News

जानिए मोदी मंत्रिमंडल 2.0 में किसको क्या मिला ?

केंद्र में नई सरकार और उनके मंत्रिमंडल की शपथग्रहण समारोह पूरा होते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंत्रिमंडल के सभी विभागों और मंत्रालयों का बंटवारा कर दिया है. मोदी कैबिनेट में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को गृह मंत्री बनाया गया है.पूर्व रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण को वित्त मंत्रालय सौंपा गया है.तो वहीं, मोदी कैबिनेट में राजनाथ सिंह रक्षा मंत्रालय संभालेंगे.वहीं, पूर्व विदेश सचिव एस जयशंकर विदेश मंत्री बनाए गए हैं.नितिन गडकरी को सड़क परिवहन, राजमार्ग और सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम का प्रभार दिया गया है.तो वही, स्मृति ईरानी को इस बार कपड़ा मंत्रालय के साथ महिला और बाल विकास मंत्रालय का प्रभार सौपा गया है.मोदी कैबिनेट में नरेंद्र सिंह तोमर को कृषि मंत्रालय संभालेंगे, तो वहीं, गिरिराज सिंह पशुपालन, डेयरी और मत्स्यपालन मंत्री बनाए गए हैं.डॉ0 संजीव बालियान को मत्स्य एवं पशुपालन विभाग में राज्यमंत्री बनाया गया है.

नरेंद्र सिंह तोमर : कृषि मंत्रालय

नरेंद्र सिंह तोमर को मोदी सरकार 2.0 में कृषि मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली है.मध्यप्रदेश के मुरैना से सांसद नरेंद्र सिंह तोमर को कृषि मंत्रालय के साथ ग्रामीण विकास और पंचायती राज की जिम्मेदारी भी सौपी गई है.इससे पहले नरेंद्र सिंह तोमर पंचायती और खनन मंत्रालय संभालते थे लेकिन मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में पांच साल के दौरान तोमर का कार्य देखकर मोदी कैबिनेट में कृषि मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली है.कृषि मंत्रालय संभालते ही तोमर के पास देश की कृषि के हालात को सुधारना प्रमुख मुद्दा होगा और किसानों की आय को 2022 तक दोगुनी करने का लक्ष्य पूरा करना उनके लिए बेहद ही अहम होगा.क्योंकि केंद्र की मोदी सरकार ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने का लक्ष्य रखा है.गौरतलब है कि पीएम मोदी के पिछले कार्यकाल के दौरान नरेंद्र सिंह तोमर का मंत्रियों की सूची में 15वां क्रम था, जो कि इस बार टॉप 10 में सातवां हो गया है.

संतोष गंगवार :  श्रम एवं रोजगार मंत्रालय

संतोष गंगवार को मोदी सरकार 2.0 में श्रम एवं रोजगार मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली है.2017 में गंगवार को श्रम एवं रोजगार मंत्री बनाया गया था.2014 में संतोष गंगवार को मोदी सरकार में वित्त राज्य मंत्री का प्रभार दिया गया था.इसके बाद मंत्री परिषद में जब फेरबदल हुआ था तब उन्हें कपड़ा राज्य मंत्री का पद सौंपा गया था.इससे पहले पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के समय में एनडीए सरकार में भी गंगवार मंत्री थे और तब उन्हें पेट्रोलियम राज्यमंत्री का ज़िम्मा मिला था.इसके अलावा, वाजपेयी के नेतृत्व वाली सरकार में ही उन्हें संसदीय कार्य राज्य मंत्री का भी पदभार मिल चुका है.

श्रीपद येसो नाईक : आयुष एवं रक्षा

श्रीपाद येसो नाइक ने लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार में आयुष मंत्रालय का कामकाज संभाला है.गोवा से सांसद नाइक नरेंद्र मोदी की नयी सरकार में रक्षा राज्यमंत्री भी हैं.नाईक को 2014 में शुरू में पर्यटन राज्य मंत्री बनाया गया था.बाद में आयुष मंत्रालय के गठन के बाद उन्हें इसका प्रभार दिया गया.वह वाजपेयी सरकार में भी काम कर चुके हैं.

आरके सिंह : ऊर्जा और कौशल विकास मंत्रालय

राज कुमार सिंह को मोदी सरकार 2.0 में ऊर्जा और कौशल विकास मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली है.राज कुमार सिंह पिछली सरकार में भी बिजली और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री रहे हैं.सभी घरों तक बिजली पहुंचाने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वाकांक्षी योजना को जमीन पर उतारने में आरके सिंह का अहम योगदान रहा है.

सदानंद गौड़ा : रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय

सदानंद गौड़ा को मोदी सरकार 2.0 में रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली है.सदानंद गौड़ा कर्नाटक से भाजपा नेताओं में कद्दावर नेता माने जाते हैं.देवरागुंडा वेंकप्पा सदानंद गौड़ा कर्नाटक की राजनीति में एक सक्रिय राजनेता और कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं.वह 4 अगस्त 2011 को बी एस येदियुरप्पा के इस्तीफे के बाद कर्नाटक के 26वें मुख्यमंत्री बने थे.वह मोदी के पहले कैबिनेट में भारत सरकार में सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्री थे.2006 में गौड़ा को कर्नाटक भाजपा का अध्यक्ष बनाया गया.2008 में जब पहली बार दक्षिण के किसी राज्य में भाजपा को जीत मिली तो इसका सेहरा गौड़ा के सिर ही बांधा गया था.

राम विलास पासवान : उपभोक्ता मामलात

राम विलास पासवान को लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार में उपभोक्ता मामलात मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली है.राष्ट्रपति भवन परिसर में गुरुवार यानि 30 मई को राम विलास पासवान ने 17वीं लोकसभा के तहत बनी मोदी सरकार में बतौर कैबिनेट मंत्री शपथ ली.पासवान पिछले 32 वर्षों में 11 चुनाव लड़ चुके हैं और उनमें से 9 जीत चुके हैं.गौरतलब है कि इस बार उन्होंने चुनाव नहीं लड़ा लेकिन फिर भी उन्हें कैबिनेट में शामिल किया गया है.

पुरुषोत्तम रुपाला: कृषि मंत्रालय में राज्य मंत्री


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल में पुरुषोत्तम रुपाला को कृषि मंत्रालय में राज्य मंत्री बनाया गया है, हालांकि राज्यसभा सांसद पुरुषोत्तम रुपाला पिछली मोदी सरकार में भी कृषि और पंचायती राज मंत्रालय में राज्य मंत्री थे.गुजरात सरकार में कैबिनेट मंत्री रह चुके रुपाला को 2008 में राज्य सभा के लिए चुना गया.उसके बाद 2016 में दोबारा वो राज्य सभा भेजे गए.तो वहीं राजस्थान के बाड़मेर जिले से सांसद कैलाश चौधरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार में कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय में राज्य मंत्री बनाया गया है.

हरसिमरत कौर बादल : खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय

हरसिमरत कौर बादल ने लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार में खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय का कामकाज संभाला है.पंजाब के बठिंडा से सांसद हरसिमरत कौर बादल को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में भी खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय मिला है.तो वही रामेश्वर तेली खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय में राज्य मंत्री बनाये गए हैं.

गिरिराज सिंह : केंद्रीय पशुपालन, डेयरी और मत्स्यपालन विभाग  

बिहार की बेगूसराय सीट से सांसद बने गिरिराज सिंह को पशुपालन, डेयरी और मत्स्यपालन का केंद्रीय मंत्री बनाया गया है.पिछली नरेंद्र मोदी की नेतृत्व वाली सरकार में उनके पास MSME (सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम) मंत्रालय था.तब वह बिहार के नवादा से सांसद चुने गए थे लेकिन इस बार गिरिराज सिंह बिहार के बेगुसराय से सांसद चुने गए हैं.बता दे कि गिरिराज सिंह लगातार दूसरी बार लोकसभा के लिए चुने गए हैं.

संजीव बालियान : मत्स्य एवं पशुपालन (राज्य मंत्री)

डॉ० संजीव बालियान को मोदी सरकार 2.0 में पशुपालन, डेयरी व मत्स्य पालन विभाग की जिम्मेदारी मिली है.

उनके कैबिनेट मंत्री बिहार के गिरीराज सिंह हैं.संजीव बालियान हिसार कृषि यूनिवर्सिटी से एमएससी और पीएचडी हैं.डॉ. संजीव बालियान के विभाग में डेयरी, पशुपालन, पोल्ट्री फार्म, मत्स्य पालन आदि हैं.2014 में उन्हें राजग सरकार में कृषि और खाद्य प्रसंस्करण राज्य मंत्री बनाया गया था.उसके बाद जुलाई 2016 में राज्यमंत्री जल संसाधन, नदी विकास और गंगा कायाकल्प बनाया गया.सितंबर 2017 में उनको मंत्री पद से हटा दिया गया था.

प्रकाश जावड़ेकर : पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन, सूचना और प्रसारण

मोदी सरकार 2.0 में प्रकाश जावड़ेकर को सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली है.इसके अलावा उन्हें पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन की जिम्मेदारी भी दी गई है.पिछली मोदी सरकार में प्रकाश जावड़ेकर को मानव संसाधन विकास मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली थी.गौरतलब है कि पिछली सरकार में प्रकाश जावड़ेकर को स्मृति इरानी के बाद मानव संसाधन विकास मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई थी.मोदी सरकार में 2016 में मानव संसाधन विकास मंत्रालय की जिम्मेदारी मिलने से पहले 2014 से उन्होंने बतौर राज्य मंत्री विभिन्न विभागों के लिए काम किया था.



English Summary: modi Modi cabinet Know which BJP leader got the ministry?

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in