आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. ख़बरें

कुशल ट्रैक्टर से खेती को बनाएं सफल, ताकत के साथ जबरदस्त माइलेज

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

आधुनिक खेती का प्रचलन देशभर में हो चला है. आज के युग में बैलों से खेती करने का चलन बहुत कम हो गया है. कृषि के क्षेत्र में नये-नये कृषि यंत्र आ गए हैं. बाजार में कई तरह के यंत्र उपलब्ध हैं, जिनसे किसान आसानी से खेती कर सकता है. इसी कड़ी में एक कंपनी ने किसानों के हित में काम करना शुरु किया. इस कंपनी का नाम केएन बायोसाइंसेज इंडिया प्रा.लिमिटेड है. जिसने भारतीय किसानों के लिए गुणवत्ता और सस्ती उत्पाद प्रदान करने का मिशन शुरू किया.

इस कंपनी की स्थापना सुधा रेड्डी द्वारा साल 1997 में की गई. यह कंपनी डीएसआईआर द्वारा मान्यता प्राप्त संस्थान है. इस संस्थान का उद्देश्य जैव उर्वरकों, जैव कीटनाशकों, कृषि यंत्र, खाद्य सुरक्षा के लिए योगदान देना है, ताकि किसान आधुनिक तकनीक से कृषि कर सकें, साथ ही वह गुणवत्ता, गैर रासायनिक उत्पादों का उपयोग कर पाएं. 22 सालों में इस कंपनी ने खुद को देश की एकमात्र ऐसी कंपनी के रूप में स्थापित किया है, जो देश भर में लगभग 11 लाख किसानों के साथ सीधे तौर पर काम करती है. पिछले कुछ सालों में कंपनी ने विदेशी बाजारों में भी निर्यात करना शुरू कर दिया है. 

आपको बता दें कि किसानों की समस्यों का समाधान करने के लिए केएन बायोसाइंसेज इंडिया प्रा.लिमिटेड ने केएन फार्म इक्विपमेंट प्रा. लि. की शुरूवात की. यह सफल खेती के लिए ट्रैक्टरों और उपकरणों की एक विस्तृत श्रृंखला बनाती है. किसान प्रदर्शनी पुणे में कम्पनी ने कुशल टैक्टर लांच किया. कई किसान कुशल ट्रैक्टर से अपनी खेती को सफल बना चुके है. यह खेती को लाभदायक बनाने में सहायता प्रदान करता है. कुशल ट्रैक्टर को कई मॉडल में तैयार किया जाता है. जिनकी क्षमता भी अलग-अलग होती है. अगर कुशल ट्रैक्टर के मॉडल 3456 (45HP) को देखा जाए, तो इस ट्रैक्टर के इंजन की क्षमता 3120CC है. इस इंजन की निर्धारित गति 2200 RPM है. अगर कूलिंग सिस्टम की बात करें, तो यह फोर्स्ड वाटर कूलिंग है. इसके अलावा ट्रैक्टर 3699 (40HP) के इंजन की क्षमता 2430CC है. इस तहर कई मॉडलों में इसको बनाया जाता है. किसान भाई अपने अनुसार इनका चयन कर सकते है.

English Summary: KN Farm Equipment Pvt. Ltd: khushhal tractor gives mileage with power

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News