News

कोटा कृषि विश्वविद्यालय में कृषि शिक्षा के लिए संयुक्त प्रवेश परीक्षा इस दिन होगी

राजस्थान के बांसवाड़ा में स्थित कोटा कृषि विश्वविद्यालय में सभी विद्यार्थियों के लिए संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेट) इसी महीने की 12 तारीख को संपन्न करवाई जाएगी। इसमें सभी पात्र अभ्यर्थी को 12वीं कक्षा में विज्ञान संकाय ( गणित, जीव विज्ञान, कृषि विज्ञान) से पूरी तरह से जुड़ा होना चाहिए। परीक्षा में तीनों विषय का चयन करना बेहद ही जरूरी है। इसमें मुख्य रूप से कृषि विज्ञान ( उद्यान, पशुपालन, विज्ञान, जीव, रसायन, गणित, भौतिक) आदि सभी तरह के विषय होंगे। इस संयुक्त प्रवेश परीक्षा में कुल 40 प्रश्न होंगे। कई बार मुख्य अभ्यर्थी मुख्य परीक्षा में कई बार गलतियां कर देते है। इस कारण ये बहुत ही जरूरी है कि उनको संयुक्त प्रवेश परीक्षा से पहले परीक्षा संबंधी हर तरह की जानकारी पहले से ही दे दी जाए।

क्या गलती करते है अभ्यर्थी

संयुक्त प्रवेश परीक्षा के दौरान अभ्यर्थी मुख्य रूप से कई गलती कर देते है. जैसे कि सही उत्तर पर चिन्ह नहीं लगाना, प्रश्न को अच्छे से नहीं पढ़ना, जल्दबाजी में उत्तर देना, विषय के कोड गलत भर देना, उत्तर भरने में गलती कर देना इसीलिए इस तरह की गलतियों से अभ्यर्थी को बचना चाहिए। इसके लिए परीक्षा से पहले मॉक टेस्ट हल करना चाहिए और पुराने प्रश्न को भली-भांति अच्छे से समझ लेना चाहिए। सभी समान्य रूप से कृषि विषयों से जुड़ें सवालों में कृषि से संबंधित योजना, राष्ट्रीय अनुसंधान संस्थान, मौसम विज्ञान, कृषि क्रांतियां, कृषि यंत्र, डेयरी रसायन, मृदा विज्ञान और तकनीकी प्रश्नों पर भी तेजी से ध्यान देना चाहिए।

क्यों होती है परीक्षा

संयुक्त प्रवेश परीक्षा मुख्य रूप से 12वीं कक्षा के संकाय के अभ्यर्थियों के कृषि विश्वविद्यालय व अन्य कृषि महाविद्यालयों के लिए प्रवेश के लिए होती है। जब किसी का भी इस विश्व विद्यालय में चयन हो जाता है तो चयन के बाद 4 वर्षीय कृषि सम्मानित बीएससी एग्रीकल्चर ऑनर्स, डी टेक, कृषि अभियांत्रिकी, मत्स्य विज्ञान, फूड विज्ञान से संबंधित डिग्री भी आसानी से मिल जाती है।

 ऐसे करें परीक्षार्थी की तैयारी

जेट प्रवेश परीक्षा में विद्यार्थियों को तीन तरह के विषय का चयन मुख्य रूप से करना होगा। प्रत्येक विषय में कुल 40 प्रश्न होंगे। अतः अभ्यर्थियों को कुल 120 प्रश्न करने होंगे।  यह प्रत्येक प्रश्न 4 अंक का ही होगा। इस पेपर को हल करने के लिए कुल दो घंटे का समय दिया जाएगा। प्रत्येक गलत उत्तर पर 1 4 ऋणात्मक अंक काट लिया जाएगा।इस प्रश्न पत्र में शस्य विज्ञान, जंतु विज्ञान आदि से जुड़ें सवाल पूछे जायेंगे। रसायन विज्ञान में कृषि रसायन विज्ञान,डेयरी रसायन परमाणु,  आवर्त सारणी आदि से संबंधी प्रश्नों को पूछा जाएगा। इस विषय से जुड़ें हुए कुल 10 सवालों को पूछा जाएगा इनमें दूध, दही, घी, खोआ, छैना, जीवाणु, विषाणु रहित रोग, औषधियां, गाय, भैंस, मांस, मछली आदि से जुड़ें कई तरह के सवाल पूछे जाएंगे।

ऐसे करें पेपर हल

परीक्षार्थी पेपर की तैयारी करने से पूर्व पाठ्यक्रम का संपूर्ण अध्ययन करें और पाठ्यक्रम को अलग-अलग भागों में विभाजित करके उचित समय का प्रबंधन करें। परीक्षार्थी पूर्व में आयोजित हो चुकी परीक्षाओं के प्रश्न पत्र व अन्य प्रश्न पत्रों को दो से तीन बार दोहरा लें। जिससे पेपर हल करने की गति और बुद्धिमता का परीक्षण हो जाएगा। पेपर को हल करते समय उत्तर अनुमान के आधार पर नहीं दें। विगत कई वर्षों में देखा गया है कि अभ्यर्थी के ऋणात्मक स्कोर बढ़ा है, इसीलिए बहुत सारे अभ्यर्थी अधिक ऋणात्मक अंकन के कारण परीक्षा परिणाम से बाहर हो जाते है।



Share your comments