1. ख़बरें

Cyclone Amphan: तहस-नहस हो गए आम के बागान, किसानों के निकले आंसू

एक तरफ जहां पूरे देश के किसान लॉकडाउन के कारण भारी घाटा सह रहे हैं, वहीं पश्चिम बंगाल एवं ओडिशा में किसानों की हालात और खराब हो गयी हैं. यहां चक्रवात तूफान अम्फान ने किसानों की कमर तोड़कर रख दी है. लिहाजा पहले से ही घाटा सह रहे किसानों के लिए अब हालात और भी दयनीय हो गए हैं.लॉकडाउन के बाद पहले से भारी नुकसान झेल रहे किसानों पर चक्रवाती तूफान अम्फान ने ऐसी आफत बरसाई है, जिसकी भरपाई में कई साल लग जाएंगें. विशेषकर आम के किसानों को भारी नुकसान हुआ है. लगभग 130 किलोमीटर प्रति घंटे से भी अधिक तेजी से चलने वाली हवाओं ने खेत-खलिहानों को तहस-नहस कर दिया है.

इन क्षेत्रों में हुआ अधिक नुकसान

जानकारी के मुकाबिक पश्चिम बंगाल के सुंदरबन, हिंगलगंज एवं हुगली आदि जगहों पर किसानों को भारी नुकसान हुआ है, वहीं ओडिशा में भद्रक एवं उसके आस-पास के क्षेत्रों में फसल-पूरी तरह से बर्बाद हो गए हैं. बंगाल के मुख्य आम क्षेत्र मुर्शिदाबाद और मालदा आदि भी इससे प्रभावित हुए हैं. जिस कारण आने वाले दिनों में आम के दाम महंगें हो सकते हैं.

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और बिहार, गुजरात की तरह ही आम पश्चिम बंगाल राज्य का सबसे महत्वपूर्ण फल है. राज्य अधिकांश जिलों में में इसकी खेती की जाती है. ऐसे में अम्फान से हुए भारी नुकसान के बाद किसानों ने अब सरकार से मदद की गुहार लगाई है. सोशल मीडिया के सहारे किसान अपनी बात सरकार तक रखने की कोशिश कर रहे हैं. सरकार से सहायता राशि की मांग करते हुए किसानों ने कहा कि अम्फान से हुए नुकसान की भरपाई हो रही है, लेकिन किसानों के लिए अभी तक किसी तरह की मदद की खबर नहीं आयी है.  

(आपको हमारी खबर कैसी लगी? इस बारे में अपनी राय कमेंट बॉक्स में जरूर दें. इसी तरह अगर आप पशुपालन, किसानी, सरकारी योजनाओं आदि के बारे में जानकारी चाहते हैं, तो वो भी बताएं. आपके हर संभव सवाल का जवाब कृषि जागरण देने की कोशिश करेगा)

ये खबर भी पढ़े: Sunrise Food Company को 2 हजार करोड़ रुपये में खरीदेगी आईटीसी लिमिटेड

English Summary: heavy loss of mango farming in West Bengal due to Cyclone Amphan know more about it

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News