1. ख़बरें

PM- KISAN Scheme : किसान मानधन योजना की राशि अभीतक सात करोड़ किसानों के खाते में पहुंची

pradhan mantri kisan mandhan yojana

केंद्र सरकार ने हाल ही में संसद को बताया कि प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना (kisan mandhan yojana) के तहत अभी तक 7 करोड़ किसानों को मानधन की राशि का भुगतान किया जा चुका है. इसके अलावा एमएसपी (Minimum Support Price)  पर पिछले पांच वर्ष में 91.49 लाख टन फसल की खरीदी हुई है, जबकि 2009-2014 के दौरान केवल 9 लाख टन की खरीदी हुई थी.

दरअसल कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला ने लोकसभा में प्रश्नकाल में विभिन्न प्रश्नों के उत्तर में यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि सरकार ने किसानों की आय में बढ़ोतरी हेतु लागत पर 50 प्रतिशत मुनाफा लगाकर एमएसपी देने का नीतिगत निर्णय लिया था. इससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के दौरान किसानों को लाभ हुआ है. उन्होंने यह भी कहा कि वर्ष 2009 से 2014 के बीच एमएसपी पर करीब नौ लाख टन की खरीदी हुई थी, जबकि 2014 से अब तक 91.49 लाख टन की खरीदी हुई है.

pm modi launch pension scheme

राशि सीधे खाते में ट्रांसफर

तेलंगाना राष्ट्र समिति के जी रंजीत रेड्डी के एक प्रश्न के उत्तर में रूपाला ने कहा कि केंद्र सरकार ने पहली बार देश के किसानों को नकद मानधन देने की योजना शुरू की है, जिसके अंतर्गत हर किसान का प्रतिवर्ष 6000 रुपए तीन किश्तों में उनके खातों में सीधे हस्तांतरित किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि अब तक सात करोड़ किसानों को मानधन की राशि हस्तांतरित की गई है.

isan-mandhan-yojana

डीजल और बिजली पर सब्सिडी

आवारा पशुओं के कारण फसल के नुकसान की भरपाई करने एवं बिजली एवं डीजल पर सब्सिडी देने की कोई योजना बनाए जाने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि राज्य सरकारों की ओर से यदि इस बारे में कोई योजना बनाई जाती है तो केंद्र सरकार उसमें सहायता देने के बारे में सोचेगी, पर डीजल एवं बिजली पर सब्सिडी देने का कोई विचार नहीं है.

English Summary: PM-KISAN Scheme: The amount of Kisan Maandhan Scheme has reached the account of seven crore farmers so far

Like this article?

Hey! I am विवेक कुमार राय. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News