News

उत्तर प्रदेश के इस जिले में केला, अमरूद और आम की खेती पर किसानों को मिल रहा अनुदान

उत्तर प्रदेश भारत का सबसे बड़ा राज्य है. यहां किसानों की संख्या भी काफी अधिक है और यहां हर प्रकार की खेती भी की जाती है. वहीं राज्य में फलों की खेती भी बड़े स्तर पर की जाती है. इसको और बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा समय-समय पर कई योजनाएं भी निकाली जाती है जिससे किसानों को लाभ मिल सके. बिजनौर जिले के किसानों के लिए इसी प्रकार की एक योजना निकाली गई है. जिले में केला, अमरूद और आम की खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है. यहां केला, अमरूद और आम की खेती करने वाले किसानों को अनुदान दिया जा रहा है. किसानों को यह अनुदान लंबे वक्त तक के लिए दिया जाएगा. इसमें केले की खेती के लिए दो साल और आम व अमरूद की खेती के लिए तीन साल तक सरकार द्वारा अनुदान दिया जाएगा.

जिले में केले के लिए 125 हेक्टेयर, आम के लिए 20 हेक्टेयर और अमरूद की खेती के लिए 30 हेक्टेयर का लक्ष्य रखा गया है. वहीं प्रति हेक्टेयर के अनुसार पहले साल में मिलने वाली अनुदान राशि की बात करें तो केले पर 30738 रुपए, आम पर 7650 रुपए, और अमरूद पर 11502 रुपए की राशि दी जाएगी. वहीं दूसरे साल में केले पर 10240 रुपए, आम के रख-रखाव लिए दूसरे और तीसरे साल 2550-2550 रुपए, अमरूद की खेती में दूसरे और तीसरे साल में 3834 और 3834 रुपए का अनुदान दिया जाएगा ताकि किसान इन सभी का रख-रखाव अच्छे से कर सकें.

ये खबर भी पढ़े: एक पौधे में फलेगा 19 किलो टमाटर, 150 दिनों में तैयार होगी फसल

जिले में किसानों द्वारा गेहूं, गन्ना और धान की खेती मुख्य तौर पर की जाती है. गन्ने के साथ इन फसलों को भी जिले में बढ़ावा देने के लिए तीन साल तक अनुदान दिया जा रहा है. इसके लाभ के लिए किसान ऑनलाइन आवेदन कर रहे हैं. एक हेक्टेयर में लगने वाले पौध की अगर बात करें तो केले के 3100 पौधे, आम के 100 पेड़ और अमरूद के 277 पेड़ एक हेक्टेयर में लग सकते हैं. जिले के अधिकारियों की मानें तो उन्हें यह लक्ष्य हासिल करने की पूरी उम्मीद है. वहीं उन्होंने यह भी कहा कि किसानों में इसके लिए इच्छुक हैं और वह आवेदन भी कर रहे हैं.

बता दें कि जिला उद्यान निरीक्षक का मानना है कि लक्ष्य पूरा होगा और केले, आम की खेती पर अनुदान देने से किसानों को लाभ मिलेगा.



English Summary: Farmers of Bijnor district of Uttar Pradesh will get subsidy on cultivation of mango, guava and banana

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in