आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. विविध

इस कारण से आपके बच्चों को नहीं पसंद करेला, कद्दू, टिंडा आदि सब्जियां

KJ Staff
KJ Staff

एक ही सब्जी का स्वाद लोगों के लिए अलग-अलग कैसे हो सकता है. क्या कारण है कि जो सब्जी दूसरों को स्वादिष्ट लगती है वो आपको खाने में तनीक भी अच्छी नहीं लगती. क्यों ऐसा होता है कि कुछ सब्जियों को बच्चें खाना तो दूर देखना भी पसंद नहीं करते. क्या आपने कभी सोचा है कि मष्तिष्क किस तरह हमारे भोजन के स्वाद को प्रभावित करता है. चलिये आज हम आपको बताते हैं कि कुछ सब्जियां हमे बिलकुल भी अच्छी क्यों नहीं लगती है.

जीन्स है मना करने का कारणः

जब भी घर में कोई सब्जियों को खाने से मना करता है तो हम सोचते हैं वो बहाना बना रहा है. बच्चों को तो अक्सर इस बात को लेकर डांट और मार दोनों पड़ती है. आम धारणा यही है कि लोगों की चटोर जीभ ही खाने के स्वाद को प्रभावित करती है. लेकिन अभी हाल ही में बीबीसी द्वारा एक शोध हुआ जिसके मुताबिक कुछ सब्‍जियों का टेस्‍ट ना पसंद आने का कारण हमारे जीन्‍स से होता है.

शोध में हुआ खुलासाः

केंटुकी यूनिवर्सिटी की शोध में ये खुलासा हुआ कि लोगों के शरीर में पायी जाने वाली जीन्स स्वाद को प्रभावित करती है. शोध में पाया गया कि मानव शरीर में अलग-अलग 25 स्‍वाद ग्राही होते हैं. जिन्हें दो वेरिएंट AVI और PAV में बांटा जा सकता है. 50 फीसदी लोगों के पास AVI और PAV दोनों वेरिएंट होता है. जिस कारण वो कड़वा और मीठा दोनों ही स्‍वाद महसूस कर सकते हैं. इसी तरह अन्‍य 25 फीसदी लोगों के पास AVI की दो कॉपियां होती हैं. इन्हें नॉन-टेस्‍टर्स भी कहा जाता है और ये कड़वे खाने के प्रति ज़रा भी संवेदनशील नहीं होते हैं. वहीं अन्य 25 फीसद को 'सुपर टेस्‍टर्स' की श्रेणी में रखा गया है. इनके पास PAV की दो कॉपियां होती हैं और ये कड़वे स्‍वाद को लेकर कुछ अधिक गंभीर रहते हैं

हालांकि रिसर्च ये भी कहती है कि उम्र के साथ जीन्‍स में बदलाव हो सकता है और खाना पकाने के तरीकों में बदलाव करके या सब्जियों को अन्य किसी तरीकों से बनाकर खाया जा सकता है.

English Summary: this is the reason why you not like some vegetables or foods

Like this article?

Hey! I am KJ Staff. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News