खाद्य प्रसंस्करण उद्योग से मिलेगा तीन साल में 10 लाख लोगों को रोजगार...

नई दिल्ली।  खाद्य प्रसंस्करण उद्योग को आकर्षक निवेश के काबिल बनाने और किसानों की आमदनी को दोगुना करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपने को पूरा करने में सरकार जुट गई है। खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री हरसिमरत कौर बादल वर्ल्ड फूड इंडिया-2017 के आयोजन लेकर बहुत उत्साहित हैं। राजधानी के इंडिया गेट पर तीन नवंबर से आयोजित होने वाले तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय खाद्य प्रसंस्करण मेला के बारे में जानकारी देते हुए बादल ने बताया कि अगले तीन सालों में 10 लाख रोजगार सृजित किये जाएंगे।

अंतरराष्ट्रीय खाद्य मेले का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। बादल ने बुधवार को यहां आयोजित संवाददाता सम्मेलन में बताया कि इस मेगा फूड के आयोजन में 60 से अधिक देशों और पूवरेत्तर के राज्यों समेत कुल 27 राज्यों के पांच हजार से अधिक उद्यमी व विभिन्न कंपनियों के प्रमुख हिस्सा लेंगे। आयोजन में सरकार व उद्यमियों के बीच 15 से अधिक देशों के मंत्रिस्तरीय प्रतिनिधिमंडल हिस्सा लेंगे। इस मेगा फूड मेला में जर्मनी, डेनमार्क और जापान इसमें भागीदार देश हैं। इटली और नीदरलैंड फोकस देश के तौर पर भाग ले रहे हैं। खाद्य प्रसंस्करण मंत्री बादल ने कहा कि ब्रिटेन, अमेरिका, संयुक्त अरब अमीरात, डेनमार्क सहित विभिन्न देशों की ओर से 65 हजार करोड़ रुपये से अधिक के निवेश की हामी भरी जा चुकी है। इससे देश में 10 लाख रोजगार के अवसर पैदा होंगे। मेगा फूल मेला में निवेश का यह आंकड़ा और बढ़ सकता है। इतने बड़े आयोजन से खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र के साथ भारतीय खाद्य अर्थ व्यवस्था में बदलाव आना तय है। किसानों की आय दोगुनी करने के लिए विदेशी धन का सहारा लेना होगा। खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में सरकार आधुनिक तकनीक और बेहतर कार्य प्रणाली लाना चाहती है।

खाद्य प्रसंस्करण उद्योग क्षेत्र में निवेश को आकर्षित करने के लिए सरकार ने ‘एक देश एक खाद्य कानून’ का नारा दिया है, जिसकी घोषणा की जाएगी। खाद्यान्न को सुरक्षित करने के लिए ‘किसी थाली में खाना न छूटे’ का भी नारा केंद्रीय मंत्री बादल ने दिया। इंडिया गेट के नजदीक 40 हजार वर्ग फुट क्षेत्र में आयोजित हो रहा यह आयोजन वैश्विक कारोबारियों को एक मंच उपलब्ध करायेगा। भारतीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग की पूरी श्रृंखला में कारोबार के अवसर तलाशे जा सकेंगे। यह आयोजन दुनिया भर के खाद्य श्रंखला से जुड़े तमाम उद्यमियों, कारोबारियों और उत्पादकों को एक मंच पर लायेगा। मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली के साथ मुख्य कार्यकारी अधिकारियों का विशेष सत्र होगा। वैश्विक खाद्य मेला के समापन समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद हिस्सा लेंगे।

Comments