1. ख़बरें

रबी फसलों की बुवाई से पहले किसानों को लगा झटका, इफको ने बढ़ाई एनपीके खाद की कीमत

स्वाति राव
स्वाति राव
IFFCO

किसान फसल की अच्छी उपज के लिए कई तरह की खाद का इस्तेमाल करते हैं, जिसमें एनपीके खाद भी शामिल है. यह खाद फसलों के लिए काफी अच्छी मानी जाती है, क्योंकि यह फसलों को पूरा पोषण देने का कार्य करती है

बताया जाता है कि इस खाद में नाईट्रोजन, फास्फोरस और पोटेशियम का मिश्रण होता है,  जिससे फसल को जरुरी पोषण मिलते हैं. जैसा कि किसान अब रबी फसलों की बुवाई करने वाले हैं, लेकिन इस बीच उन्हें एक बड़ झटका लगा है.

दरअसल, राज्य विपणन प्रबंधक इफको (IFFCO) ने एनपीके खाद (NPK fertilizers) की कीमतों में बढ़ोत्तरी कर दी है. इसके चलते किसानों को काफी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है

खाद की बोरी के दामों में बढ़ोत्तरी (Increase in the prices of fertilizer bags)

आपको बता दें कि इफको ने खाद की बोरी के दामों में 100 की बढ़ोत्तरी कर दी है. किसानों को 50 किलोग्राम की खाद की बोरी 1050 रुपए की दर से प्राप्त होती थी, जो अब 1150 रुपए की दर से मिलेगी.  

किसानों के लिए परेशानी (Trouble for Farmers)

किसानों के लिए उर्वरक एंव खादों (Fertilizers And Manures) के बढ़ते दाम परेशानी का विषय बन गया है. आमतौर पर किसान अपने परिवार का पालन-पोषण खेती के बल पर ही करते हैं. यानि किसानों की आमदनी का मुख्य जरिया खेती ही है,  इसलिए खाद के दाम भी उनके लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं. ऐसे में एनपीके खाद के दामों की बढ़ोत्तरी ने किसानों के सामने समस्या खड़ी कर दी है.    

एनपीके से फसलों को मिलते हैं संतुलित तत्व (Crops Get Balanced Elements From NPK)

जानकारी के लिए बता दें कि एनपीके में नाईट्रोजन, फास्फोरस और पोटेशियम कैमिकल्स पाए जाते है, जो फसलों को संतुलित तत्त्व प्रदान करते हैं. यह पोषक तत्त्व फसलों को सही मायने में उनका आहार देते हैं. इसके उपयोग से फसल की पैदावार अच्छी मिलती है.

English Summary: iffco increased the price of npk fertilizer, know how much is the price

Like this article?

Hey! I am स्वाति राव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

Top Stories

More Stories

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters