News

Modi Government: किसानों को 2 हजार और वरिष्ठ नागरिकों, विधवाओं और दिव्यांगों को भेजे जाएंगे 1 हजार रुपए

लॉकडाउन के दौरान जनता को कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, लेकिन जनता को घबराने की कोई जरूरत नहीं है. इस स्थिति में सरकार जनता के साथ खड़ी है. सरकार का पूरा प्रयास है कि देश से कोरोना महामारी को जल्द से जल्द भगाया जाए. इसके लिए देशभर में लॉकडाउन किया गया है. इसकी चुनौतियों से भी निपटने के लिए सरकार तामम प्रयास कर रही है. ऐसे में देश के अन्नदाता, गरीब, वरिष्ठ नागरिक, विधवा, दिव्यांग को किसी परेशानी से न गुजरना पड़े, इसके लिए वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने हर वर्ग के लिए कुछ घोषणाएं की हैं.

हर वर्ग के लिए घोषणाएं

लॉकडाउन की स्थिति में प्रभावित किसान, गरीब, वरिष्ठ नागरिक, विधावा और दिहाड़ी मजदूरों समेत गांवों में रहने वालों के लिए 1.7 लाख करोड़ रुपए का राहत कोष रखा गया है. वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि अप्रैल के पहले सप्ताह में पीएम-किसान योजना के तहत लाभार्थियों को पहली किस्त मिल जाएगी. उनके खाते में से 2 हजार रुपए की पहली किस्त पहुंच जाएगी. बता दें कि इसके लिए वित्‍त मंत्री ने करीब 8.69 करोड़ रुपए रखे हैं.

50 लाख का बीमा कवर

वित्‍त मंत्री ने 50 लाख का बीमा कवर उन लोगों को देने की घोषणा की है, जो कोरोना वायरस के इलाज में मुख्य भूमिका निभा रहे हैं. इनमें डॉक्‍टर, पैरामेडिकल स्‍टाफ, सफाई कर्मचारी आदि शामिल हैं.

अन्य लोगों के लए घोषणा

ग्रामीण क्षेत्र में मनरेगा के तहत काम करने वाले लोगों को 200 रुपए दिए जाएंगे, जो पहले 182 रुपए हुआ करते थे. इसके साथ ही गरीब वरिष्‍ठ नागरिकों, विधवाओं और दिव्‍यांगों को 3 महीने तक एक्‍स्‍ट्रा 1 हजार रुपए डायरेक्‍ट बेनिफिट ट्रांसफर के जरिए भेजा जाएगा. 



English Summary: government provided relief for people of every category

कृषि पत्रकारिता के लिए अपना समर्थन दिखाएं..!!

प्रिय पाठक, हमसे जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। कृषि पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे पाठक हमारे लिए एक प्रेरणा हैं। हमें कृषि पत्रकारिता को और सशक्त बनाने और ग्रामीण भारत के हर कोने में किसानों और लोगों तक पहुंचने के लिए आपके समर्थन या सहयोग की आवश्यकता है। हमारे भविष्य के लिए आपका हर सहयोग मूल्यवान है।

आप हमें सहयोग जरूर करें (Contribute Now)

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in