जानिए, पतझड़ में पत्तियां अपना रंग क्यों बदल लेती हैं...

गर्मियों के दौरान, पत्तियां हरे रंग की होती हैं। हालांकि, जब सितंबर के आसपास चलते हैं, तो इनमें किसी तरह का जादू होता है और पत्तियां नारंगी, लाल और गहरे मरून जैसे सुंदर जंगलों में बदल जाती है। मगर ऐसा होता क्यों है?

गर्मियों के दौरान, CHLOROPHYLL, या रंगद्रव्य जिनके कारण पत्तियों का रंग हरे रंग का होता है वे सूर्य से काफी ज्यादा प्रकाश का अवशोषण करते हैं। और गर्मी के दिनों में हरा रंग ज्यादा प्रभावी होता है।

इसके बाद दिन छोटे हो जाते हैं और तापमान ठंडा होने लगता है, जो CHLOROPHYLL के उत्पादन को धीमा कर देते हैं। जिसके कारण इसके रंग में परिवर्तन होता है। ABSCISSION LAYER जिसे अलग करने वाली लेयर भी कहा जाता है। इस प्रक्रिया में भी योगदान देती है। इस क्षेत्र के कारण पत्तियों को पानी से अलग किया जाता है। जिसके कारण पत्तियां सूख कर नीचे गिरने लगती हैं।

तीन पिगमेंट या रंगद्रव्य पत्तियों के इस बदलते रंग का कारण होते हैं। CAROTENOIDS पीले और ओरेंज रंग को कंट्रोल करते हैं। ANTHOCYANINS बैंगनी और लाल रंग को कंट्रोल करते हैं। हालांकि, क्लोरोफिल की तरह, ये रंग अक्सर गायब हो जाते हैं और पत्तियों को भूरे रंग की हो जाती हैं।

यह बदलते रंग प्रदर्शन कुछ मौसम स्थितियों से भी प्रभावित है। वास्तव में, सूखा-ग्रस्त इलाकों में, अवशेष परत जल्दी प्रभावी हो सकती है जिससे रंग बदले बिना ये गिरने लगती है। शोधकर्ताओं ने बताया कि जिन पौधों की पत्तियां गिरती हैं वे असल में सर्दियों की तैयारी करते हैं इसके साथ ही वे अगले गर्मी के मौसम के लिए भी खुद को तैयार करता है।

Comments