कल से लगेगा दुनियाभर के जैविक कृषि वैज्ञानिकों जमावड़ा...

केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधा मोहन सिंह ग्रेटर नोएडा में 9 से 11 नवम्बर तक होने वाले जैविक कृषि विश्व कुंभ-2017 का उद्घाटन करेंगे। यह आयोजन ग्रेटर नोयडा के इंडिया एक्सपो सेंटर में हो रहा है जिसमें विश्व के 110 देशों के 1400 प्रतिनिधि और 2000 भारतीय प्रतिनिधि शामिल होंगे। 

गौरतलब है कि कृषि विश्व कुंभ का आयोजन तीन साल में एक बार दुनिया के किसी देश में होता है। इस बार यह भारत में हो रहा है। पिछला जैविक कृषि विश्व कुंभ 2014 में इस्तांबुल में हुआ था। आयोजन को इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ ऑर्गेनिक फार्मिंग मूवमेंट्स (आईफोम) और ओएफआई मिलकर कर रहा है। इस आयोजन में भारत के 15 राज्यों से 55 बीज समूहों द्वार 4000 प्रकार के बीजों की प्रदर्शनी का आयोजन करेंगे। इस वर्ष कुंभ का लक्ष्य जैविक भारत से जैविक विश्व की ओर बढ़ना है।  

केन्द्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह का मानना है कि यह जानने-समझने की जरूरत है कि भारत परंपरागत रूप से दुनिया का सबसे बड़ा जैविक कृषि करने वाला देश है । यहां तक कि आज के वर्तमान भारत के बहुत बड़े भू-भाग में परंपरागत ज्ञान के आधार पर जैविक खेती की जाती है ।  

आर्गेनिक वर्ल्ड कांग्रेस का एक मुख्याकर्षण पीढ़ियों से संरक्षित स्वदेशी बीजों के किस्मों की प्रदर्शनी है। उद्घाटन समारोह में भूटान के कृषि मंत्री येशी दोरजी, केन्द्रीय वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभू, सिक्किम के मुख्य मंत्री पवन कुमार चामलिंग, केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री कृष्णा राज, हरियाणा के कृषि मंत्री ओम प्रकाश धनकड़, उड़ीसा के कृषि मंत्री दामोदर राउत, केरल के कृषि मंत्री वीएस सुनील के अलावा दुनिया भर के जैविक कृषि से जुड़े किसान, वैज्ञानिक और व्यापारी भाग लेंगे।

 

Comments