MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ख़बरें

APEDA के साथ जुड़कर विकसित की कंपनी, फिर 350 किसानों को जोड़ा और अब खाड़ी देशों में बेचते हैं फसल

किसानों को फसल का अच्छा मुनाफा मिल सके, इसके लिए सरकार कई तरह की योजनाएं चला रही है. किसानों के हित के लिए सरकार हर संभव प्रयास करती है. मगर किसानों को फसल बेचने (Sell The Crop) की सबसे ज्यादा समस्या रहती है.

स्वाति राव
त्रिसागर फार्म एक्सपोर्ट  से किसानों को हो रहा लाभ
त्रिसागर फार्म एक्सपोर्ट से किसानों को हो रहा लाभ

किसानों को फसल का अच्छा मुनाफा मिल सके, इसके लिए सरकार कई तरह की योजनाएं चला रही है. किसानों के हित के लिए सरकार हर संभव प्रयास करती है. मगर किसानों को फसल बेचने (Sell The Crop) की सबसे ज्यादा समस्या रहती है. ऐसे में एपीडा (APEDA ) के अंतर्गत देश की कई बड़ी कम्पनियां जुड़कर किसानों से उनकी फसल की खरीद करती हैं. इसी बीच पूर्वांचल क्षेत्र में एपीडा ने एक नयी कंपनी विकसित की है, जो किसानों को लाभ पहुँचा रही है.

त्रिसागर फार्म एक्सपोर्ट कंपनी (Thrisagar Farm Export Company)

बता दें कि सरकारी एजेंसी एपीडा के साथ मिलकर एक फार्म एक्सपोर्ट कंपनी विकसित हुई है, जो त्रिसागर फार्म एक्सपोर्ट के नाम से जानी जाती है. यह किसानों के लिए काफी सहायक साबित हो रही है. यह त्रिसागर फार्म एक्सपोर्ट कंपनी जिसने पिछले 1 साल में 350 किसानों को अपने साथ जोड़ा है. मिर्च आलू समेत कई उत्पाद (Many Products Including Chili Potatoes) ये कंपनी किसानों से इकट्ठा करती हैं और उनको एक्सपोर्ट करती हैं. इसका सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि किसानों को एक्सपोर्ट मार्केट के मुताबिक उनकी फसल का रेट मिलता है, जो कि पूर्वांचल जैसे इलाके में किसानों की जिंदगी सुधारने का एक बहुत बड़ा जरिया है.

इसी बीच पूर्वांचल के शाश्वत पांडेय एपीडा की इस कंपनी के साथ जुड़कर अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं. उन्होंने बताया कि  यह फर्म त्रिसागर कृषि उत्पाद कंपनी गोपीगंज भदोही पिछले 1 साल से पूर्वांचल के इलाके में अपना काम कर रही है, जिसने 350 से ज्यादा किसानों को अपने साथ जोड़ा है. किसानों से इकट्ठा किए गए इस कंपनी के उत्पाद खाड़ी के देशों में एक्सपोर्ट किए जाते हैं. अब तक तकरीबन ढाई लाख मैट्रिक टन सब्जियां खाड़ी देशों में भेज दिया है.

इसे पढ़ें - बागवानी उत्पादों पर केंद्रित दूसरा वर्चुअल व्यापार मेला शुरू, कृषि खाद्य पदार्थों के निर्यात को मिलेगा बढ़ावा

बाज़ार से अधिक कीमत पर फसल खरीद (Purchase of crops at a Higher Price than the Market)

शश्वत पाण्डेय का कहना है कि किसानों से फसल की खरीद बाज़ार  के मूल्य से 1  रूपए अधिक की कीमत से खरीदा जाता है. किसानों को अपनी फसल को बेचने के लिए कहीं आने जाने की जरुरत नही है. अब तक वाराणसी से करीब 20000 मेट्रिक टन उत्पाद कृषि का खाड़ी और अलग-अलग देशों में एक्सपोर्ट शुरू हो चुका है.  इससे किसानों को बहुत फायदा हो रहा है.

एपीडा प्रदान करता है समाधान (APEDA Provides Solution)

एपीडा भारत सरकार द्वारा 2018 में घोषित कृषि निर्यात नीति (एईपी) के तहत कृषि के विकास और उसके निर्यात में बढ़ोतरी के लिए पहचान किए गए क्षेत्रों पर जरूरी कदम उठाकार उनके लिए समाधान प्रदान करता है.

English Summary: thrisagar farm export company is providing more benefits to the farmers Published on: 27 January 2022, 12:41 PM IST

Like this article?

Hey! I am स्वाति राव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News