News

अब हवा की नमी से भी बनेगा पानी पढ़िए मशीन के बारे में

हवा में मौजूद नमी से पानी बनाने वाली देश की पहली मशीन का गुरुवार को मध्य प्रदेश के जिले हरदुआ मानगढ़ गांव में सांसद प्रहलाद पटेल ने शुभारम्भ  किया. करीब पंद्रह लाख रूपये की लागत की ये मशीन इसराइल से आई है, जिसका देश के अलग अलग हिस्सों मे प्रयोग किया जा रहा है. इस मशीन की कुछ ख़ास बातें है जो कि इस प्रकार से हैं

खास बातें

24 घंटे में बनाएगी एक से ढेड़ हजार लीटर पानी

15 लाख रुपए लागत की है मशीन

50 पैसे प्रतिलीटर पानी बनाने का अधिकतम खर्च.

मशीन बनाने वाली कंपनी के प्रतिनिधि का कहना है कि यह मशीन हमारे वातावरण में होने वाली नमी को ठंडा करके उसे पानी में बदल देती है, जिससे बनने वाला पानी आरओ पानी की गुणवत्ता का होता है, इस मशीन में 24 घंटे में एक हजार लीटर से डेढ हजार लीटर तक पानी बनता है. पिछले दो से तीन माह से इस मशीन की गांव में टेस्टिंग की जा रही है. गांव के लोग इसके पानी का इस्तेमाल भी कर रहे हैं, साथ ही मशीन में बनने वाली पानी को स्टोर भी किया जा रहा है. स्थापित की गई इस मशीन को पीएचई विभाग ने ग्राम पंचायत के सुपुर्द किया है. इस मशीन की देखरेख की जिम्मा पंचायत का होगा. पंचायत के पास मशीन विक्रय करने वाले अधिकारियों व तकनीशियन के संपर्क नंबर होगे, किसी भी तरह की समस्या होने पर उनसे सीधा संपर्क रहेगा. सांसद प्रह्लाद पटेल ने बताया कि इस मशीन में मेन्युअली कुछ नहीं करना है, इसलिए इसमें ज्यादा देखरेख की जरूरत नहीं है.

 

 यह भी पढ़े: ट्रैक्टर टायर पंक्चर की समस्या से किसानों को मिलेगा छुटकारा

उन्होंने बताया कि बिजली कंपनी के अधिकारियों ने भी इस मशीन को शुरू कराने में सहयोग किया. मशीन तक बिछाई जा रही लाइन के करीब एक दर्जन पोल तूफान में उखड़ गए थे, जिन्हें तेज गति से दोबारा लगाया गया. ये मशीन बिजली से चलेगी, इसलिए नियमित सप्लाई के लिए अलग से लाइन बिछाई गई है, ताकि मशीन बंद न रहे. इस मौके पर जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटेल, पंचायत सरपंच दुर्जन सिंह, पीएचई एसडीओ एमके उमरिया उपस्थित रहे.

 

फुरकान कुरैशी 

जर्नलिस्ट (सोशल मीडिया)

कृषि जागरण



English Summary: Now the water will be made from moisture Read about the machine

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in