News

गेहूं बिक्री के लिए पंजीकरण का ये आसान तरीका अपनाएं

रबी फसलों की सरकारी खरीद शुरू हो चुकी है. लॉकडाउन की वजह से कई किसान अपनी उपज बेच नहीं पा रहे हैं. किसानों को गेहूं बेचने के ऑनलाइन पंजीकरण में काफी दिक्कतें आ रही हैं. इस कड़ी में उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के किसानों को भी कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

दरअसल, जिले में किसानों को खाद्य विभाग के ब्लॉकवार 19 क्रय केंद्रों पर ही ऑनलाइन पंजीकरण की सुविधा है, लेकिन इस वक्त किसान इन जगहों पर पहुंचकर पंजीकरण नहीं करा सकते हैं. ऐसे में खाद्य विभाग द्वारा फैसला लिया गया है कि गेहूं की खरीद उन्हीं किसानों से की जाएगी, जिन किसानों ने खाद्य विभाग के पोर्टल fcs.up.gov.in पर पंजीकरण करा रखा है. बता दें कि किसान धान की खरीद के पंजीकरण को गेहूं की खरीद के लिए अपडेट कर सकते हैं.  

किसानों को करना होगा नया पंजीकरण

आपको बता दें कि जिन किसानों ने पिछले सीजन में गेहूं खरीद में पंजीकरण कराया था, उन किसानों का डाटा पोर्टल से हटा दिया है. ऐसे में किसानों को नया पंजीकरण कराना पड़ेगा. इसके अलावा जिले में लगभग 15 हजार किसानों को अपना पंजीकरण अपडेट करना होगा, ताकि वह गेहूं आसानी से बेच सके. बता दें कि अब तक लगभग 4 हजार किसानों ने पोर्टल पर पंजीकरण कराया है.

किसान मोबाइल या लैपटॉप से कर सकते हैं पंजीकरण

कोरोना और लॉकडाउन की वजह से जिले में कई कॉमन सर्विस सेंटर और साइबर कैफे बंद हैं. ऐसे में किसान पंजीकरण नहीं करा पा रहे हैं, लेकिन  किसान परेशान न हो. बता दें कि किसान अपने स्मार्ट फोन या लैपटॉप से ऑनलाइन पंजीकरण कर सकता है.

ऐसे करें किसान पंजीकरण

अगर किसी किसान को गेहूं बेचने के लिए पंजीकरण करना है, तो वह खाद्य विभाग के पोर्टल fcs.up.gov.in पर जाकर पंजीकरण करा सकता है. इसके लिए किसान को जोतबही, खसरा, भूमि-फसल का रकबा, आधार कार्ड, बैंक पासबुक, पासपोर्ट साइज फोटो और मोबाइल नंबर की जरूरत पड़ेगी. इन सभी की जानकारी पंजीकरण करते समय भरनी पड़ती है. ध्यान दें कि पंजीकरण के वक्त अंक या स्पेलिंग लिखने में कोई गलती न हो.

ये खबर भी पढ़ें: मूंग की ये नई किस्म होगी 55 दिन में पककर तैयार, मिलेगी उच्च गुणवत्ता वाली उपज



English Summary: Gorakhpur farmers register to sell wheat

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in