गाँधी मैदान में जमेगा किसान मेला, उन्नत किस्म बीज समेत खेती की जानकारी लेने पहुँचे पंतनगर

किसान भाइयों पंतनगर विश्वविद्यालय में 24 फरवरी से 27 फरवरी 2018 तक आयोजित होने वाले प्रसिद्ध किसान मेले में विभिन्न कार्यक्रम व प्रतियोगिताएं होंगी। पुराने स्थल, गांधी पार्क, में लगाये जाने वाले इस चार-दिवसीय मेले में चारों दिन विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। इस मेले में किसान भाई पहुँचकर खेती की उन्नत तकनीकी एवं उन्नत बीज प्राप्त करें।

 निदेशक प्रसार शिक्षा, डॉ. वाई.पी.एस. डबास ने बताया कि मेले के प्रमुख आकर्षणों में 24-25 फरवरी 2018 को फल-फूल, शाक-भाजी एवं परिरक्षित पदार्थों की प्रदर्शनी व प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी। 25 फरवरी को ही अपरान्ह् 2:00 बजे शैक्षणिक डेयरी फार्म, नगला, पर संकर बछियों की नीलामी तथा 26 फरवरी 2018 को पूर्वान्ह् 10:00 बजे से पशु उत्पाद एवं प्रबंध विभाग के परिसर में पशु प्रदर्शनी एवं प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी।

कृषकों हेतु मेले के प्रथम तीन दिन अपरान्ह् 2:30 से 3:30 बजे तक विषेष व्याख्यान माला का गांधी हाल में आयोजन किया जायेगा, जिसमें वैज्ञानिकों द्वारा विभिन्न विषयों पर व्याख्यान दिया जायेगा। तीनों दिन अपरान्ह् 3:30 से 6:00 बजे तक गांधी हाल में ही किसान गोष्ठी का आयोजन किया जायेगा, जिसमें किसान अपनी समस्याओं से सम्बन्धित प्रश्नों का त्वरित समाधान सीधे वैज्ञानिकों से पा सकेंगे। कृषकों के मनोरंजन हेतु प्रथम तीन दिन गाँधी हाल में सायं 7:00 से 8:30 बजे तक सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जायेगा। मेले के अंतिम दिन, यानिकि 27 फरवरी 2018 को, समापन एवं पुरस्कार वितरण समारोह का गांधी हाल में अपराह्न 3:00 बजे से आयोजन किया जायेगा, जिसमें मेले में हुई विभिन्न प्रतियोगिताओं में विजित प्रतिभागियों एवं मेले में लगे स्टालों को अपने प्रदर्शनी हेतु मुख्य अतिथि द्वारा पुरस्कृत किया जाएगा।

डा. डबास ने बताया कि किसान मेले में उत्तराखण्ड, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखण्ड, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और जम्मू एवं कश्मीर के साथ ही नेपाल से भारी संख्या में आने वाले कृषकों के लिए रात्रि विश्राम की व्यवस्था भी की जा रही है। किसानों को पंतनगर रेलवे स्टेशन से मेला स्थल तक लाने व वापिस ले जाने के लिए तथा विश्वविद्यालय के विभिन्न शोध केन्द्रों पर भ्रमण हेतु परिसर के अन्दर निःशुल्क वाहन की व्यवस्था भी की गई है। किसान, कृषि एवं सम्बन्धित विभागों के अधिकारी एवं कर्मचारी, कृषि से सम्बन्धित स्वयं सेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि, कृषि विज्ञान के विद्यार्थी, कृषि उद्यमी एवं अन्य आगन्तुक कृषि की नवीनतम तकनीकों की जानकारी, कृषि से सम्बन्धित अपनी समस्याओं के समाधान, फसलों की उन्नत किस्मों के बीजों एवं अन्य कृषि निवेशों की जानकारी प्राप्त कर तथा विभिन्न कृषि निवेषों के क्रय हेतु मेले में भागीदारी करते हैं।

Comments