News

सुमिन्तर इंडिया ने किया किसान मेले का आयोजन

सुमिन्तर इंडिया आर्गेनिक्स द्वारा महाराष्ट्र में चलाए जा रहे जैविक खेती जागरूकता अभियान की श्रृंखला में अकोला जनपद की तहसील आकोट ग्राम देवरी में लघु किसान मेला एवं प्रदर्शनी का आयोजन किया गया. इसका शुभारम्भ कंपनी के प्रबंधक राजीव पाटिल किया. उन्होंने कंपनी की कार्यप्रणाली के विषय में बताया. मंच का संचालन महेश उन्हाले ने किया. कंपनी के वरिष्ठ प्रबंधक शोध एवं विकास संजय श्रीवास्तव ने जैविक खेती की तकनिकी जानकारी दी . जिसके तहत जैविक खेती के आधारभूत, सिधांत, आवश्यकता, महत्व् एवं जैविक खेती के प्रमाणीकरण की प्रक्रिया के विषय में जानकारी दी.

जैविक खेती के विषय में किसानों द्वारा पूछे गए सवालों का संतोषजनक उत्तर दिए गए.साथ ही साथ किसानों की जैविक खेती के सम्बन्ध में  भ्रांतियों को भी दूर किया गया. मेले के दौरान जैविक खेती में इस्तेमाल किए जाने वाले स्वनिर्मित खाद कीटनाशक आदि बनाने की विधि का भी प्रदर्शन किया गया. जिसमें वेस्ट डी-कंपोजर से खाद बनाना, घनजीवामृत बनाना, मटका खाद, दशपर्णी आदि बनाने के विषय में संपूर्ण जानकारी दी गई. विष रहित कीट नियंत्रण हेतु फेरोमैन ट्रैप और स्टिकी ट्रैप के इस्तेमाल के विषय में बताया कि कब और कैसे प्रयोग करे .

बीजोपचार की महत्ता एवं विधि का वर्णन तथा विभिन्न सूक्षम जीवाणु जो बीजोपचार के लिए उपयोगी है. जैसे ट्राईकोडर्मा, राईजोबियम, पी.एस.बी. और पोटाश कल्चर के विषय में बताया. इस कार्यकर्म में महिलाओं ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया. जैविक विधि से उगाए गए अनाज के भण्डारण की जानकारी दी. जैविक खेती अपनाने वाले प्रगतिशील किसान संतोष तराड, मनोहर डोके, देविदास गावंडे और रमेश  वारकरी को सम्मानित किया गया. किसान अपने खेत पर बनाए जाने वाले जैविक इनपुट के प्रदर्शन को देखकर प्रभावित हुए. इस मेलें में कृषि जागरण पत्रिका का भी वितरण किसानों को किया गया.

कार्यक्रम के आयोजन स्थल का प्रबंधन कंपनी के कर्मचारी राहुल चौखंडे और निवेश वकोड़े द्वारा किया गया . कार्यक्रम के समापन में राजीव पाटिल ने आए हुए सभी किसानों को धन्यवाद् दिया. इस मेलें में प्राप्त जानकारी की किसानों ने सराहना की और इसके पुनः आयोजन की आग्रह किया .

संवाददाता : इमरान इद्रिशी, पत्रकार कृषि जागरण.

 

 

 

 



English Summary: Suminter india Organics

कृषि पत्रकारिता के लिए अपना समर्थन दिखाएं..!!

प्रिय पाठक, हमसे जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। कृषि पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे पाठक हमारे लिए एक प्रेरणा हैं। हमें कृषि पत्रकारिता को और सशक्त बनाने और ग्रामीण भारत के हर कोने में किसानों और लोगों तक पहुंचने के लिए आपके समर्थन या सहयोग की आवश्यकता है। हमारे भविष्य के लिए आपका हर सहयोग मूल्यवान है।

आप हमें सहयोग जरूर करें (Contribute Now)

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in