyceps Sinensis) किस्म की खेती शुरू की थी और समय के साथ धीरे धीरे मशरूम की खेती के लिए बहुत मशहूर हो गए हैं.

परवीन यह काम वह गत एक साल से कर रहे हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि मशरूम की कीड़ा जड़ी किस्म विश्व की सबसे महंगी मशरूम की किस्मों में से एक है. मीडिया में आई खबरों के मुताबिक इस काम को लेकर प्रवीन का कहना है कि वह एक कमरे में मशरूम की कीड़ा जड़ी किस्म की खेती कर रहे हैं और भारी मुनाफा कमा रहे हैं. साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि कोई भी किसान चाहे तो सिर्फ एक छोटे से कमरे में मशरूम की इस किस्म की खेती सीमित संसाधन में शुरू कर सकता है. गौरतलब है परवीन ने एक लैब बना रखी है जिसमे वह मशरूम की अलग अलग क़िस्मों का उत्पादन कर रहे हैं.

mushroom fsrming

परवीन के मुताबिक, अगर कोई किसान इस लैब को कम से कम 10×10 के कमरे से शुरू करना चाहता है तो इसमें तकरीबन 7 से 8 लाख रूपये लग जाता है. परवीन के मुताबिक इस लैब को बनाने के बाद किसान 3 महीने में एक बार यानी कि एक वर्ष में चार बार मशरूम की फसल आसानी से ले सकते है. 3 महीने में आप 10×10 से लगभग 5 किलो फसल ले सकते है और इसकी बाजार में कीमत औसतन 1.5 से 2 लाख रूपये प्रति किलो है. ऐसे में किसान एक छोटे से कमरे में मशरूम की इस किस्म की खेती कर भारी मुनाफा कमा सकते हैं.

English Summary: Earn 60 lakh rupees annually by Mushroom farming it in a small room!

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News