MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ख़बरें

आखिर कर्ज लेकर की गई खेती को अपने हाथ क्यों बर्बाद कर रहे हैं किसान?

वैश्विक बीमारी कोरोना के चलते ही देश में लॉकडाउन लगा हुआ है. लॉकडाउन से किसानों की चिंता दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है. बता दें, अब सब्जियों की खेती करने वाले किसानों की अर्थव्यवस्था कमजोर पड़ गई है.

प्रभाकर मिश्र

वैश्विक बीमारी कोरोना के चलते ही देश में लॉकडाउन लगा हुआ है. लॉकडाउन से किसानों की चिंता दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है. बता दें, अब सब्जियों की खेती करने वाले किसानों की अर्थव्यवस्था कमजोर पड़ गई है. किसानों के घर-आंगन, खलिहान बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि के बाद बची हुए अनाजों से भरे हुए हैं. इनकी बिक्री लॉकडाउन के चलते समय पर नहीं हो पा रही है जिससे किसानों में नकदी की कमी बनी हुई है.

वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में मजदूरी और छोटे धंधे चलाकर गृहस्थी का खर्च चलाने वाले परिवार भी आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं. देश में परिवहन व्यवस्था बंद पड़ी है जिससे किसान सब्जयों की पैदावार (उपज) को दूसरे स्थान पर नहीं भेज पा रहे हैं या यूं कहें कि उनकी खपत नहीं हो पा रही है. अब खेतों में सब्जियां खराब हो रही हैं. कुछ किसान ऐसे हैं जो लोगों को सब्जियां दान कर रहें है और बची हुई सब्जी को जानवरों के हवाले कर रहें या तो फिर खेत में ही नष्ट कर दे रहे हैं.

राजस्थान के जयपुर जिले के सनखेड़ा गांव के सब्जी उगाने वाले किसान जगदीश बताते हैं कि उनकी अपनी कोई जमीन नहीं है. वे खेत बटाई पर लेकर खेती करते हैं. उन्होंने इस बार बैंक से 50 हजार रुपए का कर्ज लेकर खेत में टमाटर, पत्ता गोभी और फूल गोभी लगाई थी. इस बार उनकी सब्जियों की पैदावार पिछले साल की तुलना में अच्छी थी लेकिन देश में लगे लॉकडाउन के कारण खेत में ही सब्जियां सड़ गईं. उन्होंने एक एकड़  में टमाटर लगाए थे जो खेत में ही सड़ गए. साथ ही पत्तागोभी और  फूलगोभी भी खराब हो गई.उसी गांव के दूसरे किसान सोनू भदौरिया का कहना है कि उन्होंने लगभग एक एकड़ से अधिक जमीन पर में लौकी, बैंगन, हरी मिर्च, टमाटर लगाए थे, जब सब्जी बेचने की बारी आई तो लॉकडाउन शुरू हो गया. जिसके चलते ही सब्जियां बिक नहीं पाई और खेत में ही ख़राब हो गईं.

English Summary: why farmers themselves are wasting their crops Published on: 27 April 2020, 11:29 AM IST

Like this article?

Hey! I am प्रभाकर मिश्र. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News