1. ख़बरें

पौधा सूखा तो कट जाएगी छुट्टी, पुलिस की अनोखी पहल, जानें क्या है पूरी खबर

उत्तर प्रदेश की बिजनौर पुलिस के द्वारा पर्यावरण को हरा-भरा बनाने के लिए अनूठी पहल की शुरुआत की गई है जिसके तहत थाने में एक बगिया बनाई गई है. आइए डिटेल में जानते हैं ये मामला क्या है..

देवेश शर्मा
बिजनौर के थाने का बगीचा
बिजनौर के थाने का बगीचा

पर्यावरण को स्वच्छ और हरा- भरा बनाने के लिए आए दिन नए- नए प्रयास किए जा रहे हैं लेकिन उत्तर प्रदेश की बिजनौर पुलिस ने एक बड़ा ही अलहदा (अनोखी ) और लीक से हटकर कदम उठाया है. जिसके तहत थाने में एक बगिया लगाई गई है जिसमें प्रत्येक पुलिस वाले के नाम से एक पौधा लगाया गया है और उसकी देखभाल उसी पुलिसवाले को करनी पड़ती है.

इसके अलावा अगर कोई पुलिसकर्मी छुट्टी पर जाता है तो पहले उसके पौधे को देखा जाता है कि सूखा तो नहीं है उसके बाद उसे छुट्टी दी जाती है. बिजनौर पुलिस ने हरियाली को लेकर यह अभियान चालू किया है.

पौधा सूखने पर नहीं मिलती है छुट्टी

थाने में बनाई गई बगिया में लगे पौधों की देखभाल का जिम्मा पुलिस वालों के ऊपर है उन्हीं को पौधे की पूरी देखभाल करनी पड़ती है. इसके अलावा थाने में कोई नया ट्रांसफर होकर आता है तो उसके नाम से एक नया पौधा लगाया जाएगा. पौधों की देखभाल के लिए एक नियम बनाया गया है जिसके तहत अगर आपका पौधा सूखता है तो आपको मिलने वाली छुट्टी कट कर दी जाएगी. इन सभी बातों के अलावा थाने में जब कोई अधिकारी आता है तो उसके नाम का भी एक पौधा लगाया जाता है लेकिन इसकी देखभाल सिपाही और दरोगाओं की जिम्मेदारी है.

हर रविवार को चलाया जाता है सफाई अभियान

पौधे लगाने के अलावा थाना परिसर में सफाई का ध्यान रखने के लिए प्रत्येक रविवार सफाई अभियान चलाया जाता है. जिसमें सभी पुलिसकर्मियों का हिस्सा लेना अनिवार्य है. इस अभियान के तहत थाना परिसर और आवासीय कॉलोनी में सामूहिक रुप से सफाई की जाती है, जिसके चलते थाना परिसर की सुंदरता देखते ही बन रही है.

ये भी पढ़ें: 10वीं पास के लिए सरकारी नौकरी, वेतन 69,100 रुपए महीना

थाने के बगिया में लगाए गए हैं ये पौधे

बिजनौर थाने की बगिया में नीम, आंवला, आम समेत तमाम प्रजातियों के पौधे लगाये गये हैं. ज्यादातर फलदार पौधों पर ध्यान दिया गया है.  

English Summary: uttar pradesh bijnor police is running a unique campaign for plantation Published on: 25 September 2022, 03:13 IST

Like this article?

Hey! I am देवेश शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News