1. ख़बरें

PM-Kisan : 4.91 करोड़ किसानों के लिए सरकार का हितैषी कदम, मिलेंगे इतने रुपए

कोरोना वायरस की इस जंग से निपटने के लिए केंद्र और राज्य सरकार मिलकर प्रयास कर रही हैं. लॉकडाउन में सरकारें विभिन्न योजनाओं के माध्यम से गरीब और निचले तबके के लोगों को राहत देने की कोशिश में लगी हैं. हाल में ही केंद्र सरकार के द्वारा गरीब और निचले तबके के मदद के लिए 1.7 लाख करोड़ रुपए के राहत पैकेज ऐलान किया था. इस राहत पैकज में उज्ज्वला, पीएम किसान, और डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (DBT) स्कीम कई योजनाए शामिल हैं. बता दें, जब से देश में लॉकडाउन लगा है, सरकार पीएम किसान योजना के अंतर्गत 9,826 करोड़ रुपए के आवंटन से 4.91 करोड़ किसान परिवारों को लाभ पहुंचा चुकी हैं.

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कल यानी 5 मार्च को इस बारे में ट्वीट कर जानकारी दी. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, “देश में कोरोना संकट के चलते प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत लॉकडाउन अवधि के दौरान लभगग 4.91 करोड़ किसान परिवार लाभान्वित हुए हैं और 9,826 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं.” इस ट्वीट में उन्होंने ये भी जानकारी दी कि  ये उक्त आकड़े लॉक डाउन लगने बाद (24 मार्च 2020) से 3 अप्रैल तक के ही हैं. इसी ट्वीट के साथ मंत्री जी ने एक फोटो भी शेयर की जिसमे इस सबकी की जानकारी दी गई है.

बता दें,  अभी कुछ दिन पहले ही कृषि मंत्री ने देश के 80 लाख किसानों के बैंक खातों में 2,000 रुपए भेजने की जानकारी दी थी. उन्होंने बताया कि गरीबों और किसानों को ज्यादा असर न पड़े इसके लिए सरकार ने बड़े पैमाने पर सहायता राशि पैकज की घोषणा की है. उन्होंने बताया कि डायरेक्ट बेनिफट ट्रांसफर (DBT) के माध्यम से 1600 करोड़ की रकम एक ही दिन में ट्रांसफर की गई थी. जब पीएम किसान निधि स्कीम लांच की गई थी तो उस समय सरकार का लक्ष्य देश के 14.50 करोड़ किसानों लाभवांबित करना था लेकिन अभी तक इस योजना से लगभग 9 करोड़ किसान जुड़ चुके हैं.

English Summary: PM-kisaan: Government's friendly move for 4.91 crore farmers, will get so much money

Like this article?

Hey! I am प्रभाकर मिश्र. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News