1. ख़बरें

करते हैं 'पॉपुलर' की खेती, तो पढ़ लीजिए ये पूरी ख़बर, नहीं तो बहुत पछताना पड़ेगा

सचिन कुमार
सचिन कुमार

उत्तर प्रदेश के जिला बिजनौर में किसानों के बीच अभी पॉपुलर का पेड़ बहुत पॉपुलर हो रहा है. किसानों का रूझान इस ओर बहुत तेजी से बढ़ रहा है. अभी अन्नदाताओं को इसमें भारी  मुनाफा नजर आ रहा है. हालांकि, आमतौर पर जिले के किसान गन्ने की खेती करते हैं, लेकिन जिस तरह का फायदा पॉपुलर की खेती में किसानों को नजर आ रहा है, उसे देखते हुए अन्नदाता तेजी से इस ओर रूख कर रहे हैं.


बहुत काम की चीज है पॉपुलर

लंबा और एकदम सीधा सा दिखने वाला पॉपुलर बड़े ही काम की चीज है। इस पेड़ को बहुत से कामों में इस्तेमाल में लाया जाता है। मसलन, बल्ला, कैरम बोर्ड सहित अनेकों चीजों को बनाने में इसका इस्तेमाल किया जाता है. इसके अतरिक्त पॉपुलर की खेती में गन्ना समेत हल्दी, गेहू, अदरक जैसी फसलों का भी उत्पादन किया जाता हैं. जिले के किसानों के लिए पॉपुलर का पोधा शुरू से ही प्रमुख रहा है, जिसके चलते  यहां के किसान इससे किनारा नहीं कर पाते हैं। 

अभी तो जबरदस्त मांग है

ख़बरों की मानें तो मौजूदा समय में पॉपुलर की लकड़ी का बाजार में अच्छी खासी मांग है, जिसको ध्यान में रखते हुए सरकार का पूरा ध्यान महज पॉपुलर की खेती करने पर है. इस संदर्भ में विस्तृत जानकारी देते हुए विमको कंपनी के मैनेजर डिजी सिंह कहते हैं कि आमतौर पर कंपनी की मांग को मद्देनजर रखते हुए हम महज 10 एकड़ भूमि में ही पोधों की उगाने का ऑर्डर दिया करते थे, लेकिन इस बार इसकी जबरदस्त मांग को मद्देनजर रखते हुए कंपनी ने 20 एकड़ भूमि पर पॉपुलर का पोधा उगाने का ऑर्डर दिया है, जिसके चलते अभी जिले के किसानों का पूरा ध्यान पॉपुलर की खेती करने पर है.   

जानें पॉपुलर के पेड़ का भाव

वहीं, अगर पॉपुलर के पेड़ के कीमत की बात करें, तो लॉकडाउन से पहले पॉपुलर के पेड़ का भाव 700 रूपए प्रति क्विंटल था, लेकिन लॉकडाउन के बाद इसका दाम 400 रूपए पर आ गया, लेकिन अभी हाल ही में इसकी मांग को मद्देनजर रखते हुए इसमे 800 रूपए का इजाफा दर्ज किया गया है, जिसे ध्यान में रखते हुए जिले के किसानों का पूरा ध्यान पॉपुलर की खेती करने में है, ताकि वो इससे ज्यादा से ज्यादा मुनाफा अर्जित कर सकें.

English Summary: There is BIg profit in popular cultivation

Like this article?

Hey! I am सचिन कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News