आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. विविध

भारत और पकिस्तान बंटवारे के ये 7 सच ज्यादातर भारतीयों को नहीं पता...

भारत पाकिस्तान बंटवारा – साल 1947 से पहले भारत और पाकिस्तान दोनों एक ही देश यानि भारत हुआ करते थे। लेकिन भारत पाकिस्तान बंटवारा हुआ और ये दो अलग देश बन गए है। आज स्थिति ऐसी है कि ये ना सिर्फ अलग-अलग देश है बल्कि राजनितिक तौर पर दोनों एक-दूसरे के कट्टर दुश्मन भी है।

आज हम भी आपके सामने जो भारत पाकिस्तान बंटवारा हुआ उनसे जुड़े कुछ ऐसे फैक्ट लेकर आये है जो आपने आज तक नहीं सुने होंगे।

तो आइये जानते है भारत पाकिस्तान बंटवारा और उनसे जुड़े फैक्ट्स –

भारत पाकिस्तान बंटवारा –  

1- पहले भारत पाकिस्तान बंटवारा 1948 में होना था, लेकिन ब्रिटिश सरकार में बदलाव होने के कारण इसमें फेरबदल किया गया और एक साल पहले ही यानि 1947 को ही ये दोनों अलग देश बन गए।

2-  भारत और पाकिस्तान के बंटवारे में सबसे अहम् था दोनों देशों की सीमा का निर्धारण करना और यह काम सायरिल रेडक्लिफ़ को दिया गया था। लेकिन आप जानकर दंग रह जायेंगे कि उनको भारत के बारे में ज्यादा जानकारी थी ही नहीं क्योंकि वे कुछ ही दिन पहले भारत आये थे और सिर्फ भौगोलिक जानकारी के आधार पर ही भारत का विभाजन हुआ, जाति और धर्म को आधार नहीं माना गया।

3-  भारत सरकार के अनुसार करीब 14 मिलियन लोगों को भारत से पाकिस्तान भेजा गया था यह इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा विस्थापन था।

4-  क्या आपने कभी सोचा है पाकिस्तान का स्वतंत्रता दिवस 14 अगस्त और भारत का 15 अगस्त क्यों है? दरअसल ऐसा इसलिए हुआ था क्योंकि लार्ड माउंटबेटन दोनों देशों की आज़ादी में उपस्थित रहना चाहते थे इसी वजह से ऐसा किया गया।

5-  जब भारत को आज़ादी मिली उस समय गांधीजी दिल्ली में नहीं थे, क्योंकि कलकत्ता में जातिगत दंगे भड़क गए थे इसलिए उन्हें वहां जाना पड़ा था।

6-  हम जानते है कि भारत को आज़ादी 15 अगस्त और पाकिस्तान को 14 अगस्त को मिली थी। लेकिन दोनों देशों की सीमा का निर्धारण 17 अगस्त को हुआ था।

7-  भारत की आज़ादी की तारीख 15 अगस्त को निर्धारित करने के लिए ज्योतिषियों की भी मदद ली गई थी।

ये है भारत पाकिस्तान बंटवारा और उनसे जुड़े वो तथ्य जिनको आज भी कई भारतीय नहीं जानते है।

English Summary: These seven truths of partitioning India and Pakistan do not know most Indians ...

Like this article?

Hey! I am . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News