News

मध्य प्रदेश ने जीती कड़कनाथ मुर्गे के लिए जीआई टैग की बाजी

स्वादिष्ट मीट के लिए मशहूर मुर्गे की प्रजाति कड़कनाथ रोज चर्चा में बना हुआ है। अब कड़कनाथ के जीआई टैग के लिए पंजीयन कार्यालय में जंग छिड़ गई। इससे पहले मध्य प्रदेश सरकार ने कड़कनाथ मुर्गे का मीट घर बैठे उपलब्ध कराने के लिए ऐप तक लाँच कर डाला तो वहीं अब जीआई टैग के लिए दो राज्य सरकारें आमने सामने थीं। छत्तीसगढ़ व मध्य प्रदेश में जंग छिड़ी हुई थी जीआई टैग की जब मध्य प्रदेश सरकार दावा कर रही थी कि यह मुर्गा राज्य के झाबुआ जिले में पाला जाता है तो छत्तीसगढ़ सरकार का मानना था कि राज्य के दंतेवाड़ा में इस मुर्गे का पालन एक अलग तरह से किया जाता है तथा पूरी तरीके से यह नस्ल वहाँ प्राकृतिक रूप से सुरक्षित है।

फिलहाल नतीजा यह निकला कि चेन्नई में भौगोलिक संकेत पंजीयन कार्यालय ने मध्य प्रदेश को जीआई टैग दे दिया है जिससे छत्तीसगढ़ को अब कड़कनाथ मुर्गे के लिए जीआई टैग नहीं मिल सकेगा। आप को बता दें कि पहले कड़कनाथ मुर्गे अपने स्वादिष्ट एवं पौष्टिक मीट के लिए प्रसिद्ध है। मध्य प्रदेश के अलावा अन्य राज्यों में भी अब लोग इसके पालन के लिए प्रयास कर रहें हैं।



English Summary: Madhya Pradesh wins GI tag for kadkanath rooster

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in