MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ग्रामीण उद्योग

गांव में मुर्गी पालन व्यवसाय शुरू कर कमाए प्रति माह 20 हजार रुपये, सरकार से भी मिलेगी सब्सिडी

गांव में मुर्गी पालन के बिजनेस से आप हर महीने आराम से 15 से 20 हजार रुपये की कमाई कर सकते हैं. इस व्यापार को शुरू करने के लिए आप सरकार की मदद से नाबार्ड (Nabard) और ग्रामीण विकास बैंक से लोन की सुविधा भी प्राप्त कर सकते हैं. वहीं, मुर्गी पालन से जुड़ी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप ट्रेनिंग भी ले सकते हैं.

लोकेश निरवाल
Poultry Farming Business in Village (Photo source: Google)
Poultry Farming Business in Village (Photo source: Google)

गांव में मुर्गी पालन का बिजनेस आज के समय में काफी मुनाफे का व्यवसाय है. क्योंकि बाजार में अंडे और चिकन की मांग सर्दी के समय में अधिक बढ़ जाती है. ऐसे में अगर आप इस व्यापार को शुरू करते हैं, तो आप महीने में 15-20 हजार रुपये तक की कमाई कर सकते है. बता दें कि इसे आप अपने गांव में रहकर शहर के मुकाबले काफी अच्छे से शुरू कर सकते हैं. क्योंकि गांव में पोल्ट्री फार्म के बिजनेस में लागत बहुत कम और मुनाफा काफी अधिक मिलता है. अगर आपके पास कम जमीन है, तब भी आप इस बिजनेस को आसानी से शुरू कर सकते हैं. वहीं अगर आपके पास मुर्गी पालन का व्यवसाय शुरू करने के लिए पर्याप्त धन नहीं हैं, तो आप सरकारी योजना के माध्यम से भी पोल्ट्री फार्म खोल सकते हैं और ट्रेनिंग भी प्राप्त कर सकते हैं.

ध्यान रहे कि इस बिजनेस के लिए आपको कुछ महत्वपूर्ण बातों का पता होना चाहिए. ताकि आप इसे सरलता से शुरू कर सकते हैं. आइए इन सब बातों के बारे में जानते हैं-

मुर्गी पालन का बिजनेस क्या है?

मुर्गी पालन का व्यवसाय अंडे और मांस के लिए ज्यादातर किया जाता है. देखा जाए तो एक मुर्गी साल में कम से कम 150 से 250 तक अंडे देती है और वहीं, मुर्गियों के चूजे भी लगभग 5 से 6 महीने में अंडे देना शुरू कर देते हैं. इस तरह से आप अगर अपने पोल्ट्री फॉर्म में कुछ ही मुर्गियों का पालन करते हैं, तो आप साल भर में ही मोटी कमाई कर सकते हैं.

मुर्गी पालन का व्यवसाय ऐसे करें शुरू

अगर आपको मुर्गी पालन के बारे में कुछ भी नहीं पता है, कि इसे कैसे शुरू किया जाए और इसके खाने-पीने आदि की जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप सरकारी योजनाओं से जुड़कर कुछ दिनों की ट्रेनिंग प्राप्त कर सकते हैं, जिसमें आपको इस बिजनेस से जुड़ी हर एक चीज को बारीकी से समझाया जाएगा.

मुर्गी पालन का बिजनेस आपको ऐसे स्थान पर शुरू करना है, जहां पर भीड़भाड़ अधिक न हो. एक मुर्गी के पालन-पोषण के लिए 1 से 2.5 वर्ग फुट जमीन पर्याप्त होती है. इसी तरह से अगर आप 150 मुर्गियों का पालन करते हैं, तो इसके लिए आपको अपने गांव में लगभग 150 से 200 फीट की जमीन की जरूरत पड़ेगी. आप जिस भी स्थान का चयन कर रहे हैं, तो ध्यान रहे कि वह साफ-सुथरी हो और सुरक्षित होनी चाहिए. ताकि मुर्गियों में किसी भी तरह की बीमारी न लग सकें.

मुर्गियों की नस्लें

मुर्गी पालन बिजनेस को शुरू करने के लिए आपको अच्छी नस्ल की मुर्गियों का चयन करना होगा. ताकि आपको आगे चलते मुनाफा ही मुनाफा मिल सके. इस बिजनेस के लिए तीन तरह की मुर्गियों का पालन अधिक किया जाता हैं, लेयर, ब्रायलर और देसी मुर्गी.

मुर्गियों की यह तीनों ही नस्ल बाजार में अपने अच्छे मांस व अंडे के लिए जानी जाती है. लोगों के द्वारा सबसे अधिक अंडे देसी मुर्गियों के खरीदे जाती हैं. क्योंकि इसमें प्रोटीन की मात्रा अधिक पाई जाती है.

बाजार में चूजों की कीमत

मुर्गी पालन के लिए आपको चूजों को बाजार से खरीदने चाहिए. भारतीय बाजार में एक चूजे की कीमत 30 से 35 रुपये से शुरू होती है. ऐसे में अगर आप बिजनेस के लिए 100 चूजे खरीदते हैं, तो आपको लगभग 3,000 रुपये तक खर्च करने होंगे.

मुर्गी पालन के लिए सरकारी मदद

पोल्ट्री फॉर्म के लिए सरकारी की तरफ से लगभग एक लाख रुपये के लोन की सुविधा उपलब्ध करवाई जाती है, जिस पर जनरल कैटेगरी के लोगों को 25% तक सब्सिडी मिलती है. वहीं, अनुसूचित जनजाति लोगों को 35% तक सब्सिडी मिलती है.

मुर्गी पालन बिजनेस शुरू करने के लिए आप नाबार्ड (Nabard) और ग्रामीण विकास बैंक से लोन प्राप्त कर सकते हैं. इसके अलावा पोल्ट्री फॉर्म की ट्रेनिंग के लिए अपने नजदीकी सरकारी संस्थान या फिर नाबार्ड की अधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं.

मुर्गी पालन के लिए लागत व मुनाफा

मुर्गी पालन को अगर आप अपने गांव में छोटे स्तर पर भी शुरू करते हैं, तो इसके लिए आपको लगभग 50,000 रुपये से लेकर एक लाख रुपये तक खर्च करने होंगे. इसी के साथ आपकी आमदनी प्रति माह लगभग 15-20 हजार रुपये तक या फिर इसे भी हीं अधिक हो सकती है.

English Summary: start poultry farming business in village loan facility for poultry farming from Nabard and rural development bank Published on: 20 October 2023, 12:11 PM IST

Like this article?

Hey! I am लोकेश निरवाल . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News